Investment Tips : यहां डिपॉजिट करने पर बैंक से ज्यादा मिलता है ब्याज, न रिस्क है और न ही टैक्स

देश के ज्यादातर बड़े बैंक एफडी पर अधिकतम 5.50% ब्याज दे रहे हैं

देश के ज्यादातर बड़े बैंक एफडी पर अधिकतम 5.50% ब्याज दे रहे हैं

पोस्ट ऑफिस (Post Office) की नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट (National Savings Certificate) स्कीम आपको 6.8% ब्याज मिल रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 30, 2021, 12:45 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पोस्ट ऑफिस (Post Office) या पोस्ट पेमेंट बैंक कई स्मॉल सेविंग स्कीम्स (Small Saving Schemes) चला रहा है. इन स्कीम्स में निवेश करने पर आपको पैस तो पूरी तरह सुरक्षित हैं और टैक्स फ्री भी हैं. साथ ही आपको फिक्स्ड डिपॉजिट (FD) के मुकाबले ज्यादा ब्याज मिलता है.

आज हम आपको इन्हीं में से एक स्कीम है नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट (NSC)स्कीम के बारे में बता रहे हैं. इसमें पैसा निवेश करने पर आपको 6.8% ब्याज मिलेगा. यह ब्याज दर देश के सभी बड़े बैंकों के फिक्स डिपॉजिट (FD)से ज्यादा है. आपको बता दें कि देश के ज्यादातर बड़े बैंक FD पर अधिकतम 5.50% ब्याज दे रहा है. वहीं, एनएससी में निवेश करने पर इसे इनकम टैक्स की धारा 80 सी के तहत छूट भी मिलती है.

यह भी पढें : नौकरी की बात : टेक्नोलॉजी की वजह से इन जगहों पर नौकरियों की भरमार, जानें सबकुछ 

नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट (NSC) में जानिए क्या फायदे हैं?

पोस्ट ऑफिस नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट (NSC) में निवेश पर 6.8% सालाना ब्याज मिल रहा है. इसमें ब्याज की गणना सालाना आधार पर होती है, लेकिन ब्याज की राशि निवेश की अवधि होने पर ही दी जाती है.

यह भी पढें :  इंटरव्यू में नई स्किल के बेहतर प्रदर्शन से मिलेगी जॉब की गारंटी, जानिए ऐसे ही अहम मंत्र

न्यूनतम एक हजार रुपए का करना होगा निवेश



पोस्ट ऑफिस में एनएससी स्कीम का खाता खुलवाने के लिए आपको न्यूनतम 1000 रुपए निवेश करना होगा. इस खाते को किसी नाबालिग के नाम पर और 3 वयस्कों के नाम पर जॉइंट अकाउंट भी खोला जा सकता है. 10 साल से ज्यादा उम्र के माइनर के नाम भी अभिभावक की देखरेख में खाता खुल सकता है. NSC का लॉक इन पीरियड 5 साल का है. यानी इसमें आपको 5 साल के लिए निवेश करना होगा. इसमें निवेश पर इनकम टैक्स कानून के सेक्शन 80C के तहत 1.5 लाख रुपए तक की रकम पर टैक्स बचा सकते हैं. आप NSC में कितनी भी रकम निवेश कर सकते हैं. इसमें निवेश की कोई अधिकतम सीमा नहीं है.

यह भी पढें : नौकरी की बात: वर्क फ्रॉम होम के चलते वेलनेस ऑफिसर या एम्प्लोयी एक्सपीरियंस एंड कम्युनिकेशन जैसी नई जॉब्स की डिमांड
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज