कोरोना क्राइसिस में पैसों की तंगी से निपटने में यह अकाउंट कर सकता है आपकी बड़ी मदद, जानें सबकुछ

PPF अकाउंट में जमा पर आप लोन भी ले सकते हैं.

PPF अकाउंट में जमा पर आप लोन भी ले सकते हैं.

PPF अकाउंट खोलने के 5 साल बाद फॉर्म 2 भरकर पैसा निकाला जा सकता है. हालांकि इसके लिए आपके फंड से 1% की कटौती की जाएगी.

  • Share this:

नई दिल्ली. कोरोनाकाल में लाेगों को कई संकटों का सामना करना पड़ रहा है. लॉकडाउन में नौकरी जाने से लेकर दुकानें बंद होने से कई लोगों के पास नकदी का संकट खड़ा हो गया है. ऐसे में अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए अपने पब्लिक प्रॉविडेंट फंड (PPF) का अभी इस्तेमाल कर सकते हैं.

यदि आप भी पीपीएफ अकाउंट से पैसा निकालने का प्लान बना रहे हैं. तो पहले आपको PPF से मैच्योरिटी से पहले पैसे निकालने के नियम और इससे पर लगने वाले चार्ज के बारें में पता होना चाहिए. हम आपको PPF से प्री-मैच्योरिटी विड्रॉल के बारे में बता रहे हैं.

यह भी पढ़ें : Success Story : माता-पिता की देखभाल के लिए नौकरी छोड़ टीपीए बिजनेस किया, अब 3000 करोड़ का पोर्टफोलियो

आप 5 साल बाद पैसे निकाल सकते हैं
PPF अकाउंट खोलने वाले साल के बाद 5 साल तक इस खाते से पैसा नहीं निकाला जा सकता. ये अवधि पूरा होने के बाद फॉर्म 2 भरकर पैसा निकाला जा सकेगा. हालांकि 15 साल साल पहले पैसा निकालने पर आपके फंड से 1% की कटौती की जाएगी. यानी आप 5 साल बाद पैसे निकाल सकते हैं.

यह भी पढें : नौकरी की बात : टेक्नोलॉजी की वजह से इन जगहों पर नौकरियों की भरमार, जानें सबकुछ 

जमा पर अधिकतम 25% का लोन ले सकते हैं



पीपीएफ अकाउंट में अपने डिपॉजिट पर आप लोन भी ले सकते हैं. अकाउंट जिस वित्त वर्ष में खुलवाया है उसके खत्म होने के के एक वित्त वर्ष बाद से लेकर पांच साल तक आप लोन ले सकते हैं. जमा पर अधिकतम 25% का लोन ले सकते हैं.

यह भी पढ़ें : सालों में एक बार मिलता है मौका, पैसा कमाना चाहते हैं तो तुरंत करें यह काम

36 महीने में चुकाना होता है लोन

PPF पर लोन लेने पर पहले लोन का मूलधन चुकाना होता है, उसके बाद ब्याज. मूलधन को दो या उससे ज्यादा इंस्टॉलमेंट या मंथली इंस्टॉलमेंट में चुकाया जा सकता है. लोन की मूलधन राशि का भुगतान जिस महीने में लोन लिया गया है, उससे 36 महीने में करना होता है. लोन के लिए प्रभावी ब्याज दर PPF पर मिल रहे ब्याज से केवल 1% ज्‍यादा रहती है. ब्याज को दो मंथली इंस्टॉलमेंट या एकमुश्त चुकाया जा सकता है. अगर आपने नियत समय के अंदर लोन का मूलधन चुका दिया है, लेकिन ब्याज का कुछ हिस्सा बाकी है तो वह आपके PPF अकाउंट से काटा जाता है. अगर 36 महीने में लोन का भुगतान नहीं किया गया है या सिर्फ आंशिक तौर पर उसका भुगतान हुआ है, तो बचे हुए लोन की राशि पर सालाना 6% की दर से ब्याज लगेगा. यह 6% ब्याज दर जिस महीने में लोन लिया है, उसके अगले महीने के पहले दिन से लेकर जिस महीने आखिरी किश्त का भुगतान होगा, उसके आखिरी दिन तक रहेगी. यानी पहले जो ब्याज दर 1% बन रही थी, वह लोन 36 माह के अंदर चुकता नहीं कर पाने पर लोन की शुरुआत से 6% बनेगी.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज