Home /News /business /

आखिर कोरोना के बाद क्यों आ रहा है भारतीयों की आदतों में बड़ा बदलाव? अब क्यूं लगा रहे हैं पैसा जमा करने पर ध्यान

आखिर कोरोना के बाद क्यों आ रहा है भारतीयों की आदतों में बड़ा बदलाव? अब क्यूं लगा रहे हैं पैसा जमा करने पर ध्यान

SBI के जरिए यहां से करें खरीदारी, मिल रहा है भारी डिस्काउंट, आज है आखिरी मौका

SBI के जरिए यहां से करें खरीदारी, मिल रहा है भारी डिस्काउंट, आज है आखिरी मौका

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की एक इकोनॉमिक रिसर्च रिपोर्ट में कहा गया है कि देश भर में लागू लॉकडाउन के दौरान भारतीय बहुत ज्यादा किफायती हो गए हैं.

    नई दिल्ली. स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की एक इकोनॉमिक रिसर्च रिपोर्ट में कहा गया है कि देश भर में लागू लॉकडाउन के दौरान भारतीय बहुत ज्यादा किफायती हो गए हैं. पूरे देश में लागू लॉकडाउन के चार चरणों के बाद यह देखने को मिला है कि बैंकों में पैसे जमा करने की प्रवृत्ति में जोरदार बढ़त हुई है जिससे यह संकेत मिलता है कि लोग खपत पर बहुत सोच-समझकर खर्च कर रहे हैं.

    इस रिपोर्ट में कहा गया है कि पूरे लॉकडाउन 1 से 4 के दौराना भारतीयों ने बचत और अपने पास नकदी बनाए रखने को वरीयता दी. 25 मार्च से 14 अप्रैल तक लागू लॉकडाउन 1 में भारतीयों ने बैकों में करीब 5 ट्रिलियन रुपये जमा किए जबकि 1.76 ट्रिलियन के टर्म डिपॉजिट देखने को मिलें. इस दौरान करेंट अकाउंट डिपॉजिट में 62,757 करोड़ रुपये की गिरावट देखने को मिली. लॉकडाउन 2 के दौरान कुल बैंक डिपॉजिट ग्रोथ में गिरावट देखने को मिली.

    ये भी पढ़ें:- डूबती अर्थव्यवस्था पर PM मोदी का बड़ा बयान, कहा- पटरी पर वापस लौट रही इकोनॉमी

    टर्म डिपॉजिट में काफी मजबूती
    सौम्य कांति घोष के नेतृत्व में बनाई गई एसबीआई की इस रिसर्च रिपोर्ट में कहा गया है कि लॉकडाउन 2 के दौरान बैंकों में होने वाले डिपॉजिट में तो गिरावट देखने को मिली लेकिन टर्म डिपॉजिट में काफी मजबूती देखने को मिली है. बैंकों में आनेवाली जमाओं में सरकार द्वारा इकोनॉमी और आम लोगों को राहत पहुंचाने के लिए बढ़ाए गए खर्च का भी काफी योगदान है.

    4 मई से 17 मई तक लागू लॉकडाउन 3 में जमाओं में गिरावट का ट्रेंड रहा. इस अवधि में सेविंग और करंट डिपॉजिट में काफी बढ़ी गिरावट देखने को मिली. हालांकि इस दौरान 22,845 करोड़ रुपये के टर्म डिपॉजिट हुए. इस तरह के डिपॉजिट ग्रोथ के नेगेटिव हो जाने पर लॉकडाउन 3 के दौरान स्थितियां मुश्किल होने का संकेत है. मुमकिन है कि लोगों ने अपने खर्च के लिए अपनी प्रारंभिक बचत खत्म कर दी हो. इस दौरान कंज्यूमर खर्च में किसी तरह की बढ़त नहीं देखने को मिली है.

    ये भी पढ़ें:- भारत के इस शहर में बिक रहा है सबसे सस्ता पेट्रोल, दिल्ली से 12 रुपये/ लीटर कम

    ज्यादा से ज्यादा बचत बैंक जमाओं में डाल रहे लोग 
    लॉकडाउन के तीसरे चरण में जमाओं में गिरावट के बाद 18 मई से 31 मई तक लागू लॉकडाउन 4 में जमाओं में बढ़त देखने को मिली. इस रिपोर्ट में कहा गया है कि लॉकडाउन 4 में एक बार फिर बैंक जमाओं में बढ़त देखने को मिली है जिससे इस बात के संकेत मिलते है कि कंज्यूमर अपने खर्च को लेकर असमंजस की स्थिति में है और अपनी ज्यादा से ज्यादा बचत बैंक जमाओं में डालना चाहते है.

    लॉकडाउन 5 में भी कंज्यूमर सेविंग में बढ़त देखने को मिलेगी
    इस रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि यह भी संभव है कि बहुत से परिवारों का उपभोग स्तर बहुत कम हो गया हो क्योंकि सोशल डिस्टेसिंग के चलते बहुत सारी चीजें बाजार में उपलब्ध नहीं है. ग्रोसरी, मेडिसिन और दूसरे जीवनावश्क वस्तुओं के अलावा तमाम चीजों की ब्रिक्री और उपभोग में काफी कमी आई है. होटल, रेस्टॉरेंट, ट्रैवलिंग, अम्यूजमेंट पार्क जैसे कारोबार ठप्प पड़ गए है. इस रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि लॉकडाउन 5 में भी कंज्यूमर सेविंग में बढ़त देखने को मिलेगी और बैंक जमाएं बढ़ती दिखेगी.undefined

    Tags: Sbi, SBI Bank, SBI loan

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर