अगस्त के बाद लोन रिपेमेंट पर छूट देने की कोई जरूरत नहीं: SBI चेयरमैन रजनीश कुमार

अगस्त के बाद लोन रिपेमेंट पर छूट देने की कोई जरूरत नहीं: SBI चेयरमैन रजनीश कुमार
भारतीय स्टेट बैंक चेयरमैन रजनीश कुमार

शुक्रवार को SBI चेयरमैन रजनीश कुमार ने कहा कि अगस्त के बाद लोन मोरेटोरियम (Loan Moratorium) की अवधि बढ़ाने की जरूरत नहीं है. एचडीएफसी बैंक के चेयरमैने दीपक पारेख का भी यही मानना है. लेकिन, इस बीच वित्त मंत्री ने संकेत दिया है कि अगस्त के बाद लोन मोरेटोरियम की अवधि बढ़ सकती है.

  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय स्टेट बैंक (SBI) चेयरमैन रजनीश कुमार (Rajnish Kumar) ने शुक्रवार को कहा कि टर्म लोन पर मोरेटोरियम (Loan Moratorium) अवधि को अगस्त के बाद बढ़ाने की जरूरत नहीं है. देश के सबसे बड़े बैंक के चेयरमैन ने कहा, 'अधिकतर बैंकर्स का मानना है कि मोरेटोरियम अवधि को 31 अगस्त के आगे बढ़ाने की कोई जरूरत नहीं है. इसमें मैं भी शामिल हूं.' रजनीश कुमार ने कहा, 'हमें विश्वास है कि लोन मोरेटोरियम के लिए 6 महीने की अव​धि पर्याप्त है.'

इसके पहले प्राइवेट सेक्टर के एचडीएफसी बैंक (HDFC Bank) के चेयरमैन दीपक पारेख (Deepak Parekh) ने भारतीय रिज़र्व बैंक के गवर्नर ​शक्तिकांतदास (Shaktikanta Das) से अनुरोध किया था कि लोन मोरेटोरियम की अवधि को अगस्त के बाद न बढ़ाया जाए.

सक्षम लोग भी टाल रहे रिपेमेंट
पारेख ने कहा, 'प्लीज मोरेटोरियम को अब न बढ़ाएं. हमनें देखा है कि कॉरपोरेट या व्यक्तिगत स्तर पर भी जो लोग लोन की ईएमआई जमा करने में सक्षम हैं, वो भी अपने पेमेंट को टाल रहे हैं. हमने सुना है कि लोन मोरेटोरियम की अवधि बढ़ाने की बात हो रही है. इससे नुकसान होगा, खासतौर पर छोटे स्तर के गैर-बैंकिंग वित्तीय संस्थानों को.'
यह भी पढ़ें:  सबकुछ फ्री में देकर भी आपके जरिए करोड़ों कमाती है Facebook, जानिए कैसे?



वित्त मंत्री ने मोरेटोरियम बढ़ाने का संकेत दिया
इस बीच शुक्रवार को ही फिक्की (Federation of Indian Chambers of Commerce and Industry (FICCI)) के कार्यक्रम में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण  (FM Nirmala Sitharaman) ने कहा कि EMI पर दी गई राहत को आगे बढ़ाने के लिए आरबीआई से बातचीत चल रही है. वित्त मंत्री की इस बात से संकेत मिला है कि केंद्र सरकार लोन मोरेटोरियम की अवधि 31 अगस्त के बाद भी बढ़ाने पर विचार कर रही है.

मार्च से लागू है लोन मोरेटोरियम
कोरोना संक्रमण के आर्थिक असर को देखते हुए आरबीआई ने मार्च में तीन महीने के लिए मोरेटोरियम (लोन के भुगतान में मोहलत) सुविधा दी थी. यह सुविधा मार्च से 31 मई तक तीन महीने के लिए लागू की गई थी. बाद में आरबीआई ने इसे तीन महीनों के लिए और बढ़ाते हुए 31 अगस्त तक के लिए लागू कर दिया था. यानी कुल 6 महीने की मोराटोरियम सुविधा दी गई है.

यह भी पढ़ें: घर में रखे सोने की देनी होगी जानकारी! सरकार ला रही है सबसे बड़ी योजना

SBI का मुनाफा 81 फीसदी बढ़ा
SBI ने शुक्रवार को जून तिमाही के नतीजे भी जारी किए हैं. अप्रैल-जून तिमाही में एसबीआई का मुनाफा 81 फीसदी बढ़कर 4,189.34 करोड़ रुपये हो गया है. बैंक को यह लाभ बैड लोन में कमी आने की वजह से हुआ है. वित्त वर्ष 2020-21 की पहली तिमाही में एसबीआई का स्टैंडअलोन इनकम 74,457.86 करोड़ रुपये रहा है. ​पिछले साल की समान अवधि में यह 70,653.23 करोड़ रुपये था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading