लाइव टीवी

SBI चेयरमैन ने कहा- विजय माल्या से लोन सेटलमेंट का कोई प्रस्ताव नहीं मिला

News18Hindi
Updated: December 11, 2018, 2:05 PM IST
SBI चेयरमैन ने कहा- विजय माल्या से लोन सेटलमेंट का कोई प्रस्ताव नहीं मिला
रजनीश कुमार, चेयरमैन, SBI (फाइल फोटो)

देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक एसबीआई के चेयरमैन रजनीश कुमार का कहना है कि विजय माल्या की ओर से सेटलमेंट का कोई प्रस्ताव नहीं मिला है. विजय माल्या पर एसबीआई का 1600 करोड़ रुपये बकाया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 11, 2018, 2:05 PM IST
  • Share this:
देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक एसबीआई के चेयरमैन रजनीश कुमार का कहना है कि विजय माल्या की ओर से सेटलमेंट का कोई प्रस्ताव नहीं मिला है. विजय माल्या पर एसबीआई का 1600 करोड़ रुपये बकाया है. आपको बता दें कि भारतीय कारोबारी विजय माल्या का प्रत्यर्पण ब्रिटेन के कोर्ट ने मंज़ूर कर दिया है. मैजिस्ट्रेट कोर्ट के फ़ैसले के ख़िलाफ़ हाई कोर्ट में अपील करने के लिए विजय माल्या के पास 14 दिनों का समय होगा.

2016 में चले गए थे ब्रिटेन- विजय माल्या मार्च 2016 से भारत छोड़कर ब्रिटेन चले गए थे. उन पर आरोप हैं कि उन्होंने अपनी किंगफ़िशर एयरलाइन कंपनी के बैंकों से कर्ज़ लिया और उसे बिना चुकाए वे विदेश चले गए. कर्ज़ की यह रकम करीब 9 हज़ार करोड़ रुपए बताई जाती है. किंगफ़िशर एयरलाइन ख़स्ताहाल होने के बाद बंद हो चुकी है.

क्यों भारत नहीं आना चाहते माल्या- अगर माल्या को भारत लाया जाता है तो उन्हें मुंबई की आर्थर रोड जेल की बैरक नंबर 12 में रखा जाएगा. सुनवाई के दौरान इस जेल को भी बचाव पक्ष ने मुद्दा बनाया गया.

बचाव पक्ष ने जेल की हालत बुरी होने का दावा करते हुए मानवाधिकारों के आधार पर मामले पर विचार करने की अपील की थी. जज ने इस संबंध में मुंबई की आर्थर रोड स्थित जेल का वीडियो मंगाया था और उसके बाद इस संबंध में और जानकारी की ज़रूरत होने से इनकार कर दिया था.



12 सितंबर को विजय माल्या ने एक और दावा करके भारत में खलबली मचा दी. उन्होंने पत्रकारों से कहा कि 2016 में भारत छोड़ने से पहले उनकी वित्त मंत्री अरुण जेटली से मुलाक़ात हुई थी. हालांकि वित्त मंत्री ने इस दावे को ख़ारिज कर दिया था.



कितने कर्जदार है विजय माल्या

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 11, 2018, 1:37 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर