Home /News /business /

राजनीति दलों को चंदा देने के लिए खरीदें चुनावी बॉन्ड, SBI के इन ब्रांचों में होगी बिक्री

राजनीति दलों को चंदा देने के लिए खरीदें चुनावी बॉन्ड, SBI के इन ब्रांचों में होगी बिक्री

भारतीय स्टेट बैंक (SBI) को अपनी 29 अधिकृत शाखाओं के जरिए 1 से 10 जनवरी, 2019 के दौरान इन बॉन्ड्स को जारी करने और भुनाने के लिए ऑथराइज्ड किया गया है.

भारतीय स्टेट बैंक (SBI) को अपनी 29 अधिकृत शाखाओं के जरिए 1 से 10 जनवरी, 2019 के दौरान इन बॉन्ड्स को जारी करने और भुनाने के लिए ऑथराइज्ड किया गया है.

भारतीय स्टेट बैंक (SBI) को अपनी 29 अधिकृत शाखाओं के जरिए 1 से 10 जनवरी, 2019 के दौरान इन बॉन्ड्स को जारी करने और भुनाने के लिए ऑथराइज्ड किया गया है.

    किसी राजनीतिक पार्टी को चंदा देने के लिए आप 1 जनवरी से इलेक्टोरल बॉन्ड (Electoral Bonds) यानी चुनावी बॉन्ड खरीद सकेंगे. चुनावी बॉन्ड (Electoral Bonds) की सातवीं खेप की बिक्री 1 से 10 जनवरी तक की जाएगी. चुनावी बॉन्ड योजना को राजनीतिक चंदे के लिए नकदी के एक विकल्प के रूप में पेश किया गया है. राजनीतिक दलों को मिलने वाले चंदे में पारर्दिशता लाने के लिए यह व्यवस्था शुरू की गई है.

    ये भी पढ़ें: रेलवे से यात्रा करने वाले बुजुर्गों-महिलाओं के लिए खुशखबरी, ज्यादा मिलेंगी नीचे की सीटें

    मंत्रालय ने बयान में कहा कि इस योजना के तहत भारतीय स्टेट बैंक (SBI) को अपनी 29 अधिकृत शाखाओं के जरिए 1 से 10 जनवरी, 2019 के दौरान इन बॉन्ड्स को जारी करने और भुनाने के लिए ऑथराइज्ड किया गया है. इलेक्टोरल बॉन्ड के छठे चरण यानी नवंबर, 2018 तक नागरिकों और इकाइयों ने 1,056.73 करोड़ रुपये के बॉन्ड्स की खरीद की.

    ये भी पढ़ें: एक साल में BJP को मिले 1027.34 करोड़ रुपये, कांग्रेस ने नहीं बताई आय: रिपोर्ट

    इन SBI ब्रान्च में मिलेंगे- एसबीआई की जिन 29 शाखाओं को इन बॉन्ड्स को जारी करने के लिए अधिकृत किया गया है, उनमें नई दिल्ली, गांधीनगर, पटना, चंडीगढ़, बेंगलुरु, भोपाल, मुंबई, जयपुर, लखनऊ, चेन्नई, कोलकाता और गुवाहाटी की शाखाएं शामिल हैं.

    ये भी पढ़ें: बिजनेस के लिए पैसा चाहिए, तो रतन टाटा करेंगे मदद

    इस साल जनवरी में आए थे इलेक्टोरल बॉन्ड- सरकार ने इलेक्टोरल बांड योजना को इस साल जनवरी में अधिसूचित किया था. इस योजना के प्रावधान के तहत इन बॉन्ड्स की खरीद भारत के नागरिक या भारत में स्थापित इकाइयों द्वारा की जा सकती है. ऐसे रजिस्टर्ड राजनीतिक दल जिन्हें लोकसभा के पिछले चुनावों या विधानसभा चुनावों में एक प्रतिशत या उससे अधिक मत मिले हैं, वे चुनावी बॉन्ड के जरिए चंदा लेने के पात्र हैं.

    ये भी पढ़ें: नए साल से बदल जाएगी मोदी सरकार की ये खास पेंशन स्कीम

    Tags: Arun Jaitely, Business news in hindi, Election 2019, Electoral bond, Finance Minister, General Election 2019, Lok Sabha 2019 Election, Sbi, SBI Bank

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर