लाइव टीवी

SBI ने ग्राहकों को दिया नए साल का तोहफा, 1 जनवरी से 7.90% ब्याज दर पर मिलेगा होम लोन

News18Hindi
Updated: December 30, 2019, 3:40 PM IST
SBI ने ग्राहकों को दिया नए साल का तोहफा, 1 जनवरी से 7.90% ब्याज दर पर मिलेगा होम लोन
घट गई होम लोन की EMI

एसबीआई (SBI) ने एक्सटर्नल बेंचमार्क लेंडिंग रेट (External Benchmark Lending Rate) 0.25 फीसदी यानी 25 बेसिस प्वाइंट घटा दी है. इस कटौती के बाद एक्सटर्नल बेंचमार्क बेस्ड रेट (EBR) 8.05 फीसदी से घटकर 7.80 फीसदी सालाना हो गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 30, 2019, 3:40 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश का सबसे बड़ा बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) नए साल पर ग्राहकों को बड़ा तोहफा दिया है. एसबीआई (SBI) ने एक्सटर्नल बेंचमार्क लेंडिंग रेट (External Benchmark Lending Rate) 0.25 फीसदी यानी 25 बेसिस प्वाइंट घटा दी है. इस कटौती के बाद एक्सटर्नल बेंचमार्क बेस्ड रेट (EBR) 8.05 फीसदी से घटकर 7.80 फीसदी सालाना हो गया है. नई व्यवस्था 1 जनवरी 2020 से लागू होगी. बता दें कि SBI ने एमएसएमई (MSME), हाउसिंग (Housing) और रिटेल लोन (Retail Loan) के सभी फ्लोटिंग रेट लोन को एक्सटर्नल बेंचमार्क रेपो रेट (Repo Rate) से जोड़ने का फैसला किया है.

ये हैं 4 बेंचमार्क
बेंचमार्क में रिजर्व बैंक का रेपो रेट, फाइनेंशियल बेंचमार्क्स इंडिया प्राइवेट लिमिटेड (FBIL) की ओर से प्रकाशित भारत सरकार के 3 महीने के ट्रेजरी बिल पर दिया जाने वाला रेट, FBIL की ओर से प्रकाशित भारत सरकार के 6 महीने के ट्रेजरी बिल पर दिया जाने वाला रेट और FBIL की ओर से प्रकाशित कोई दूसरा बेंचमार्क रेट शामिल है. आरबीआई ने इनमें से किसी भी बाजार ब्याज दर मानक में से एक को चुनने का विकल्प दिया था. ये भी पढ़ें: सरकारी कर्मचारियों को नए साल का तोहफा दे सकती है मोदी सरकार, ₹10 हजार तक बढ़ जाएगी सैलरी



7.90 फीसदी ब्याज दर पर लें होम लोन
SBI ने होम लोन (Home Loan) पर ब्याज दरें घटा दी है. 1 जनवरी 2020 से आपको 0.25 फीसदी कम ब्याज देना होगा. SBI ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी है.

RBI के निर्देशों के अनुसार, SBI ने पहली अक्टूबर 2019 से EBR आधारित ब्याज की व्यवस्था लागू की है. बैंक ने इसके तहत 1 अक्टूबर 2016 से सूक्षम, लघु और मझोले उद्यमों, आवास खरीदारों तथा खुदरा ग्राहकों के लिए परिवर्तनशील दर पर लिए गए लोन का ब्याज रिजर्व बैंक की रेपो रेट (जिस दर पर वह बैंकों को फौरी जरूरत के लिए नकद धन देता है) में घट बढ़ के आधार पर समायोजित करने का निर्णय लागू किया है. इसके तहत बैंक तीन माह एक बार अपने कर्ज की ब्याज दरों को समायोजित कर सकते हैं.

RBI ने इस वर्ष फरवरी से कुल मिला कर रेपो दर 1.35 प्रतिशत कम की है. लेकिन बैंक उसका लाभ ग्राहकों को देने में धीमे रहे हैं. उनकी ओर से ब्याज में औसतन 0.44 प्रतिशत की ही कटौती की गयी है.



मिनटों में लें लोन का अप्रूवल
SBI के ऑफर के तहत अगर आप YONOSBI के जरिए 31 दिसंबर से पहले होम लोन के लिए अप्लाई करते हैं तो आपके लोन को इंस्टेंट इन-प्रिंसिपल अप्रूवल (In-principal approval) दे दिया जाएगा. बैंक के मुताबिक, लोन पर प्रोसेसिंग फीस कम होगी और कोई हिडन चार्ज नहीं होगा. साथ ही लोन के प्री-पेमेंट पर पेनल्टी भी नहीं लगेगी.

SBI के पास 30 लाख करोड़ रुपये ज्यादा जमा
एसेट्स, डिपॉजिट्स, ब्रांचेज, कस्टमर्स और कर्मचारियों के लिहाज से SBI देश का सबसे बड़ा कर्मशियल बैंक है. यह देश का सबसे बड़ा मोर्गेज लेंडर होने का दावा करता है. 30 सितंबर 2019 तक, बैंक के पास 30 लाख करोड़ रुपये ज्यादा जमा है. CASA अनुपात में 45 फीसदी से थोड़ा ज्यादा और करीब 22.5 लाख करोड़ रुपये है. एसबीआई मुताबिक, होम लोन और ऑटो लोन में बैंक की 25% बाजार हिस्सेदारी है.

ये भी पढ़ें:
3 लाख कमाने का मौका! बेहद कम पैसा लगाकर शुरू कर सकते हैं ये बिजनेस
LIC की इस स्कीम में बच्चे के लिए रोज बचाएं 206 रुपये, 27 लाख का हो जाएगा इंतजाम

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 30, 2019, 10:09 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर