आपका घर दिलाएगा घर बैठे पेंशन, SBI समेत कई बैंकों ने शुरू की नई स्कीम

अगर आप भी प्राइवेट कंपनी में नौकरी करते हैं और अपने भविष्य को लेकर चिंतित है तो आपको अब टेंशन लेने की जरुरत नहीं है. आज हम आपको रिटायरमेंट के बाद आपका घर कैसे आपको पेंशन दिलाएगा इसकी जानकारी दे रहे है.

News18Hindi
Updated: April 19, 2019, 4:42 PM IST
आपका घर दिलाएगा घर बैठे पेंशन, SBI समेत कई बैंकों ने शुरू की नई स्कीम
अगर आप भी प्राइवेट कंपनी में नौकरी करते हैं और अपने भविष्य को लेकर चिंतित है तो आपको अब टेंशन लेने की जरुरत नहीं है. आज हम आपको रिटायरमेंट के बाद आपका घर कैसे आपको पेंशन दिलाएगा इसकी जानकारी दे रहे है.
News18Hindi
Updated: April 19, 2019, 4:42 PM IST
अक्सर लोग घर खरीदने में अपनी जमा पूंजी का बड़ा निवेश कर देते हैं जिसके बाद उनके पास रिटायरमेंट के बाद उनकी नियमित आय का कोई जरिया नहीं बचता है. अगर आप भी प्राइवेट कंपनी में नौकरी करते हैं और अपने भविष्य को लेकर चिंतित है तो आपको अब टेंशन लेने की जरुरत नहीं है. आज हम आपको रिटायरमेंट के बाद आपका घर कैसे आपको पेंशन दिलाएगा इसकी जानकारी दे रहे है.

रिटायरमेंट के बाद आपका घर भी आपके लिए पेंशन के तौर पर हर माह एक नि‍श्चित रकम का इंतजाम कर सकता है. भारतीय स्‍टेट बैंक यानी एसबीआई और पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) सहित दूसरे बैंकों की रिवर्स मोर्गेज स्‍कीम आपको हर माह एक निश्चित रकम का विकल्‍प देती है. आगे जानें इस स्कीम के बारे में सब कुछ.





क्‍या है रिवर्स मोर्गेज स्‍कीम: बैंकों की रिवर्स मोर्गेज स्‍कीम 60 वर्ष से अधिक उम्र के व्‍यक्तियों को नियमित इनकम का विकल्‍प देती है. इसके लिए उनके पास अपना घर होना चाहिए. इस स्‍कीम के तहत बैंक घर के ओनर को रेजीडेंशियल प्रॉपर्टी अगेंस्‍ट हर माह एक तय रकम देता एक तय समय तक देता है. इसके बदले में रेजीडेंसियल प्रॉपर्टी बैंक के पास गिरवी रहती है.(ये भी पढ़ें: SBI ग्राहक ध्यान दें: अब घर बैठे ऐसे जमा करें एफडी से जुड़ा ये जरूरी फॉर्म, ब्रांच का भी बदला नियम)

इस स्‍कीम के तहत मालिक को बैंक को यह पैसा वापस नहीं करना होता है. बैंक रेजीडेंसियल प्रॉपर्टी गिरवी रखने पर हर माह कितना पैसा देगा, यह प्रॉपर्टी की कीमत पर निर्भर करता है. इसके अलावा मालिक अपने घर में रह सकता है. रिवर्स मोर्गेज स्‍कीम के तहत अपना घर गिरवी रखने वाले व्‍यक्ति की मृत्‍यु के बाद घर बैंक का हो जाता है. अगर उस व्‍यक्ति के परिवार वाले चाहें तो बैंक को घर की कीमत चुका कर घर खरीद सकते हैं.



कौन उठा सकता है स्कीम का फायदा: कोई भारतीय जिसकी उम्र 60 वर्ष है इस स्कीम के के तहत अपना घर गिरवी रखने के लिए आवेदन कर सकता है. अगर पति और पत्नी मिल कर स्कीम के तहत आवेदन कर रहे हैं तो पत्नी की उम्र कम से कम 58 साल होनी चाहिए. इस स्कीम के तहत बैंक 10 से 15 साल के लिए आवेदक को हर माह एक तय रकम देता है. एबीआई इस स्कीम के तहत 3 लाख रुपए से 1 करोड़ रुपए तक का लोन देता है. महिलाओं ओर अन्य लोगों को एसबीआई इस स्कीम के तहत 11 फीसदी ब्याज दर पर लोन देता है. वहीं एसबीआई पेंशनर्स को सालाना 10 फीसदी ब्याज दर पर यह लोन मिलता है.
Loading...

(ये भी पढ़ें: 5 साल में 15 लाख रुपये पाने का आसान तरीका! इसी महीने शुरू करें प्लानिंग!)

किसके लिए फायदेमंद: अगर किसी के पास रिटायरमेंट के बाद अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए इनकम का कोई स्रोत नही है और उसके पास अपना घर है तो उस व्यक्ति के लिए यह स्कीम काम की हो सकती है. वह व्यक्ति इस स्कीम के तहत अपना घर गिरवी रख कर बैंक से हर माह एक तय रकम ले सकता है और रिटायरमेंट के बाद आराम की जिंदगी जी सकता है. उस व्यक्ति को अपनी न्यूनतम जरूरतें पूरी करेन के लिए मुश्किलों का सामना नहीं करना होगा.

भारत में सिर्फ 7 फीसदी युवाओं के पास है पेंशन कवर: एक अनुमान के मुताबिक मौजूदा समय में देश में सिर्फ 7 फीसदी युवाओं के पास पेंशन का कवर है. यानी उनको रिटायरमेंट के बाद पेंशन मिलेगी. बाकी 93 फीसदी युवाओं के पास पेंशन की सुविधा नहीं होगी. ऐसे में जब तक देश में सभी लोगों के लिए पेंशन की व्यवस्था नहीं होती है रिवर्स मोर्गेज स्कीम लोगों को रिटायरमेंट के बाद गरिमापूर्ण जीवन जीने का विकल्प देती है.

ये भी पढ़ें: रेल यात्री ध्यान दें! घर बैठे कैंसिल करें स्टेशन के काउंटर का टिकट, ये हैं रिफंड का पूरा पैसा वापस पाने का तरीका

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsAppअपडेट्स
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...

News18 चुनाव टूलबार

  • 30
  • 24
  • 60
  • 60
चुनाव टूलबार