SBI ने ग्राहकों को दिया बड़ा तोहफा: अब इतनी कमी होगी आपके होम, पर्सनल और ऑटो लोन की EMI

SBI ने त्योहारों से पहले अपने ग्राहकों को बड़ा तोहफा दिया हैं. बैंक ने होम, (SBI Home, Auto Personal Loan) ऑटो और पर्सनल लोन की EMI को घटा दिया है.

News18Hindi
Updated: September 9, 2019, 11:43 AM IST
SBI ने ग्राहकों को दिया बड़ा तोहफा: अब इतनी कमी होगी आपके होम, पर्सनल और ऑटो लोन की EMI
SBI ने ग्राहकों को दिया बड़ा तोहफा! अब इतने कमी होगी आपके होम, पर्सनल और ऑटो लोन की EMI
News18Hindi
Updated: September 9, 2019, 11:43 AM IST
नई दिल्ली. देश के सबसे बड़े बैंक सरकारी बैंक State Bank of India (SBI) ने अपने ग्राहकों के लिए बड़ा ऐलान किया है. बैंक ने  MCLR में कटौती की है. बैंक की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि सभी अवधि के लिए एमसीएलआर में कटौती  MCLR में 10 बेसिस प्वाइंट यानी 0.10 फीसदी की कटौती की गई है. अब 1 साल की MCLR की ब्याज दर 8.25 फीसदी से घटकर 8.15 फीसदी पर आ गई है. नई दरें 10 सितंबर से लागू होंगी. मतलब साफ है कि बैंक ने एमसीएलआर घटा दिया हैं. इसके बाद आप अगर होम, ऑटो (SBI Loan Products)और पर्सनल लोन लेने की सोच रहे हैं तो आपके लिए खुशखबरी है. वहीं, आप अगर इन दोनों बैंकों के मौजूदा ग्राहक हैं तो भी आपको घटी दरों का फायदा मिलेगा.

कितनी कम होगी आपकी EMI- RBI द्वारा रेपो रेट में कटौती किए जाने के बाद SBI ने MCLR पर आधारित लोन की दरें घटा दी है. अब हर महीने EMI पर 0.10% तक सस्ती हो गई है.

MCLR के कम होने से आपको मिलेगा सीधा फायदा- आपको बता दें कि बैंकों द्वारा MCLR बढ़ाए या घटाए जाने का असर नए लोन लेने वालों के अलावा उन ग्राहकों पर पड़ता है, जिन्होंने अप्रैल 2016 के बाद लोन लिया हो.

ये भी पढ़ें-RTI में हुआ खुलासा, पहली तिमाही में SBI में हुई सबसे ज्यादा धोखाधड़ी



>> दरअसल अप्रैल 2016 से पहले रिजर्व बैंक द्वारा लोन देने के लिए तय मिनिमम रेट बेस रेट कहलाती थी. यानी बैंक इससे कम दर पर कस्टमर्स को लोन नहीं दे सकते थे.

>> 1 अप्रैल 2016 से बैंकिंग सिस्टम में MCLR लागू हो गई और यह लोन के लिए मिनिमम दर बन गई. यानी उसके बाद MCLR के आधार पर ही लोन दिया जाने लगा.
Loading...

वित्त वर्ष 2019-20 में यह पांचवीं बार है जब एसबीआई ने अपनी MCLR की दरों में कटौती की है.

कार खरीदना भी हुआ सस्ता- SBI ने हाल में कार लोन पर प्रोसेसिंग फीस नहीं लेने का पैसला किया है. आप कोई भी लोन लेने के लिए अप्लाई करते हैं तो बैंक आपसे लोन लेने पर प्रोसेसिंग फीस वसूलता है.

>> आमतौर पर पर्सनल लोन का ऑफर दो तरह का होता है. एक तरह के ऑफर में आपको प्रोसेसिंग फीस देनी होती है. इसके अलावा आपको सभी जरूरी दस्‍तावेज की कॉपी देनी होती है. पर्सनल लोन में प्रोसेसिंग फीस के रूप में 2-3 फीसदी चार्ज लगता है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 9, 2019, 11:11 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...