लाइव टीवी

अगले साल आर्थिक वृद्धि लुढ़क कर 2.6 पर आने की आशंका: रिपोर्ट

भाषा
Updated: March 26, 2020, 10:48 PM IST
अगले साल आर्थिक वृद्धि लुढ़क कर 2.6 पर आने की आशंका: रिपोर्ट
चौथी तिमाही में जीडीपी वृद्धि दर 2.5 प्रतिशत रहने का अनुमान है.

SBI रिसर्च की रिपोर्ट इकोरैप के अनुसार 2019-20 में जीडीपी (सकल घरेलू उत्पाद) वृद्धि दर भी 5 प्रतिशत से घटकर 4.5 प्रतिशत रह सकती है. इसका कारण चालू वित्त वर्ष की चौथी तिमाही में जीडीपी वृद्धि दर 2.5 प्रतिशत रहने का अनुमान है.

  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस महामारी के कारण ‘लॉकडाउन’ के चलते अगले वित्त वर्ष 2020-21 में आर्थिक वृद्धि दर तेजी से घटकर 2.6 प्रतिशत पर आ सकती है. SBI रिसर्च की रिपोर्ट इकोरैप के अनुसार 2019-20 में जीडीपी (सकल घरेलू उत्पाद) वृद्धि दर भी 5 प्रतिशत से घटकर 4.5 प्रतिशत रह सकती है. इसका कारण चालू वित्त वर्ष की चौथी तिमाही में जीडीपी वृद्धि दर 2.5 प्रतिशत रहने का अनुमान है.

पहली तिमाही में गिरावट की आशंक
रिपोर्ट के अनुसार, ‘‘लॉकडाउन को देखते हुए हमारा अनुमान है कि देश की जीडीपी वृद्धि दर 2020-21 में 2.6 प्रतिशत पर आ सकती है. अगले वित्त वर्ष की पहली तिमाही में आर्थिक वृद्धि दर में गिरावट की आशंका है, इससे कुल मिलाकर वृद्धि दर नीचे जाती दिख रही है.’’

यह भी पढ़ें: 80 करोड़ लोगों को 3 महीने तक 5 किलो अनाज और 1 किलो दाल मुफ्त देगी सरकार



प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस को फैलने से रोकने को लेकर बुधवार से 21 दिन के लिये देशभर में गतिविधियों और आवागमन पर रोक लगाई है. इस दौरान लोगों को घरों में रहने को कहा गया है.

चालू तिमाही में भी घटेगी जीडीपी ग्रोथ रेट
रिपोर्ट के अनुसार चालू वित्त वर्ष में भी जीडीपी वृद्धि दर 5 प्रतिशत से नीचे 4.5 प्रतिशत तक जा सकती है. इसका कारण चौथी तिमाही (जनवरी से मार्च 2020) में आर्थिक वृद्धि दर का 2.5 प्रतिशत तक नीचे आने की आशंका है.

यह भी पढ़ें: 20.50 करोड़ महिलाओं के खाते में सरकार हर महीने 500 रुपये ट्रांसफर करेगी

बाजार मूल्य में भारी गिरावट की आशंका
इकोरैप में कहा गया है कि इस बंद के कारण बाजार मूल्य आधार पर कम-से-कम 8.03 लाख करोड़ रुपये का नुकसान होगा जबकि आय के मामले मे 1.77 लाख करोड़ रुपये का घाटा हो सकता है. वहीं पूंजी आय में 1.65 लाख का नुकसान हो सकता है.

आय नुकसान सबसे ज्यादा कृषि, परिवहन, होटल, व्यापार और शिक्षा के क्षेत्र में होगा. हालांकि प्रोत्साहन उपायों से अर्थव्यवस्था फिर से पटरी पर आ सकती है.’’

यह भी पढ़ें: अन्न-धन और गैस की चिंता खत्म, किसानों-मजदूरों के लिए सरकार ने किए 10 बड़े ऐलान

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 26, 2020, 10:48 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर