Home /News /business /

sbi said it is redundant to blame rbi for inflation the rise in prices came due to this reason jst

एसबीआई ने कहा- महंगाई के लिए आरबीआई दोषी नहीं, निकट भविष्य में कीमतें घटने की संभावना नहीं

आरबीआई ने रेपो रेट में असामयिक वृद्धि की थी.

आरबीआई ने रेपो रेट में असामयिक वृद्धि की थी.

एसबीआई ने खुदरा महंगाई दर के कई वर्षों के सर्वोच्च स्तर पर पहुंचने के बाद आरबीआई का बचाव किया है. अपनी ताजा रिपोर्ट में बैंक ने कहा है कि इसके लिए आरबीआई को दोष देना ठीक नहीं है. बता दें कि अप्रैल के लिए सीपीआई 7.79 फीसदी दर्ज हुआ है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. भारतीय स्टेट बैंक की रिसर्च रिपोर्ट इकोरैप में बैंक ने कहा है कि महंगाई में वृद्धि का मुख्य कारण रूस-यूक्रेन युद्ध है. रिपोर्ट के अनुसार, आरबीआई को इसके लिए दोष देना बेमानी है. साथ ही यह भी कहा गया है कि निकट भविष्य में महंगाई के कम होने की कोई संभावना नहीं है.

रिपोर्ट के अनुसार, ग्रामीण क्षेत्रों में खाने की वस्तुओं के दाम अधिक हैं और शहरी इलाकों में यह बहुत अधिक हो गए हैं. फरवरी से अब तक बढ़ी कुल महंगाई में खाद्य व पेय पदार्थ, ईंधन, बिजली और ट्रांसपोर्ट ने 52 फीसदी का योगदान दिया है.

ये भी पढ़ें- मंदी के मुहाने पर खड़ा है अमेरिका, इसे टालना बड़ा ही मुश्किल : गोल्डमैन के एक्सपर्ट

59 फीसदी महंगाई युद्ध से बढ़ी
रिपोर्ट में कहा गया है कि अगर विशेष रूप से एफएमसीजी क्षेत्र में आ रही इनपुट लागत और पर्सनल केयर संबंधी वस्तुओं को भी महंगाई के फैक्टर में शामिल किया जाए तो कुल महंगाई का 59 फीसदी हिस्सा केवल रूस-यूक्रेन युद्ध के कारण बढ़ा है. बकौल रिपोर्ट, यह लगभग तय है कि मुद्रास्फीति की बढ़ोतरी को काबू करने के लिए आरबीआई जून और अगस्त में फिर से दरों में वृद्धि कर सकता है. हालांकि, युद्ध जारी रहने तक ब्याज दरें घटाने से मुद्रास्फीति में कमी आएगी या नहीं इस पर कुछ कहा नहीं जा सकता है. रिपोर्ट में ब्याज दरें बढ़ाने के लिए आरबीआई की प्रशंसा और समर्थन करते हुए कहा गया है कि यह वित्तीय प्रणाली के लिए भी सकारात्मक साबित होगा. रिपोर्ट में आरबीआई को भारतीय टाइमजोन में ऑनशोर मार्केट की बजाय एनडीएफ में हस्पतक्षेप करने की सलाह दी गई है.

अचानक बढ़ाया गया रेपो रेट
आरबीआई ने असामयिक मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की बैठक में रेपो रेट को 40 बेसिस पॉइंट बढ़ा दिया था. वहीं, इससे पहले अप्रैल में हुई बैठक में इसमें कोई वृद्धि नहीं की गई थी जबकि महंगाई दर तब आठ माह के उच्च स्तर पर पहुंच चुकी थी. 12 मई को अप्रैल के लिए जारी हुआ उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) 7.79 फीसदी के साथ कई वर्षों के उच्चतम स्तर पर पहुंच गया था. गौरतलब है कि अगर लगातार 3 तिमाहियों में खुदरा महंगाई दर आरबीआई के संतोषजनक दायरे (2-6 फीसदी) के बाहर रहती है तो इसे केंद्रीय बैंक की नाकामी के रूप में देखा जाता है.

Tags: Inflation, RBI, Sbi

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर