ऑनलाइन ठगी को रोकने के लिए SBI भेज रहा है ग्राहकों को एक खास चिट्ठी

ऑनलाइन ठगी को रोकने के लिए SBI भेज रहा है ग्राहकों को एक खास चिट्ठी
ऑनलाइन ठगी को रोकने के लिए SBI भेज रहा है ग्राहकों को एक खास चिट्ठी

देश का सबसे बड़ा सरकारी बैंक SBI अपने ग्राहकों को एक चिट्ठी भेज रहा है. कोरोना काल में देश में ऑनलाइन ठगी (Online Fraud) के मामले बढ़ रहे हैं जिसको देखते हुए एसबीआई (SBI) अपने ग्राहकों को चिट्ठी लिख सुरक्षित बैंकिंग (Safe Banking) के बारे में जानकारी दे रहा है.

  • Share this:
नई दिल्ली. देश का सबसे बड़ा सरकारी बैंक SBI अपने ग्राहकों को एक चिट्ठी भेज रहा है. कोरोना काल में देश में ऑनलाइन ठगी (Online Fraud) के मामले बढ़ रहे हैं जिसको देखते हुए एसबीआई (SBI) अपने ग्राहकों को चिट्ठी लिख सुरक्षित बैंकिंग (Safe Banking) के बारे में जानकारी दे रहा है. बैंक की तरफ से एक चिट्ठी भेजी जा रही है जिसमें जालसाजों द्वारा धोखाधड़ी के लिए अपनाए जाने वाले तरीकों के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई है.

आइये बताते है क्या लिखा है इस लैटर में
बैंक का कहना है कि जालसाज व्यक्ति कोविड-19 से संबन्धित विभिन्न संस्थाओं/संगठनों तथा गवर्नमेंट एजेंसीज, धार्मिक ट्रस्ट, फ़ाउंडेशन आदि की नकल कर सकते हैं. ये जालसाज अपने आप को गवर्नमेंट रेवेन्यू अथॉरिटीज के अधिकारी/प्रतिनिधि या हेल्थ केयर वर्कर या हेल्थ केयर ग्रुप/संस्था के प्रतिनिधि के रूप में प्रस्तुत करते हुए इस प्रकार मैसेज भेज सकते हैं जैसे कि ये किसी सरकारी, हेल्थकेयर या अन्य किसी कानून सम्मत संस्था से आया हुआ प्रतीत हो. इसमें आपसे किसी प्रकार के दान/चेरिटी या कोविड-19 के नाम पर रिलीफ़/केयर फ़ंड या फ़ाउंडेशन में भुगतान प्राप्त करने की अपेक्षा/पेशकश की जा सकती है.

ये भी पढ़ें:- इंश्योरेंस पॉलिसी ली है तो रहें सावधान, नहीं तो हो सकते हैं फ्रॉड के शिकार
किसी के साथ नहीं शेयर करें ये जानकारियां


SBI के महाप्रबंधक की ओर से भेजी गई इस चिट्ठी में कहा गया है कि एसएमएस, ईमेल या सोशल मीडिया द्वारा प्राप्त अनजान एटेचमेंट को डाउनलोड न करें/अनजान लिंक क्लिक न करें, इनके द्वारा आपकी पर्सनल या वित्तीय/फ़ाइनेंसियल सूचना चुराई जा सकती है. और तो और इनके द्वारा आपके मोबाइल, लैपटाप/डेस्कटॉप के ऊपर कंट्रोल भी प्राप्त किया जा सकता है. अपने खाते से संबन्धित किसी भी तरह की जानकारी किसी के साथ शेयर ना करें, विशेषकर किसी अनजान व्यक्ति के साथ कतई नहीं. अपना पिन और पासवर्ड गुप्त रखें. समय-समय पर बैंक से संबंधित पासवर्ड बदलें.

इन नंबरों पर न करें भरोसा
इस चिट्ठी में ग्राहकों को सावधान करते हुए कहा गया है कि फोन, ईमेल, एसएमएस या किसी भी लिंक पर अपने खाते का विवरण/आईएनबी क्रेडेंशियल अर्थात आपके खाते की इंटरनेट संबंधी जानकारी/एटीएम कार्ड विवरण आदि किसी को न दें.

ये भी पढ़ें:- 25-30 साल की है उम्र तो शुरू करें ये काम बन जाएंगे करोड़पति, सेफ है Investment

बैंक आपसे कोई पासवर्ड मांगने के लिए नहीं करता है कॉल
हमारा बैंक या हमारा कोई भी प्रतिनिधि ग्राहकों की व्यक्तिगत जानकारी, पासवर्ड या वन टाइम एसएमएस (उच्च सुरक्षा) पासवर्ड प्राप्त करने के लिए कभी भी ईमेल / एसएमएस या कॉल नहीं करता है. कृपया हमेशा ध्यान रखें कि शाखा संपर्क विवरण प्राप्त करने के लिए गूगल सर्च इंजन पर उपलब्ध संपर्क नंबर और विवरण पर भरोसा न करें. इस उद्देश्य के लिए केवल हमारी अधिकृत एसबीआई वेबसाइट का उपयोग करें. आप इस तरह के धाखाधड़ी पूर्ण प्रस्तावों / घटनाओं का विवरण तुरंत स्थानीय पुलिस अधिकारियों अथवा नजदीकी एसबीआई शाखा को भी सूचित कर सकते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading