SEBI ने स्टार्टअप के लिए की नये नियमों की घोषणा, होगा ये फायदा

भाषा
Updated: August 22, 2019, 12:22 PM IST
SEBI ने स्टार्टअप के लिए की नये नियमों की घोषणा, होगा ये फायदा
सेबी ने स्टार्टअप को एक साल बाद मुख्य शेयर बाजार में स्थानांतरित होने के नियमों को मंजूरी दी

SEBI ने स्टार्टअप (Startup) को लेकर नये नियमों की घोषणा की. स्टार्टअप (Startup) को शेयर बाजारों (Share Markets) के ‘इनोवेटर्स ग्रोथ प्लेटफार्म’ (Innovators Growth Platform) से मुख्य शेयर बाजार में जाने में मदद के लिये यह कदम उठाया गया है.

  • Share this:
भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (SEBI) ने बुधवार को स्टार्टअप (Startup) को लेकर नये नियमों की घोषणा की. स्टार्टअप (Startup) को शेयर बाजारों (Share Markets) के ‘इनोवेटर्स ग्रोथ प्लेटफार्म’ (Innovators Growth Platform) से मुख्य शेयर बाजार में जाने में मदद के लिये यह कदम उठाया गया है. इसके तहत उन्हें आईजीपी (IGP) पर आने के एक साल बाद शेयर बाजार के नियमित कारोबार में जाने ओर अपने शेयरधारकों (Shareholders) का आधार बढ़ाकर कम-से-कम 200 करने की अनुमति होगी.

कंपनी को तीन साल की लाभदायकता (Profitablity)/ नेटवर्थ (Networth) का ट्रैक रिकॉर्ड होना चाहिए या 75 प्रतिशत शेयरधारिता पात्र संस्थागत निवेशकों के साथ होना चाहिए.

निदेशक मंडल की बैठक के बाद सेबी ने कहा कि प्रवर्तक का न्यूनतम योगदान 20 प्रतिशत करने की आवश्यकता होगी. इसके लिये तीन साल की ‘लॉक इन’ अवधि होगी. अगर पहले स्टार्टअप प्लेटफार्म पर सूचीबद्धता के समय छह महीने ‘लॉक इन’ अवधि का पालन किया गया है तो उसे इसमें से हटा दिया जाएगा.

ये भी पढ़ें: खुशखबरी! RBI ने RTGS का समय बढ़ाया, अब इतने बजे से कर सकते हैं ट्रांजैक्शन

अधिकारियों ने कहा कि नियामक का विचार है कि अगर आईजीपी (Innovators Growth Platform) पर लिस्टेड कंपनियों को बिना कड़े मानदंडों का अनुकरण किये मुख्य शेयर बाजार के नियमित श्रेणी में कारोबार की अनुमति दी जाती है, इससे आईपीओ के जरिये मुख्य शेयर बाजार में आने की कड़ी प्रक्रिया का दुरूपयोग हो सकता है. जो भी कंपनी अपने शेयरों के कारोबार के लिये मुख्य शेयर बाजार में सूचीबद्ध होना चाहता है, उसे कड़े खुलासा नियमों और पात्रता नियमों का पालन करना होता है और आरंभिक सार्वजनिक निर्गम लाना होता है. लेकिन आईजीपी पर सूचीबद्ध होने का इरादा रखने वाले स्टार्टअप के लिये नियमों में ढील दी गयी है.

इस मंच पर कारोबारी गतिविधियां अपेक्षाकृत सीमित होती हैं. मंजूर नियमों के तहत कंपनी को मुख्य शेयर बाजार में स्थानांतरण के लिये आईजीपी पर कम-सेकम एक साल के लिये सूचीबद्ध होना होगा. साथ स्थानांतरण के समय कम-से-कम 200 शेयरधारक होने चाहिए.

ये भी पढ़ें: ITR फाइल के लिए बचे हैं सिर्फ 10 दिन, वरना लगेगा जुर्माना

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 22, 2019, 12:22 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...