निवेशकों के पैसे जल्द वापस करने पर ध्यान दे फ्रेंक्लिन टेम्प्लेटन: SEBI

निवेशकों के पैसे जल्द वापस करने पर ध्यान दे फ्रेंक्लिन टेम्प्लेटन: SEBI
सेबी का हेडक्वार्टर 10 मई तक के लिए बंद

गुरुवार को बाजार नियामक SEBI ने फ्रेंक्लिन टेम्प्लेटन को कहा ​कि वो निवेशकों के पैसे वापस करने पर फोकस करे. ठीक एक दिन पहले ही फ्रेंक्लिन टेम्प्लेटन के ग्लोब चीफ ने सेबी द्वारा अक्टूबर 2019 में एक ​नियम को लागू करने को जिम्मेदार ठहराया था.

  • Share this:
नई दिल्ली. सिक्योरिटी एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया (SEBI) ने गुरुवार को फ्रेंक्लिन टेम्प्लेटन (Franklin Templeton) म्यूचुअल फंड को कहा कि वो इन्वेस्टर्स का पैसा वापस करने पर ध्यान दें. हाल ही में फ्रेंक्लिन टेम्प्लेटन ने 6 डेट म्यूचुअल फंड (Debt Mutual Funds) को बंद करने का फैसला लिया था. बाजार नियामक सेबी का यह बयान एक ऐसे समय में आया है जब ठीक एक दिन पहले ही फ्रेंक्लिन टेम्प्लेटन के ग्लोब चीफ ने सेबी द्वारा अक्टूबर 2019 में एक ​नियम को लागू करने को जिम्मेदार ठहराया था.

क्या था सेबी का नियम?
इस नियम के तहत सेबी ने सभी म्यूचुअल फंड्स के लिए अनिवार्य कर दिया था कि वो अनलिस्टेड नॉन-कन्वर्टिबल डिबेंचर्स (NCD's) के कुल पूंजी का 10 फीसदी पर कैप लगाएं. फ्रेंक्लिन के CEO जेनिफर जॉन्सन ने एक वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए कहा कि इस नियम ने उनके कुल फंड के एक तिहाई को 'अनाथ' कर दिया क्योंकि सेबी के सर्कुलर के बाद इन एनसीडी को ट्रेड नहीं किया जा सका.





बंद हुए हैं ये 6 फंड
इसके पहले 24 अप्रैल को फ्रेंक्लिन ने 6 डेट म्यूचुअल फंड को पूरी तरह से बंद करने का ऐलान किया और अनिश्चित्तकाल तक इनके रिडेम्प्शन को ब्लॉक कर दिया था. इसमें फ्रेंक्लिन इंडिया लो ड्यूरेशन फंड, डायनेमिक एक्रुअल फंड, क्रेडिट रिस्क फंड, शॉर्ट टर्म इनकम प्लान , अल्ट्रा शॉर्ट बॉन्ड फंड और इनकम अपॉर्चुनिटी फंड शा​मिल थे.

यह भी पढ़ें: लॉकडाउन में SBI ने सस्ता किया होम-ऑटो-पर्सनल लोन, होगी 3000 रुपये की बचत‬

निवेशकों के लिए ये विकल्प तलाश रहा फ्रेंक्लिन
इन फंड्स को बंद करने के ऐलान के दौरान फ्रेंक्लिन टेम्पलेटन ने कहा था कि वो अपने बॉन्ड्स बेहद की कम दाम पर बेचने के विकल्प तलाश रहा है ताकि मौजूदा इन्वेस्टर्स के लिए वह पूंजी जुटा सके. ऐसे में उन इन्वेस्टर्स पर असर पड़ेगा जो इसमें बने रहना चा​हते हैं.

लॉकडाउन की स्थिति में तेजी से निवेशक निकाल रहे है अपने पैसे
मार्च महीने में म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री से कुल 2.3 लाख करोड़ रुपये निकाला गया है. AMFI द्वारा हाल ही में जारी आंकड़े से यह जानकारी मिलती है. फरवरी में करीब 1,985 करोड़ रुपये की निकासी की गई थी. छोटी अवधि में पैसों की जरूरत पूरा करने के लिए कॉरपोरेट्स जिन लिक्विड फंड में पैसे रखते हैं, उस पर सबसे अधिक असर पड़ा है. मार्च महीने में इन्होंने 1.1 लाख करोड़ रुपये निकाले हैं, जबकि फरवरी में 43,825 करोड़ रुपये की निकासी की गई थी.

यह भी पढ़ें:  लॉकडाउन के बीच 65 लाख लोगों के खाते में पहुंचे 764 करोड़ रु!चेक करें अपना खाता
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading