लाइव टीवी

सेबी ने PACL के निवेशकों को किया सचेत, फर्जी ई-मेल से बचने की दी सलाह

भाषा
Updated: January 16, 2020, 8:43 PM IST
सेबी ने PACL के निवेशकों को किया सचेत, फर्जी ई-मेल से बचने की दी सलाह
निवेशकों को फर्जी ई-मेल से सतर्क रहने को कहा

बाजार नियामक सेबी ने पीएसीएल लिमिटेड (PACL Ltd) के निवेशकों को फर्जी ई-मेल से सतर्क रहने की सलाह देते हुए कहा है कि उसने रिफंड से जुड़े मामलों के लिए न तो किसी व्यक्ति को अधिकृत किया है और न ही कोई अधिकार पत्र जारी किया है.

  • Share this:
नई दिल्ली. बाजार नियामक सेबी ने पीएसीएल लिमिटेड (PACL Ltd) के निवेशकों को फर्जी ई-मेल से सतर्क रहने की सलाह देते हुए कहा है कि उसने रिफंड से जुड़े मामलों के लिए न तो किसी व्यक्ति को अधिकृत किया है और न ही कोई अधिकार पत्र जारी किया है.

सेबी ने विज्ञप्ति में कहा कि सेवानिवृत्त न्यायमूर्ति आर.एम लोढ़ा की अध्यक्षता वाली समिति को पीएसीएल के निवेशकों से शिकायतें मिली हैं कि उन्हें sebi.pacl@sebirefunds.org से ई - मेल मिल रहे हैं, जिसमें उनसे रिफंड के दावे के लिए आवेदन फॉर्म भरने का अनुरोध किया गया है. इसके अलावा, ई-मेल में कथित तौर पर सेबी द्वारा जारी अधिकार पत्र भी शामिल है और रिफंड से जुड़े मामले के लिए रवि शंकर आईएएस को नामित किया गया है.

ये भी पढ़ें: बजट में पेपर, खिलौने और फुटवियर पर बढ़ सकती है कस्टम ड्यूटी, चीन को लगेगा झटका

सेबी ने इस संबंध में कहा, वह सूचित करना चाहता है कि उसने रिफंड से जुड़े मामलों के लिए किसी व्यक्ति को अधिकृत/नामित नहीं किया है और न ही कोई अधिकार पत्र जारी किया है. नियामक ने निवेशकों को इस तरह के ई-मेल से सतर्क रहने की सलाह दी है.

कृषि और रियल एस्टेट कारोबार के नाम पर जनता से पैसे जुटाने वाली पीएसीएल को सेबी ने अवैध सामूहिक निवेश योजनाओं (सीआईएस) के माध्यम से 18 साल में 60,000 करोड़ से अधिक का धन जुटाते हुए पाया था. सेवानिवृत्त न्यायाधीश आर एम लोढ़ा की अध्यक्षता वाली समिति ने पीएसीएल के निवेशकों ने 5,000 रुपये तक के दावों के लिये वापसी की प्रक्रिया शुरू की थी. अबतक 3.81 लाख निवेशकों का पैसा वापस किया जा चुका है. हालांकि कुछ आवेदनों में त्रुटियां होने की वजह से उसका निपटान नहीं किया जा सका.

ये भी पढ़ें: घर खरीदारों को LIC का तोहफा! 6 महीने नहीं देनी होगी घर की EMI, ऐसे उठाए फायदा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 16, 2020, 8:42 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर