सेबी ने फ्रैंकलिन टेंपल्टन MF पर दो साल तक नई डेट स्कीम लॉन्च करने पर लगाई रोक, पांच करोड़ का जुर्माना भी

 फ्रैंकलिन टेंपल्टन ने अचानक 6 स्‍कीम्‍स को बंद कर दिया था

फ्रैंकलिन टेंपल्टन ने अचानक 6 स्‍कीम्‍स को बंद कर दिया था

सेबी ने विवेक कुड़वा पर चार करोड़ और उनकी पत्नी रूपा पर तीन करोड़ रुपये की पेनाल्टी भी लगाई और यह निर्देश दिए कि कंपनी को सेबी के नाम पर अलग अकाउंट में 22.64 करोड़ रुपये ब्याज समेत जमा करना होंगे.

  • Share this:

नई दिल्ली. फ्रेंकलिन टेम्पलटन म्यूचुअल फंड (Franklin Templeton Mutual Fund)  मामले में सेबी ने कड़ा रूख इख्तियार करते हुए फ्रैंकलिन टेंपल्टन MF पर दो साल तक नई स्कीम लॉन्च करने पर रोक लगा दी. इतना ही नहीं सेबी ने पांच करोड़ रुपये का जुर्माना भी लगाया है. सेबी (SEBI) ने यह भी निर्देश दिए कि कंपनी की बंद सभी छह स्कीमों में जो इंवेस्टमेंट मैनेजमेंट फीस ली गई उसे भी वापिस किए जाए. सेबी के निर्देश के अनुसार 4 जून 2018 से 23 अप्रैल 2020 तक कंपनी को 12 फीसदी ब्याज के साथ यह फीस लौटानी होगी. मालूम हो  पिछले साल अप्रैल में फ्रैंकलिन टेंपल्टन ने अचानक अपनी 6 स्‍कीम्‍स को बंद कर दिया था. जिसकी वजह बताई थी बांड बाजार में पैसों की कमी की. कंपनी ने जिन स्कीम को बंद किया था उसमें अल्ट्रा शॉर्ट बांड फँड, इंडिया लोन ड्यूरेशन फंड, इंडिया डायनॉमिक अक्रूअल फंड, इंडिया क्रेडिट रिस्क फंड और इंडिया शॉर्ट टर्म इनकम प्लान था.


पति पत्नी पर लगाया सात करोड़ का जुर्माना


सेबी ने फ्रैंकलिन टेंपल्टन के हेड, एपीएसी डिस्ट्रीब्यूशन विवेक कुड़वा और उनकी पत्नी रूपा कुड़वा के मार्केट में कारोबार करने पर एक साल की पाबंदी लगाई व कहा इन दोनों के पास वर्तमान में मौजूद म्यूचुअल फंड यूनियन भी वे नहीं बेच पाएंगे. इसके साथ ही जहां सेबी ने विवेक कुड़वा पर चार करोड़ और उनकी पत्नी रूपा पर तीन करोड़ रुपये की पेनाल्टी भी लगाई और यह निर्देश दिए कि कंपनी को सेबी के नाम पर अलग अकाउंट में 22.64 करोड़ रुपये ब्याज समेत जमा करना होंगे. 


ये भी पढ़ें - 1-2 हफ्ते में चाहते हैं जोरदार रिटर्न! जानिये कौन-से हैं कम वक्त में ज्यादा कमाई कराने वाले शेयर




बंद हुई 6 में से 5 स्‍कीम्‍स इस समय हैं कैश पॉजिटिव




मार्च में जब सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में एसबीआई म्यूचुअल फंड्स की वितरण योजना को मंजूरी दी थी उस वक्त फ्रैंकलिन टेंपलटन ने कहा था कि उसकी 6 योजनाओं के अप्रैल 2020 में बंद होने के बाद से अब तक मैच्‍योरिटी (Maturities), प्री-पेमेंट (Pre-Payments) और कूपन पेमेंट ( Coupon Payments) के तौर पर 13,789 करोड़ रुपये हासिल हुए हैं. इन योजनाओं में से पांच अब कैश पॉजिटिव हैं. इनमें 15 जनवरी, 2021 तक 9,190 रुपये नकद मौजूद हैं. बंद होने वाले फ्रैंकलिन इंडिया अल्ट्रा शॉर्ट बांड फंड के 63 फीसदी एसेट्स कैश में हैं. वहीं, लो डुरेशन फंड के 50 फीसदी एसेट्स, डायनामिक एक्यूरल फंड के 41 फीसदी, क्रेडिट रिस्क फंड के 26 फीसदी और फ्रैंकलिन इंडिया शॉर्ट टर्म इनकम प्लान के 9 फीसदी एसेट्स कैश में मौजूद हैं. बता दें कि म्यूचुअल फंड कंपनी ने बॉन्ड मार्केट में लिक्विडिटी कम होने और रिडेम्शन प्रेशर बनने के चलते इन स्कीमों को 23 अप्रैल 2020 को बंद कर दिया था.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज