Mutual Fund में पैसा लगाने वालों के लिए बड़ी खबर! बदल जाएंगी आपकी ये स्कीम्स, जानिए सबकुछ

Mutual Fund में पैसा लगाने वालों के लिए खबर! बदलने वाले हैं इन स्कीमों के नाम
Mutual Fund में पैसा लगाने वालों के लिए खबर! बदलने वाले हैं इन स्कीमों के नाम

सेबी (SEBI) ने म्यूचुअल फंड कंपनियों से अपने डिविडेंड प्लान (Dividend Plan) के नाम बदलने के लिए कहा है. इनमें मौजूदा और नई दोनों स्कीमें शामिल हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 7, 2020, 2:12 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. सेबी (SEBI) ने म्यूचुअल फंड कंपनियों से अपने डिविडेंड प्लान (Dividend Plan) के नाम बदलने के लिए कहा है. इनमें मौजूदा और नई दोनों स्कीमें शामिल हैं. रेगुलेटर ने फंड हाउसों से निवेशकों को यह भी साफ बताने के लिए कहा है कि वे उन्हीं की पूंजी का कुछ हिस्सा डिविडेंड के तौर पर देते हैं. बता दें कि फंड हाउस डिविडेंड ऑप्शन में तीन तरह के विकल्प देते हैं. हर एक मौजूदा स्कीम के साथ न्यू फंड ऑफर (एनएफओ) के लिए इन तीनों के नाम बदले जाने हैं.

इन चीजों के बदलेंगे नाम
डिविडेंड पेआउट ऑप्शन का नाम बदलकर पेआउट ऑफ इनकम डिस्ट्रीब्यूशन कम कैपिटल विदड्रॉल ऑप्शन किया जाएगा. डिविडेंड रीइनवेस्टमेंट का नाम रीइनवेस्टमेंट ऑफ इनकम डिस्ट्रीब्यूशन कम कैपिटल विदड्रॉल प्लान होगा. डिविडेंड ट्रांसफर (Dividend Transfer) प्लान को ट्रांसफर ऑफ इनकम डिस्ट्रीब्यूशन कम कैपिटल विदड्रॉल प्लान (Capital Withdrawal Plan) के नाम से जाना जाएगा.

ये भी पढ़ें:- 15 अक्टूबर से सिनेमा हॉल में मूवी देखने के लिए करना होगा इन 4 नियमों का पालन
निवेशकों के लिए ये बात जानना जरूरी


डिस्ट्रीब्यूटरों के मुताबिक ऐसे कई मामले देखने में आए हैं जहां इक्विटी और हाइब्रिड प्रोडक्टों को नियमित डिविडेंड का भुगतान करने का वादा करके बेचा गया है. कई निवेशक प्रोडक्ट से जुड़े जोखिम को समझे बगैर ऐसी स्कीमों को खरीद लेते हैं. जब बाजार लुढ़कता है तो फंड हाउस डिविडेंड का भुगतान नहीं करते हैं. निवेशक भी इन्हें यह सोचे बगैर भुना लेते हैं कि यह उन्हीं की पूंजी का हिस्सा है.

म्यूचुअल फंड कंपनियों को सुनिश्चित करना होगा कि वे इनकम डिस्ट्रीब्यूशन और कैपिटल डिस्ट्रीब्यूशन दोनों को अलग-अलग रखें. इनकम डिस्ट्रीब्यूशन नेट एसेट वैल्यू यानी एनएवी का बढ़ना है. दोनों तरह के डिस्ट्रीब्यूशन को एसेट मैनेजमेंट कंपनियों को कंसोलिडेटेड अकाउंट स्टेटमेंट में बताना जरूरी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज