Home /News /business /

SEBI ने mutual funds के कर्मचारियों, ट्रस्टी और बोर्ड मेंबर के लिए ट्रेडिंग के नए नियम जारी किए, जानिए डिटेल

SEBI ने mutual funds के कर्मचारियों, ट्रस्टी और बोर्ड मेंबर के लिए ट्रेडिंग के नए नियम जारी किए, जानिए डिटेल

 SEBI ने Mutual Fund में नए ट्रेडिंग नियम जारी किए.

SEBI ने Mutual Fund में नए ट्रेडिंग नियम जारी किए.

Sebi ने नए नियमो के तहत म्यूचुअल फंड कंपनी के कर्मचारी, ट्रस्टी और बोर्ड के सदस्यों पर कई तरह के ट्रेडिंग प्रतिबंध लगाए गए हैं. साथ ही साथ यह प्रतिबंध उन लोगों पर भी लागू होगा, जिनके पास कंपनी की कोई जानकारी है और उससे कंपनी की नेट वैल्यू असेट और यूनिट धारकों के हित प्रभावित कर सकती है.

अधिक पढ़ें ...

    मुंबई . बाजार नियामक Sebi (Securities and Exchange Board of India) ने asset management companies (AMCs) और mutual funds के कर्मचारियों, ट्रस्टी और बोर्ड मेंबर के लिए ट्रेडिंग के नए गाइडलाइन जारी किए हैं. सेबी ने इस संबंध में एक सर्कुलर जारी किया है. सेबी ने उन म्यूचुअल फंड स्कीम की ओवरनाइट यूनिट्स की खरीद -बिक्री पर रोक लगा दी है, जिससे जुड़ी कोई भी जानकारी अभी तक यूनिटहोल्डर्स को नहीं बताई गई है.

    नए नियमो के तहत म्यूचुअल फंड कंपनी के कर्मचारी, ट्रस्टी और बोर्ड के सदस्यों पर कई तरह के ट्रेडिंग प्रतिबंध लगाए गए हैं. साथ ही साथ यह प्रतिबंध उन लोगों पर भी लागू होगा, जिनके पास कंपनी की कोई जानकारी है और उससे कंपनी की नेट वैल्यू असेट और यूनिट धारकों के हित प्रभावित कर सकती है.

    एक्सेस पर्सन
    बाजार नियामक सेबी ने इसके लिए एक कैटेगरी भी बनाई है. इस कैटेगरी में एक्सेस पर्सन का जिक्र किया है, जिनके म्यूचुअल फंड में ट्रेडिंग करने पर मनाही रहेगी. एक्सेस पर्सन में असेट मैनेजमेंट कंपनी के मुखिया, एक्जिक्यूटिव डायरेक्टर, चीफ इंवेस्टमेंट ऑफिसर, चीफ रिस्क ऑफिसर और अन्य सी-सूट एक्जिक्यूटिव, फंड मैनेजर, डीलर्स, रिसर्च एनालिस्ट, ऑपरेशंस डिपार्टमेंट के कर्माचारी, कंप्लायंस ऑफिसर और विभागों के मुखिया को शामिल किया गया है.

    यह भी पढ़ें – NPS Scheme: कितनी मासिक बचत करके रिटायरमेंट के बाद हर महीने पा सकते हैं 50,000 रु. पेंशन, जानें डिटेल

    म्यूचुअल फंड में ये भी ट्रेडिंग नहीं कर पाएंगे
    मिंट की खबर के मुताबिक, सेबी ने बताया है कि नॉन एक्जिक्यूटिव डायरेक्टर, कंपनी के ट्रस्टी या ऐसे कोई ट्रस्टी जिनके बाद नॉन पब्लिक इंफोर्मेशन की जानकारी है और वे हितों को प्रभावित कर सकते हैं. ऐसे लोगों को भी एक्सेस पर्सन की लिस्ट में रखा गया है. इसका मतलब हुआ कि ये भी म्यूचुअल फंड में ट्रेडिंग नहीं कर पाएंगे.

    गाइडलाइंस में शेयरों, डिबेंचर, बॉन्ड, वारंट, डेरिवेटिव और म्यूचुअल फंड/एएमसी द्वारा शुरू की गई योजनाओं की इकाइयों जैसी किसी भी प्रतिभूतियों की खरीद या बिक्री के लिए लेनदेन शामिल हैं.

    सेबी ने 2016 में कर्मचारियों को उनके व्यक्तिगत लेनदेन की तारीख से 30 दिनों के भीतर किसी भी सिक्योरिटी की खरीद और बिक्री से लाभ कमाने से रोक दिया था. नए सर्कुलेशन में एक्सेस पर्सन को कुछ छूट भी दी गई है. ये छूट अब एक कंप्लायंस ऑफिसर द्वारा एक वित्तीय वर्ष में दो बार किसी एक्सेस पर्सन को दी जा सकती है. इस दौरान वे केवल सिक्योरिटी की बिक्री कर सकते हैं.

    Tags: Business news, Mutual fund, Mutual fund investors, Mutual funds, SEBI

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर