SEBI जल्द ले सकती है बड़ा फैसला, IPO के नियमों में होगा ये बदलाव!

सेबी (SEBI) आईपीओ (IPO) के नियमों में संशोधन करने का प्लान कर रही है
सेबी (SEBI) आईपीओ (IPO) के नियमों में संशोधन करने का प्लान कर रही है

सेबी (SEBI) आईपीओ (IPO) के नियमों में संशोधन करने का प्लान कर रही है. सेबी अपने IPO के लिए 10 प्रतिशत इक्विटी विलयन (Dilution) में कटौती कर सकती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 10, 2020, 2:03 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली: सेबी (SEBI) आईपीओ (IPO) के नियमों में संशोधन करने का प्लान कर रही है. सेबी अपने IPO के लिए 10 प्रतिशत इक्विटी विलयन (Dilution) में कटौती कर सकती है. आईपीओ में 4 हजार करोड़ रुपये से ज्यादा पोस्ट इश्यू इक्विटी कैपिटल (Post Issue Equity Capital) शामिल है. सूत्रों के मुताबिक, सेबी बड़े आईपीओ के लिए भी मर्जर को 10 से 5 फीसदी कर सकता है. आईपीओ की पोस्ट इश्यू इक्विटी कैपिटल के 4 हजार करोड़ रुपये से कम होने की स्थिति में मर्जर की आवश्यकता 25 फीसदी होगी. न्यूज 18 की सहयोगी वेबसाइट मनीकंट्रोल के तीन सूत्रों के जरिए इस बारे में जानकारी दी गई है.

सेबी और विदेशी निवेशकों के बीच हुई मीटिंग
सूत्रों से मनी कंट्रोल को जानकारी मिली है कि 27 अक्टूबर को सेबी के चेयरमैन अजय त्यागी और यू.एस. के निवेशकों व उद्योगपतियों के बीच ऑनलाइन बैठक की गई. इस बैठक में मर्जर को 10 फीसदी से घटाकर 5 फीसदी करने पर चर्चा की गई. बता दें कि भारतीय बाजारों में विदेशी पोर्टफोलियों निवेशकों की बड़ी संख्या और एफपीआई के अंतर्गत संपत्ति का लगभग एक तिहाई भाग अमेरिका से मिलता है. मौजूदा स्थिति में इक्विटी सेगमेंट में 1,07,365 करोड़ रुपये का विदेशी पोर्टफोलियो निवेश है, जिसमें से 30 फीसदी अमेरिका के वित्तिय बाजारों से संबधित है.

यह भी पढ़ें: खुशखबरी! अब 15 हजार लोगों को रोजगार देगी सरकार, 2 लाख किसानों को मिलेगा सीधा फायदा, जानें क्या है प्लान
व्यापार की सीमा बढ़ाने की जरूरत


प्रॉक्सी सलाहकार फर्म आईआईएस के प्रबंध निदेशक अमित टंडन ने मनी कंट्रोल को बताया कि यह मुद्दा पिछले दो दशकों से चर्चा का विषय बना हुआ था. सेबी को इस मुद्दे को मोटेतौर पर देखना उचित है, यानी बड़े मुद्दों पर शेयरों का कम प्रतिशत होना चाहिए, लेकिन जारी लिस्टिंग के नजरिए से उन्हें न्यूनतम मार्केट कैप पर भी जोर देने और व्यापार की सीमा को बढ़ाने की जरूरत है.'

एलआईसी को भी शामिल करने पर विचार
सूत्रों के मुताबिक, मनीकंट्रोल को बताया कि जल्द ही जीवन बीमा निगम और एचडीबी फाइनेंशियल जैसे बड़े मुद्दे भी चर्चा का विषय बन सकते हैं. एलआईसी में मूल्यांकन 20 लाख करोड़ रुपये से अधिक है. यदि 10 फीसदी मर्जर पर अमल किया जाता है तो वे 2 लाख करोड़ रुपये जुटाएंगे.

प्राइम डेटाबेस समूह के प्रबंध निदेशक प्रणव हल्दिया ने मनीकंट्रोल को बताया कि अगर सेबी 5 प्रतिशत इक्विटी विलयन के मानक को लागू करता है तो यह एक अच्छा कदम होगा. यह मानदंड आईपीओ की संख्या बढ़ाने में मददगार होगा. यह उपाय यूनिकॉर्स को विदेशी बाजारों में जाने से रोकने में मददगार है.'



यह भी पढ़ें: कोरोना वैक्सीन की खबर से आई दुनियाभर के शेयर बाजारों में जोरदार तेजी, सेंसेक्स की मज़बूत शुरुआत

वहीं, दूसरी तरफ, निवेशकों को खुदरा निवेशकों की कम भागीदारी की शिकायत है क्योंकि उन्हें आईपीओ प्लेसमेंट के दौरान शेयर नहीं मिलते हैं. हाल के दिनों में, आईपीओ जैसे डी-मार्ट, बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज, आईआरसीटीसी और रत्नाकर बैंक लिमिटेड में खुदरा निवेशकों को उनकी बोली के अनुसार आवंटन नहीं मिला था. इस पर पहले सूत्र ने मनीकंट्रोल को बताया कि सेबी आगामी प्राथमिक बाजार सलाहकार समिति की बैठक में इस मुद्दे पर चर्चा कर सकती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज