SEBI ने किर्लोस्कर फैमिली पर लगाया 31 करोड़ का जुर्माना, बाजार में कारोबार पर भी लगी रोक

SEBI ने किर्लोस्कर फैमिली के 5 सदस्य पर 31 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया है.
SEBI ने किर्लोस्कर फैमिली के 5 सदस्य पर 31 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया है.

SEBI ने किर्लोस्कर फैमिली के 5 सदस्य पर 31 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया है. सेबी ने कहा कि इन लोगों को ये पैसा 4 फीसदी ब्याज के साथ वापस करना होगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 22, 2020, 8:45 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली: पूंजी बाजार नियामक सेबी (SEBI) ने इनसाइडर ट्रेडिंग के मामले में किर्लोस्कर फैमिली के 5 सदस्यों पर जुर्माना लगाया है. इसके साथ ही इन सभी लोगों के शेयर बाजार में ट्रेडिंग पर भी रोक लगा दी है. यह रोक तीन महीने से लेकर 6 महीने तक सभी सदस्यों पर लगाई गई है. सेबी ने सर्कुलर जारी कर इस बारे में सभी को जानकारी दी है. सेबी के मुताबिक, अल्पना राहुल किर्लोस्कर, आरती अतुल किर्लोस्कर, ज्योत्सना गौतम कुलकर्णी, राहुल चंद्रकांत किर्लोस्कर, अतुल चंद्रकांत किर्लोस्कर और गौतम अच्युत कुलकर्णी केबीएल और केआईएल के प्रवर्तक थे.

किन लोगों पर लगा जुर्माना
सेबी ने कहा कि जिन लोगों पर रोक लगाई गई है उसमें किर्लोस्कर इंडस्ट्रीज के प्रमोटर अतुल किर्लोस्कर, उनकी पत्नी आरती, राहुल किर्लोस्कर और उनकी पत्नी अल्पना और प्रमोटर गौतम कुलकर्णी की पत्नी ज्योत्सना कुलकर्णी शामिल हैं. सेबी ने ऑर्डर में कहा है कि इसके साथ ही इन लोगों को 31 करोड़ रुपए 4 फीसदी ब्याज के साथ 45 दिनों में लौटाने हैं. यह ऑर्डर 6 अक्टूबर से लागू माना जाएगा.

यह भी पढ़ें: Big Billion Sale में Flipkart ने मचाया धमाल, हर सेंकेंड मिले 110 ऑर्डर
2010 में शुरू हुई थी जांच


सेबी ने किर्लोस्कर परिवार के खिलाफ इस मामले की जांच मार्च 2010 से 30 अप्रैल 2011 के बीच शुरू की थी. सेबी ने कहा कि इन लोगों ने गलत तरीके से फायदा कमाया है, जिसके खिलाफ सेबी ने ये जुर्माना लगाया है. सेबी ने तमाम सेक्शन के तहत यह ऑर्डर पास किया है.

प्रवक्ता ने दी जानकारी
प्रवक्ता ने कहा कि अतुल किर्लोस्कर और राहुल किर्लोस्कर किसी भी प्रकार की गड़बड़ी से इनकार करते हैं और यह बात दोहराते हैं कि शेयर बिक्री के संदर्भ में सभी जरूरी सूचनाएं दी गयी थी और नियामकीय मंजूरी ली गयी थी. इसके अलावा उन्होंने कहा कि हम सेबी के आदेश को देख रहे हैं और उस पर कानूनी सलाह लेंगे और जल्दी इसके खिलाफ अपील की योजना है.

इन लोगों ने प्रतिबंधित समय में किया कारोबार
सेबी की जांच से पता चला है कि किर्लोस्कर ब्रदर्स लिमिटेड (केबीएल) के प्रमोटर्स और डायरेक्टर्स ने केबीएल के शेयर में उस समय कारोबार किया, जब यह अनपब्लिश्ड प्राइस सेंसिटिव इंफॉर्मेशन के तहत समय था. इस दौरान शेयरों में प्रमोटर्स कारोबार नहीं कर सकते हैं.

इन लोगों पर लगाई 42.77 लाख रुपए की पेनाल्टी
सेबी ने पाया कि इसी तरह की इनसाइडर ट्रेडिंग संजय किर्लोस्कर, उनकी पत्नी और कराड इनवेस्टमेंट ने भी की, जिसका पता लगने के बाद उन पर 42.77 लाख रुपए की पेनाल्टी लगाई गई है. उन पर भी तीन महीने तक शेयर बाजार में कारोबार करने पर प्रतिबंध लगाया गया है.

यह भी पढ़ें: सिर्फ 5000 रुपए लगाकर कमाएं लाखों, शुरू करें ये बिजनेस हर महीने होगी मोटी कमाई

किर्लोस्कर परिवार में पहले से ही झगड़ा है
बता दें कि किर्लोस्कर परिवार में पहले से ही झगड़ा चल रही है. अतुल और राहुल ने संजय किर्लोस्कर को नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (एनसीएलटी) में खींचा था. आरोप लगाया था कि केबीएल में मिस मैनेजमेंट हुआ है. परिवार के बीच फैमिली ट्रेडमार्क को भी लेकर विवाद है. सेबी को इस मामले में ढेर सारी शिकायतें मिली थीं। इसी पर सेबी ने केबीएल की जांच की थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज