बड़ी खबर! सरकार ने किया सीनियर सिटिजन सेविंग स्कीम के नियमों में बदलाव

नहीं दिया ये डॉक्यूमेंट तो कटेगी सैलरी
नहीं दिया ये डॉक्यूमेंट तो कटेगी सैलरी

वित्त मंत्रालय ने किया सीनियर सिटिजन सेविंग स्कीम (SCSS 2019) के नियमों में कई बदलाव किया है. अब सीनियर सिटिजन सेविंग स्कीम 2019 पहले से जारी SCSS Rules 2004 की जगह ले ली है. इसके तहत मिनिमम जमा रकम 1,000 रुपये तथा अधिकतम जमा रकम 15 लाख रुपये है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 19, 2019, 6:37 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. वित्त मंत्रालय (Finance Ministry) ने सीनियर सिटिजन सेविंग स्कीम (SCSS) 2019 (Senior Citizen Saving Scheme 2019) से जुड़े नए नियमों को जारी कर दिया है. ये नियम SCSS Rules 2004 की जगह लेंगे. इस स्कीम में 60 साल की उम्र में रिटायर होने वाला कोई भी व्यक्ति पांच साल के लिए अपना पैसा निवेश कर सकता है. SCSS में बैंक की फिक्स्ड डिपॉजिट से ज्यादा ब्याज मिलता है. नए नियम पहले से चल रहे खातों पर लागू नहीं होंगे.

8 फीसदी से अधिक ब्याज -सीनियर सिटिजन सेविंग स्कीम के तहत 8 फीसदी से ज्यादा ब्याज मिलता है. वित्त मंत्रालय हर 3 महीने पर इस स्कीम की ब्याज दर की समीक्षा करता है.

>> इस स्कीम में ब्याज का कैलकुलेशन हर तिमाही होता है. इसके तहत खाताधारक के खाते में 1 अप्रैल, 1 जुलाई, 1 अक्टूबर और 1 जनवरी को पैसा डाल दिया जाता है.



>> इस स्कीम की अवधि 5 साल की होती है और इसे आगे और तीन साल के लिए बढ़ाया जा सकता है. अगर आप समय से पहले खाते से निकासी करते हैं तो इसके लिए आपको कुछ शुल्क देना होता है.
ये भी पढ़ें: अब नहीं पड़ेगी बैंक ब्रांच जाने की जरूरत, SBI ATM के जरिए देता है ये 14 सर्विस

>> 60 साल की उम्र में रिटायर होने वाला कोई भी व्यक्ति इस स्कीम में निवेश कर सकता है. इसके तहत, एकल या फिर जॉइंट खाता खोला जा सकता है.

>> पोस्ट ऑफिस या फिर किसी भी बैंक में इस स्कीम की सुविधा उपलब्ध होती है.

>> इस योजना के मुताबिक, जॉइंट या फिर सिंगल खाता खोलकर इसमें 15 लाख तक निवेश किया जा सकता है. हालांकि, इसमें निवेश की गई रकम रिटायरमेंट पर मिलने वाली रकम से ज्यादा नहीं होनी चाहिए.

ये भी पढ़ें: Rail Alert! ख़राब मौसम के कारण लेट हुई ये ट्रेन, यहां देखें पूरी लिस्ट

>> इस स्कीम में खाता खोलने के लिए अगर 1 लाख रुपये निवेश कर रहे हैं तो आप इसे कैश में दे सकते हैं. वहीं, अगर यह रकम 1 लाख से ज्यादा की है तो आपको इसे चेक के रूप में जमा करना होगा.

>> डिपॉजिट की अधिकतम रकम या तो रिटायरमेंट पर मिलने वाली रकम होती है या 15 लाख रुपये या फिर दोनों में से जो कम हो.

3 साल का एक्सटेंशन भी मिलेगा
SCSS 2019 खाते की मैच्योरिटी के बाद उसके 3 साल के एक्सटेंशन की मंजूरी देता है और आपको ब्याज दर वही मिलेगी, जो खाते के मैच्योर होने के वक्त मिल रही थी.

ये भी पढ़ें: PPF में निवेश करने वालों के लिए बड़ी खबर! बदल गए पैसे निकालने के नियम
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज