• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • Sensex 58,000 के पार: अगर बाजार यहां से गिरा को क्या करें, कैसी रखें निवेश रणनीति

Sensex 58,000 के पार: अगर बाजार यहां से गिरा को क्या करें, कैसी रखें निवेश रणनीति

 पिछले सप्ताह सेंसेक्स 2000 अंक चढ़ा

पिछले सप्ताह सेंसेक्स 2000 अंक चढ़ा

एनालिस्ट और बाजार एक्सपर्ट्स का कहना है कि अब वैल्यूएशन काफी मंहगे हो चुके हैं. लेकिन दिग्गजों के साथ ही छोटे और मझोले शेयरों में भी लगातार तेजी देखने को मिल रही है. आगे निवेश रणनीति क्या हो, जानिए विस्तार से ...

  • Share this:

    भारतीय शेयर बाजार आज सोमवार को रिकॉर्ड हाई पर ट्रेड कर रहे हैं. सेंसेक्स 58,000 पार कर चुका है. वहीं निफ्टी 17,400 के करीब नजर आ रहा है. ऐसी स्थिति में बाजार की तेजी को लेकर तमाम कयास लगाए जा रहे हैं.

    एनालिस्ट और बाजार एक्सपर्ट्स का कहना है कि अब वैल्यूएशन काफी मंहगे हो चुके हैं. लेकिन दिग्गजों के साथ ही छोटे और मझोले शेयरों में भी लगातार तेजी देखने को मिल रही है. लेकिन पिछले दो महीनों में अगस्त में स्टॉक्स का एडवांस-डिक्लाइन रेश्यो 1 के नीचे फिसल गया है. इसका मतलब है कि गिरने वाले शयरों की संख्या बढ़ने वाले शेयरों की तुलना में ज्यादा रही है. इसके लिए अपनी कंपनी विशेष कारणों को जिम्मेदार ठहरा सकते हैं. लेकिन अगस्त में आए तीन IPOs ने लिस्टिंग के दिन निगेटिव क्लोजिंग दी.

    यह भी पढ़ें- Multibagger Stock: एक साल में यह शेयर लगभग 3 गुना बढ़ा, क्या लंबी रेस का घोड़ा बनेगा? जानिए निवेश रणनीति

    इस सबका ये मतलब नहीं है कि बाजार में गिरावट आएगी ही. लेकिन ये संभव तो है ही. एक दूसरी संभावना ये है कि बाजार तेजी से ऊपर ये नीचे जानें की जगह लंबे समय तक साइडवेज बना रहे. बाजार में जारी तेजी पिछले 17 महीनों से बनी हुई है.

    ऐसे में ये भूमना स्वाभाविक है कि शॉर्क करेक्शन क्या होता है. जब कभी भी ऐसा करेक्शन आता है तो हम घबरा जाते हैं और घबराहट में ही अपना रिएक्शन देते हैं. इस तरह का रिएक्शन हमारे लंबी अवधि के निवेश के लिए अच्छा नहीं होता. तो आइए जानते हैं कि बाजार में किसी किसी गिरावट में हमें क्या करना चाहिए.

    घबरा कर इक्विटी मार्केट से नहीं निकलें 
    पहला मंत्र तो ये है कि घबरा कर इक्विटी मार्केट से नहीं निकलें. हालांकि ये कहना आसान है लेकिन करना मुश्किल. अगर आपके पोर्टफोलियो में कुछ ही दिनों में 20-50 फीसदी की गिरावट हो जाती है तो ये करना बहुत ही मुश्किल हो जाता है. मार्च 2020 में आए करेक्शन में 10-year mutual fund SIP में भी निगेटिव रिटर्न दिखने लगा था, ऐसे में घबराना स्वाभाविक है.

    यह भी पढ़ें- इस स्कीम में रोज जमा करें 70 रुपये, इतने सालों में बन जाएंगे लाखों के मालिक, जानिए कैसे

    लेकिन हाल ही के IDFC mutual fund स्टडी से ये बात निकल कर आई है कि ऐसे निवेशक जिन्होंनें कोविड-19 क्रैश के बाद भी अपना SIP प्लान जारी रखा वो अब जोरदार मुनाफे में हैं.

    पैसे की जरूरत होने पर ही रिडीम करें
    यदि आपको लगता है कि आपको अगले 6 से 12 महीनों में आपको पैसों आवश्यकता होगी, तो आप कुछ पैसे निकाल सकते हैं. इससे ये होगा कि आपकी तत्काल जरूरतें बाजार की उतार-चढ़ाव से प्रभावित नहीं होंगी.

    उदाहरण के लिए मान लीजिए आप अपने बच्चे के विदेश में पढ़ानें के लिए पैसे जुटा रहे हैं. ऐसे में अगर आपकी बचत इक्विटी में लगी है और शेयरों में गिरावट शुरू हो जाती है तो इससे आपकी संग्रहित राशि पर प्रतिकूल असर पड़ सकता है. ऐसे में बाजार में गिरावट की स्थिति में अपने जरूरत भर की धनराशि निकाल लें. क्योंकि बाजार में उतनी तेजी से सुधार नहीं आता जितनी तेजी से इसमें गिरावट होती है.

    इक्विटी में निवेश बढ़ाएं 
    आशावादी बनें. किसी गिरावट में अपने पोर्टफोलियों में अच्छे शेयर जोड़ें. कम भाव पर निवेश में लंबी अवधि में अच्छा निवेश मिलने की उम्मीद रहती है. बाजार में बॉटम का अंदाजा लगाना मुश्किल होता है ऐसे में करेक्शन पर एक्यूमुलेशन की रणनीति एक बेहतर रणनीति होती है. 4-6 महीनों की अवधि में गिरवाट पर किश्तों में खरीद करें.

    अपना एसेट एलोकेशन न बदलें 
    अपने एसेट एलोकेशन पर नजदीकी से नजर रखें. अगर आप अपने जोखिम क्षमता के मुताबिक इक्विटीज में 100 रुपए में से 70 रुपए लगा सकते हैं तो आप अपनी इस रणनीति को जारी रखें. अगर बाजार गिरता है और ये अनुपात बदल जाता है तो फिर उसको फिर उसी स्तर पर लाएं.

    इस बात को ध्यान में रखें की एलोकेश में ये बदलाव आपके ओवरऑल पोर्टफोलियो में गिरावट की वजह से हो रही है. आदर्श रूप में पोर्टफोलियो की वैल्यू में बढ़त की स्थिति में एलोकेशन में इक्विटी से बाहर होना चाहिए. अपना एसेट एलोकेशन करने के पहले इन बातों को अपने ध्यान में रखें.

    खराब शेयरों की करें छंटाई 
    कोई करेक्श आपको कमजोर शेयरों से निकलकर क्वालिटी शेयरों में निवेश का अच्छा मौका देता है. ऐसे में आप अपनी टोकरी के सड़े सेब छांट कर क्वालिटी शेयरों में पैसे लगाएं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज