अपना शहर चुनें

States

RBI MPC बैठक के बाद सेंसेक्स 45 हजार के पार, निवेशकों ने कमाएं 1.25 लाख करोड़ रुपये

बीएसई सेंसेक्स (प्रतीकात्मक तस्वीर)
बीएसई सेंसेक्स (प्रतीकात्मक तस्वीर)

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) की मौद्रिक नीति समिति की बैठक में लिए गए फैसलों की घोषणा से बीएसई (BSE) के सेंसेक्स ने इतिहास में पहली बार 45000 के आंकड़े को पार कर लिया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 5, 2020, 2:19 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. सप्ताह के आखिरी कारोबारी दिन यानी शुक्रवार को शेयर मार्केट में जोरदार उछाल देखने को मिली. भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) की मौद्रिक नीति समिति (Monetary Policy Committee) की बैठक में लिए गए फैसलों की घोषणा से बीएसई (BSE) के सेंसेक्स ने इतिहास में पहली बार 45,000 के आंकड़े को पार कर लिया. इस दौरान एनएसई (NSE) का निफ्टी भी 124.65 अंकों यानी 0.95 फीसदी की तेजी के साथ 13,258.55 पर पहुंच गया. बीएसई सेंसेक्स भी 446.90 अंक यानी 1 फीसदी की बढ़त के साथ 45,079 के स्तर पर बंद हुआ.

इन स्टॉक्स में लिवाली
आज दिनभर के कारोबारी सत्र मे अडानी पोर्ट्स, आईसीआईसीआई बैंक, हिंडाल्को, अल्ट्राटेक सीमेंट और सन फार्मा के शेयरों में तेजी देखने को मिली. निफ्टी में ये स्टॉक्स में गेनर्स की लिस्ट में शामिल रहे. दूसरी ओर, जिन शेयरों में बिकवाली देखने को मिली, उनमें रिलायंस इंडस्ट्रीज, बजाज फिनसर्व, एचडीएफसी लाइफ, बीपीसीएल और एचसीएल टेक रहे.

किन इंडेक्स में रही सबसे ज्यादा तेजी
इंडेक्स के मोर्चे पर देखें तो आज एनर्जी सेक्टर को छोड़कर अन्य सभी सेक्टर हरे निशान पर कारोबार करते नजर आए. निफ्टी बैंक इंडेक्स 2 उछाल के साथ ​बंद हुआ. जबकि, मेटल, इन्फ्रा, फार्मा और एफएमसीजी इंडेक्स में 1 फीसदी से ज्यादा की तेजी दर्ज की गई. बीएसई मिडकैप व स्मॉलकैप इंडेक्स में 0.4 फीसदी की तेजी देखने को मिली.



ये भी पढ़ें: पोस्ट ऑफिस में है अकाउंट तो 11 दिसंबर से पहले पूरा कर लें ये काम, नहीं तो बंद हो सकता है खाता!



जीडीपी वृद्धि दर माइनस 7.5 फीसदी रहने का अनुमान 
शेयर बाजार में यह तेजी रिजर्व बैंक की उस घोषणा के बाद आई जिसमें केंद्रीय बैंक ने जीडीपी के अनुमान में सुधार करते हुए इसे चालू वित्त वर्ष 2020-21 के लिए -9.5 फीसदी से बढ़ाकर -7.5 फीसदी कर दिया. इससे पहले अक्टूबर में आरबीआई ने अनुमान लगाया था कि वित्त वर्ष 2020-21 में जीडीपी में -9.5 फीसदी का गिरावट आ सकती है. लेकिन अब रिजर्व बैंक ने GDP Forecast में सुधार करते हुए इसे -7.5 फीसदी कर दिया है. आरबीआई के गवर्नर शक्तिकांत दास ने कहा कि इस वित्त वर्ष के सेकेंड हाफ में इकोनॉमी उम्मीद से भी अधिक तेजी से रिकवरी कर रही है और इस दौरान जीडीपी का ग्रोथ रेट पॉजिटिव रहने का अनुमान है.

महंगाई से 2021-22 के फर्स्ट हाफ में मिलेगी राहत
शक्तिकांत दास ने कहा कि देश में महंगाई की दर अभी ऊंची बनी रहने की आशंका है. उन्होंने कहा, सीपीआई आधारित महंगाई इस वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही में 6.8 फीसदी रहने का संभावना है. वहीं, Q4 में यह 5.8 फीसदी रह सकता है। रिजर्व बैंक ने उम्मीद जताई कि वित्त वर्ष 2021-22 के फर्स्ट हाफ में महंगाई दर 5.2 फीसदी से 4.6 फीसदी के बीच रह सकती है. हालांकि, सर्दी में लोगों को महंगाई से थोड़ी राहत मिल सकती है.

ये भी पढ़ें: RBI ने बदल दिया आपके ATM कार्ड से जुड़ा नियम! 1 जनवरी से हो सकेगी इतने हजार रुपये की पेमेंट

निवेशकों को मिला सवा लाख करोड़ रुपये का फायदा
बाजार में इस रिकॉर्ड तेजी का फायदा निवेशकों को भी मिला है. पिछले दिन के कारोबार के बाद आज बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का बाजार पूंजीकरण 1,24,848.46 करोड़ रुपये बढ़ा है. गुरुवार को दिनभर के कारोबार के बाद बीएसई का मार्केट कैप 1,78,24,048.81 करोड़ रुपये था. लेकिन, शुक्रवार को तेजी के साथ ही यह आंकड़ा 1,79,48,897.27 करोड़ रुपये पर पहुंच चुका है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज