अपना शहर चुनें

States

सेंसेक्स 1000 अंक लुढ़का, निफ्टी में भी बिकवाली, जानें बाजार में गिरावट की 5 बड़ी वजह

शेयर बाजारों में गिरावट
शेयर बाजारों में गिरावट

हफ्ते के पहले कारोबारी दिन बाजार में मुनाफावसूली हावी है. कमजोरी का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है. सेंसेक्स करीब 1000 अंक (Sensex falls over 1,000 points) लुढ़क गया है. वहीं, निफ्टी इंडेक्स 14,700 के लेवल से नीचे फिसल गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 22, 2021, 2:48 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली: हफ्ते के पहले कारोबारी दिन बाजार में मुनाफावसूली हावी है. कमजोरी का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है. सेंसेक्स करीब 1000 अंक (Sensex falls over 1,000 points) लुढ़क गया है. वहीं, निफ्टी इंडेक्स 14,700 के लेवल से नीचे फिसल गया है. HDFC, RIL, ITC और TCS ने बाजार पर दबाव बनाया है. इसके अलावा बैंकिग और ऑटो सेक्टर में सबसे ज्यादा बिकवाली देखने को मिल रही है. मिडकैप और स्मॉलकैप इंडेक्स भी आउटपरफॉर्म है. BSE Midcap और Smallcap इंडेक्स क्रमश: 1.34 फीसदी और 0.95 फीसदी नीचे कारोबार कर रहे हैं.

आइए आपको बताते हैं ऐसे क्या कारण है जिनकी वजह से बाजार में बिकवाली हावी है. बजट के बाद यह अब तक की सबसे बड़ी गिरावट है. आइए आपको बाजार में गिरावट के कारण बताते हैं-

यह भी पढ़ें: प्याज की महंगाई से आम जनता परेशान! डेढ़ महीने में दोगुना हुआ भाव, जानें कब होगा सस्ता



1. देश में फिर से बढ़ रहे कोविड के मामले
भारत में COVID-19 मामलों की बढ़ती चिंताओं से बाजार की प्रभावित हो रहा है. महाराष्ट्र ने पिछले सप्ताह COVID- 19 के मामलों में हुए इजाफे के बाद नए नियम जारी किए हैं. पिछले चार हफ्तों में, राज्य में बढ़े कोरोना के मामलों से सभी लोग काफी चिंतित है. बता दें कोरोना के मामले 18,200 से बढ़कर 21,300 हो गए हैं.

2. बढ़ती महंगाई भी है कारण
विश्लेषकों का मानना ​​है कि 10 साल की बॉन्ड यील्ड बढ़ने से बाजार में चिंता है. यह मुद्रास्फीति का भी कारण हो सकता है. इसके अलावा, यह इक्विटी वैल्यूएशन की तुलना में बढ़ा हुआ दिखाई दे रहा है. जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के विजयकुमार के मुताबिक, अमेरिकी बॉन्ड यील्ड में 1.36 प्रतिशत का इजाफा देखा गया है, जो मुद्रास्फीति में संभावित वृद्धि के बारे में बाजारों की चिंता को दर्शाता है.

3. एफपीआई इंफ्लो में गिरावट
विशेषज्ञों ने बताया कि बढ़ते कोरोनावायरस मामलों और उच्च मूल्यांकन पर चिंता का विषय एफपीआई इंफ्लो भी है. भले ही एफपीआई भारतीय बाजार में खरीदारी कर रहा हो, लेकिन प्रवाह की गति धीमी हो गई है. NSE पर उपलब्ध आंकड़ों के मुताबिक, एफपीआई नेट ने 19 फरवरी को भारतीय इक्विटी बाजार में 118.75 करोड़ रुपये के शेयर खरीदे.

4. ग्लोबल संकेतों का असर
ग्लोबल संकेतों से निवेशकों में घर वापसी देखने को मिली है. रॉयटर्स की खबर के मुताबिक, एशियाई बाजारों में सोमवार को मिलाजुला कारोबार देखने को मिला है. अमेरिका में DOW FUTURES करीब 75 अंक ऊपर है। एशिया की भी मजबूत शुरुआत हुई थी.

यह भी पढ़ें: Gold Price Today: खुशखबरी! जनवरी से अब तक 4000 रुपये सस्ता हो गया सोना, चेक करें आज का भाव

4. टेक्निकल कारण
पिछले हफ्ते, निफ्टी में गिरावट का रुख देखने को मिला है. समीत चव्हाण, चीफ एनालिस्ट-टेक्निकल एंड डेरिवेटिव्स, एंजेल ब्रोकिंग ने कहा कि हमें निफ्टी के 14,750-14,550 के प्रमुख सपोर्ट जोन पर नजर बनाकर रखनी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज