Home /News /business /

अक्टूबर में सर्विस सेक्टर की गतिविधियां 10 साल में सबसे तेज रफ्तार से बढ़ीं, Services sector PMI 58 के पार

अक्टूबर में सर्विस सेक्टर की गतिविधियां 10 साल में सबसे तेज रफ्तार से बढ़ीं, Services sector PMI 58 के पार

निजी क्षेत्र का उत्पादन भी तेजी से बढ़ रहा.

निजी क्षेत्र का उत्पादन भी तेजी से बढ़ रहा.

देश में इकोनॉमिक रिकवरी की रफ्तार तेजी से सुधर रही है. अर्थव्यवस्था से जुड़े तमाम इंडिकेटर इसका इशारा कर रहे है. मासिक IHS Markit India Services Purchasing Managers’ Index (PMI) survey के मुताबिक, देश का Services sector PMI अक्टूबर माह में बढ़कर 58.4 पर पहुंच गया. सितंबर में यह 55.2 पर था.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली . भारत के सेवा क्षेत्र की गतिविधियां अक्टूबर में पिछले 10.5 साल में सबसे तेज रफ्तार से बढ़ी हैं. मासिक IHS Markit India Services Purchasing Managers’ Index (PMI) survey आज बुधवार को जारी हुआ. इसके मुताबिक, अनुकूल मांग परिस्थितियों के बीच कारोबारी गतिविधियों में सुधार से सेवा क्षेत्र की गतिविधियां भी तेज हुई हैं. देश का Services sector PMI अक्टूबर माह में बढ़कर 58.4 पर पहुंच गया. सितंबर में यह 55.2 पर था.

    सर्वे में शामिल कंपनियों के अनुसार, नए कारोबार में बढ़ोतरी से उत्पादन में पिछले एक दशक में सबसे तेज वृद्धि हुई है. इसके चलते अधिक रोजगार के अवसरों का सृजन हुआ. हालांकि, मुद्रास्फीतिक चिंताओं के बीच कारोबारी भरोसा कमजोर बना हुआ है.

    लगातार सुधार 
    लगातार तीसरे महीने सेवा क्षेत्र के उत्पादन में बढ़ोतरी हुई है. 50 से ऊपर होने पर खरीद प्रबंधक सूचकांक (पीएमआई) विस्तार को दिखाता है, जबकि इससे नीचे रहने पर यह गिरावट को दर्शाता है.

    यह भी पढ़ें – Paytm IPO: देश का सबसे बड़ा आईपीओ 8 नवंबर को खुलेगा, जानिए क्या चल रहा ग्रे मार्केट भाव

    आईएचएस मार्किट में सहायक निदेशक-अर्थशास्त्र, पोलिएन्ना डि लीमा ने कहा, ‘‘इस क्षेत्र में पुनरुद्धार का यह लगातार तीसरा महीना रहा. कंपनियों की गतिविधियां 10.5 साल में सबसे तेजी से बढ़ी हैं. इससे रोजगार के अधिक अवसर भी पैदा हुए हैं.’’  लीमा ने कहा कि मूल्य के मोर्चे पर बात की जाए, तो उत्पादन की लागत में तेज बढ़ोतरी हुई है लेकिन कंपनियों ने अपना शुल्क भी पिछले करीब साढ़े साल में सबसे तेजी से बढ़ाया है.

    लेकिन चिंताए बरकरार 
    सर्वे में शामिल कंपनियों ने ईंधन की ऊंची कीमत, सामग्री, खुदरा, कर्मचारियों तथा परिवहन की ऊंची लागत का हवाला दिया है. उन्होंने कहा, ‘‘सेवा क्षेत्र की कंपनियों का मानना है कि मुद्रास्फीतिक दबाव से आगामी वर्ष में वृद्धि प्रभावित हो सकती है. कारोबारी भरोसा कमजोर बना हुआ है.’’

    सर्वे के अनुसार, सेवा क्षेत्र की कंपनियों ने अक्टूबर में अतिरिक्त कर्मचारियों की नियुक्ति की है. हालांकि, यह वृद्धि बहुत तेज नहीं है लेकिन सितंबर की तुलना में बढ़ी है. इसके अलावा फरवरी, 2020 से सेवा क्षेत्र में नियुक्तियां सबसे तेज रही हैं.

    निजी क्षेत्र का उत्पादन भी तेजी से बढ़ा 
    इस बीच, अक्टूबर में देश में निजी क्षेत्र का उत्पादन भी अधिक तेजी से बढ़ा है. सेवा और विनिर्माण क्षेत्र का सामूहिक उत्पादन या सामूहिक पीएमआई उत्पादन सूचकांक अक्टूबर में बढ़कर 58.7 हो गया, जो सितंबर में 55.3 था. जनवरी, 2012 के बाद यह सबसे तेज विस्तार है.

    Tags: Annual Economic Survey, Business, Business news, Economic growth, Economic Reform, Economic Survey, PMI

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर