शापूरजी पालोनजी रियल एस्टेट और SBI के बीच एमओयू, होमबायर्स को मिलेगा फायदा

घर खरीदने का इससे मुफीद समय शायद ही फिर जल्द मिले.

घर खरीदने का इससे मुफीद समय शायद ही फिर जल्द मिले.

भारतीय स्टेट बैंक (SBI) और शापूरजी पालोनजी रियल एस्टेट के बीच 25 फरवरी को एक मेमोरेंडम ऑफ अंडरस्टैंडिंग यानी एमओयू साइन हुआ है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 18, 2021, 4:12 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश के सबसे बड़े सरकारी बैंक एसबीआई यानी भारतीय स्टेट बैंक (State Bank of India) और मशहूर बिल्डर्स में शुमार शापूरजी पालोनजी रियल एस्टेट (Shapoorji Pallonji Real Estate) के बीच गुरुवार को एक मेमोरेंडम ऑफ अंडरस्टैंडिंग यानी एमओयू (Memorandum of Understanding) साइन हुआ है. इस साझेदारी के तहत देश भर के होमबायर्स को बेहतरीन अनुभव मिलेगा.

जल्द होगी होम लोन की प्रोसेसिंग
कंपनी ने एक बयान में कहा कि एमओयू के तहत एसबीआई और शापूरजी पालोनजी रियल एस्टेट के ग्राहकों को जल्द से जल्द होम लोन की प्रोसेसिंग पूरा होने और इसके मंजूर होने की सुविधा मिलेगी. इसके अलावा होमबायर्स को यूनिक वैल्यू ऐड स्कीम्स का भी लाभ मिलेगा.

ये भी पढ़ें- शियोमी का बड़ा ऐलान! भारत में 2 स्‍मार्टफोन और एक टीवी मैन्‍युफैक्‍चरिंग प्‍लांट लगाएगी चीन की स्‍मार्टफोन कंपनी
मेमोरेंडम ऑफ अंडरस्टैंडिंग पर एसबीआई के रियल एस्टेट एंड हाउसिंग बिजनेस यूनिट (Real Estate and Housing Business Unit)  के हेड और चीफ जनरल मैनेजर श्रीकांत और शापूरजी पालोनजी रीयल एस्टेट के सीईओ वेंकटेश गोपालकृष्णन ने साइन किया.



एमओयू पर खुशी जताते हुए वेंकटेश गोपालकृष्णन ने कहा कि ग्राहकों को घर खरीदने के लिए आकर्षक होम लोन रेट्स और फास्टर अप्रूवल्स की सुविधा मिलेगी. इस नए टाई-अप में शापूरजी पालोन रीयल एस्टेट के सभी वर्तमान हाउसिंग प्रोजेक्टस को कवर किया जाएगा.

ये भी पढ़ें- नीरव मोदी मामले में मिली बड़ी सफलता! भारत लाया जाएगा भगोड़ा हीरा कारोबारी, ब्रिटेन के कोर्ट का आदेश

SBI का होम लोन बिजनेस 5 लाख करोड़ के पार
हाल ही में एसबीआई ने बताया था कि उसका होम लोन कारोबार 5 लाख करोड़ रुपये के आंकड़े को पार कर गया है. बैंक ने बताया था कि बीते 10 साल में एसबीआई का रीयल एस्टेट एंड हाउसिंग बिजनेस पांच गुना बढ़ा है. 2011 में बिजनेस 89,000 करोड़ रुपये का था, जो 2021 में 5 लाख करोड़ तक पहुंच गया है.

एसबीआई ने होम लोन कारोबार में 2004 में कदम रखा था. उस समय कुल पोर्टफोलियो 17,000 करोड़ रुपये था. अलग से रीयल एस्टेट और आवास कारोबार एक लाख करोड़ रुपये के पोर्टफोलियो के साथ 2012 में अस्तित्व में आया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज