लाइव टीवी

शेयर बाजार में पैसा लगाने वालों के लिए बड़ी खबर! PAN कार्ड से जुड़ा ये जरूरी नियम हुआ लागू

News18Hindi
Updated: November 16, 2019, 1:52 PM IST
शेयर बाजार में पैसा लगाने वालों के लिए बड़ी खबर! PAN कार्ड से जुड़ा ये जरूरी नियम हुआ लागू
निवेशकों के यूनिक क्लाइंट कोड (UCC) को उनके डिमैट अकाउंट (Demant Account) से लिंक करना जरूरी है.

शेयर बाजार नियामक सेबी (SEBI-Security Exchange Board of India) ने शुक्रवार को सभी ब्रोकर्स को जानकारी दी है कि वो अपने निवेशकों के यूनिक क्लाइंट कोड (UCC) को उनके डिमैट अकाउंट (Demant Account) से लिंक करें.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 16, 2019, 1:52 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. शेयर बाजार में निवेश करने वालों के लिए ये खबर बहुत महत्वपूर्ण है. दरअसल बाजार नियामक सेबी (Security Exchange Board of India) ने शुक्रवार को सभी ब्रोकर्स को जानकारी दी है कि वो अपने निवेशकों के यूनिक क्लाइंट कोड (UCC) को उनके डिमैट अकाउंट (Demant Account) से लिंक करें. हर निवेशक के लिए एक यूनिक क्लाइन्ट कोड जारी किया जाता है. साथ ही सेबी ने सभी एक्सचेंज (Stock Exchange) और डिपॉजिटर्स (Depositors) को भी आदेश दिया है कि वो यूसीसी और डिमैट को मैप भी करें.

क्यों सेबी ने दिया ये आदेश -सेबी ने यह कदम इसलिए उठाया है ताकि ब्रोकर्स निवेशकों की सिक्योरिटीज को अवैध तरीके से डाइवर्ट न कर सकें.

>> आपको बता दें कि किसी भी निवेशक को उसके ब्रोकिंग हाउस के आधार पर ​एक यूनिक क्लाइंट कोड जारी किया जाता है.

>> हालांकि, ठीक वही व्यक्ति अगर किसी अन्य ब्रोकरेज हाउस के साथ डिमैट अकाउंट खोलता है तो इसके लिए नया यूनिक क्लाइंट कोड जारी किया जाता है.

ये भी पढ़ें: बचत खाते में आपके जमा पैसों पर सरकार जल्द लेगी बड़ा फैसला! वित्त मंत्री ने दिए संकेत

सेबी


क्या है मामला -साल 2018 में, सेबी ने पहले ही सिक्योरिटीज डाइवर्ट करने को लेकर वॉर्निंग जारी किया था. बाद में स्टॉक एक्सचेंज और डिपॉजिटर्स से बात करने के बाद सेबी ने फैसला लिया है कि ब्रोकर्स को यूनिक क्लाइंट कोड और डिमैट अकाउंट को मैप करना होगा. इसमें निवेशक का पैन और ट्रेडिंग सेग्मेंट भी शामिल होगा.

>> इसके बाद अगर कोई ब्रोकर अपने ​मेंबर को हर एक लिंक किए गए यूनिक क्लाइंट कोड को क्लियर कर रहा है तो डिपॉजिटर्स को इस यूनिक क्लाइंट कोड के साथ पैन को भी मैप कर सकेंगे.


>> 
सेबी ने जारी सर्कुलर में कहा है, 'स्टॉक एक्सचेंज और डिपॉजिटर्स के पास एक ऐसा मैकेनिज्म होना चाहिए​ जिससे यह सुनिश्चित किया जा सके कि इनएक्टि और नॉन-ऑपरेशनल यूनिक क्लाइंट कोड को गलत इस्तेमाल न कर सकें.

>> साथ ही, यह भी सुनिश्चित किया जा सके कि कोई भी इनएक्टिव और नॉन-ऑपरेशनल यूनिक क्लाइंट कोड सिस्टम में न रहे.'

ये भी पढ़ें: अपने PF के पैसों को रखना चाहते हैं सेफ तो तुरंत करें ये काम, जानिए इससे जुड़ी सभी बातें

क्या है अंतिम तारीख -सेबी ने कहा है कि 30 नवंबर तक स्टॉक एक्सचेंज और डिपॉजिटर्स को यूसीसी को पैन को लिंक करने के बाद डाटा शेयर करना है. हालांकि, अन्य तरह के डाटा के लिए 31 दिसंबर तक का समय दिया है. शुरुआती फेज के बाद इस प्रक्रिया को एक ऑनगोइंग प्रक्रिया के तौर पर जारी रखना होगा.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Mumbai से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 16, 2019, 1:19 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर