ग्राहकों के इस कदम से दिवाली पर खुश हैं दुकानदार, मार्केट एक्सपर्ट ने की यह भविष्यवाणी

2 दिन में इन आइटम की एकदम से बढ़ गई डिमांड
2 दिन में इन आइटम की एकदम से बढ़ गई डिमांड

मार्केट एक्सपर्ट का कहना है कि दिवाली पर चीन को झटका देने के साथ ही भारतीय बाज़ार कम से कम 60 हज़ार करोड़ रुपये का बिजनेस करेगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 11, 2020, 6:31 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना-लॉकडाउन के चलते बाज़ार जैसा भी हो, लेकिन दुकानदार फिर भी खुश हैं. उनकी खुशी की वजह है चाइनीज सामान का बहिष्कार और घरेलू सामान की बिक्री. इसका बड़ा उदाहरण है चाइनीज झालर में इंडियन मेड एडप्टर लगाकर बेचा जा रहा है. वहीं मार्केट एक्सपर्ट का कहना है कि दिवाली पर चीन को झटका देने के साथ ही भारतीय बाज़ार कम से कम 60 हज़ार करोड़ रुपये का बिजनेस करेगा. वहीं देश के प्रमुख ज्योतिषविद एवं भारतीय संस्कृति के प्रवचनकर्ता और उज्जैन के आचार्य दुर्गेश तारे ने भी बाज़ार को लेकर बड़ी बातें कही हैं.

2 दिन में इन आइटम की एकदम से बढ़ गई डिमांड

कन्फ़ेडरेशन ऑफ़ ऑल इंडिया ट्रेडर्ज़ (कैट) के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल ने बताया की दिवाली के साथ-साथ धनतेरस 13 नवम्बर, दिवाली 14 नवम्बर , गोवर्धन पूजन 15 नवम्बर, भैया दूज 16, छठ पूजा 20 नवम्बर और तुलसी विवाह 26 नवम्बर को मनाया जाएगा. इन पर्वों को देखते हुए बीते 2 दिनों से बाज़ार में खरीदारों की आमद बढ़ गई है.



बाज़ारों में विशेष रूप से खिलौने, ड्राई फ़्रूट, गिफ़्ट आर्टिकल्ज़, रेडीमेड गारमेंट्स, वस्त्र, सौंदर्य प्रसाधन, मोबाइल, इलेक्ट्रॉनिक आइटम्ज़, बिजली का सामान, दुकान और घर सजाने का सामान, एफ़एमसीजी उत्पाद, मिठाइयां, होम फ़र्निशिंग, टैपस्ट्री, बर्तन और क्रॉकरी की डिमांड आने लगी है. साथ ही पकवान और चाकलेट गिफ़्ट पैक, फलों की गिफ़्ट वाली टोकरियां, दिवाली की पूजा का सामान, धूपबत्ती, अगरबत्ती और गूगल की सुगंध वाली वस्तुओं की मांग भी बीते दो दिनों में बढ़ गई है.
यह भी पढ़ें- दिवाली से पहले इस खास दिन बहुत होती हैं चोरियां, यह है बड़ी वजह

मार्केट के बारे में की गई हैं यह भविष्णवाणी

कैट के प्रवीन खंडेलवाल ने बताया की इस बार कैट के आह्वान पर देशभर के बाज़ारों में चीनी सामान का पूरी तरह से बहिष्कार हो रहा है. खास बात ये है की जहां व्यापारी चीनी सामान बेच नहीं रहे हैं वहीं दूसरी ओर उपभोक्ता पूरी तरह से चीनी सामान ख़रीदने में भी दिलचस्पी नहीं दिखा रहे हैं. खंडेलवाल ने बताया की बाज़ार के रुख को देखें तो दिवाली और दूसरे पर्वों की इस शृंखला के दौरान देशभर के बाज़ारों में लगभग 60 हजार करोड़ रुपए का व्यापार होने का अनुमान है.

जिसमें हर साल चीन द्वारा किए जाने वाले लगभग 40 हज़ार करोड़ रुपए के व्यापार का बड़ा नुकसान चीन को होना तय है. कैट के आह़वान पर लोग पूरी तरह से देश के सभी हिस्सों में इस बार हिंदुस्तानी दिवाली मनाने के लिए तैयार हैं.



खंडेलवाल ने यह भी बताया कि अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त देश के प्रमुख वास्तुविद डॉक्टर ख़ुशदीप बंसल और देश के प्रमुख ज्योतिषविद एवं भारतीय संस्कृति के प्रवचनकर्ता, महाकाल की भूमि उज्जैन के आचार्य दुर्गेश तारे ने भी कहा की दिवाली के बाद ग्रहों की चाल के अनुसार देश के व्यापार में एक बड़ा सकारात्मक परिवर्तन होगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज