सरकार घटा सकती हैं सुकन्या योजना, PPF, NSC की ब्याज दरें, जानिए कितना कम होगा आपका मुनाफा!

मोदी सरकार जुलाई से सितंबर तिमाही के लिए PPF, NSC और सुकन्या योजना पर ब्याज दरें 0.30 फीसदी तक घटा सकती है. जानिए आपके पैसों पर क्या असर होगा.

News18Hindi
Updated: June 25, 2019, 11:20 AM IST
News18Hindi
Updated: June 25, 2019, 11:20 AM IST
मोदी सरकार जुलाई से सितंबर तिमाही के लिए  PPF, NSC और सुकन्या योजना पर ब्याज दरें 0.30 फीसदी तक घटा सकती है. CNBC आवाज़ को सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, इसको लेकर सरकार की ओर से जल्द नोटिफिकेशन जारी किया जा सकता है. सूत्रों का कहना है कि ब्याज दरें बॉन्ड्स के रिटर्न पर आधारित होती है. बॉन्ड्स में फिलहाल रिटर्न कम मिल रहा है. इसीलिए दरें घटाने का दबाव सरकार पर बढ़ गया है. साथ ही, बैंकों का कहना है कि छोटी बचत योजना में दरें कम नहीं होने से उन पर भी डिपॉजिट दरें कम नहीं करने का दबाव रहा है. लिहाजा कर्ज़ की दरें भी कम नहीं हो पाती है. आपको बता दें कि सरकार स्मॉल सेविंग्स स्कीम (Small Savings Scheme छोटी बचत योजनाओं) पर हर तिमाही ब्याज दर (Interest rate इंटरेस्ट रेट) तय करती है. यह सरकार पर निर्भर करता है कि वह कब इसमें बदलाव करे. स्पष्ट कर दें कि यह जरूरी नहीं कि सरकार हर तिमाही बदलाव करे.

छोटी बचत योजनाओं की मौजूदा ब्याज दरें


>> पब्लिक प्रोविडेंट फंड (Public Provident Fund (PPF interest Rate) : 8%
>> सुकन्या समृद्धि योजना (Sukanya Samriddhi Scheme Interest Rate) : 8.5%

>> वरिष्ठ नागरिक बचत योजना (Senior Citizens Savings Scheme Interest Rate): 8.7%
>> राष्ट्रीय बचत पत्र (National Savings Certificate (NSC) Interest Rate) : 8%
>> किसान विकास पत्र (Kisan Vikas Patra (KVP) Interest Rate) : 7.7%
Loading...

ये भी पढ़ें-सरकार जल्द दे सकती है मजदूरों को तोहफा, समान न्यूनतम वेतन को मिलेगी कैबिनेट की मंजूरी

CNBC आवाज को मिली जानकारी के मुताबिक, मौजूदा वित्त वर्ष की दूसरी तिमाही यानी जुलाई से सितंबर के लिए PPF, NSC, KVP की ब्याज दरों में कटौती हो सकती है. इसे पहले सितंबर 2018 में सबसे ज्यादा ब्याज दरें बढ़ी थीं.छोटी बचत योजनाओं पर ब्याज दरों की समय-समय पर समीक्षा की जाती है. पिछली बार सरकार ने तीसरी तिमाही (अक्टूबर-दिसंबर) के लिए सितंबर 2018 में ब्याज दरें बढ़ाने की घोषणा की थी.



वित्त मंत्रालय ने उस समय सितंबर में विभिन्न लघु बचत योजनाओं की ब्याज दरों में 0.30% से 0.40% तक वृद्धि की थी. इसके बाद पीपीएफ और नेशनल सेविंग्स सर्टिफिकेट (एनएससी) पर ब्याज दर 8 फीसदी, सुकन्या समृद्धि योजना पर 8.5 फीसदी जबकि वरिष्ठ नागरिक बचत योजना पर 8.7 फीसदी हो गई.

ये भी पढ़ें-कैबिनेट बैठक: कंज्यूमर प्रोटेक्शन बिल 2019 को मिली मंजूरी

 

(लक्ष्मण रॉय, इकोनॉमिक-पॉलिसी एडिटर, सीएनबीसी आवाज़)
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...