अब छोटे कारोबारी सिर्फ SMS भेजकर भर सकेंगे जीएसटी रिटर्न, सरकार ने जारी किया विशेष मोबाइल नंबर

केंद्रीय अप्रत्‍यक्ष कर बोर्ड (CBIC) ने तीसरी बार ई-वे बिल्‍स की वैधता अवधि बढ़ा दी है.
केंद्रीय अप्रत्‍यक्ष कर बोर्ड (CBIC) ने तीसरी बार ई-वे बिल्‍स की वैधता अवधि बढ़ा दी है.

केंद्र सरकार ने निल जीएसटी रिटर्न (NIL GST Return) दाखिल करने वाले छोटे कारोबारियों के लिए नई सुविधा शुरू की है. मोबाइल SMS के जरिये GST रिटर्न भरने की इस सुविधा से 22 लाख छोटे कारोबारियों को फायदा होगा.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (GST) प्रणाली में रिटर्न भरने की नई सुविधा से छोटे कारोबारियों को बड़ा फायदा होगा. केंद्र सरकार की इस सुविधा से गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स असेसी अपने फोन से सिर्फ एसएमएस (SMS) भेजकर जीएसटी रिटर्न (GST Return) फाइल कर सकेंगे. सरकार ने निल जीएसटी (GST) भरने वाले कारोबारियों के लिए ये सुविधा शुरू की है. इस सुविधा के जरिये रिटर्न दाखिल करने के लिए कारोबारियों को विशेष मोबाइल नंबर (Mobile Number) 14409 पर SMS भेजना होगा. इस सुविधा के शुरू होने से देश के 22 लाख कारोबारियों को फायदा होगा.

ओटीपी नंबर की पुष्टि करते ही भर जाएगा जीएसटी रिटर्न
कारोबारियों को अपने मोबाइल के मैसेज बॉक्स (Message Box) में जाकर एनआईएल (NIL) टाइप करना होगा. फिर स्पेस (Space) देकर अपना जीएसटी नंबर लिखना होगा. इसके बाद एक और स्पेस देते हुए 3 बी लिखना होगा. इस एसएसएस को 14409 पर भेजना होगा. संदेश भेजते ही कारोबारी के मोबाइल नंबर पर एक ओटीपी आएगा. इसकी पुष्टि करते ही कारोबारी का जीएसटी रिटर्न दाखिल हो जाएगा.

ये भी पढ़ें- भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी को बड़ा झटका! कोर्ट ने जब्त कर लिया पूरा खजाना, अब सरकार का होगा कब्‍जा
नई प्रणाली में छोटे कारोबारियों के लिए बनाई विशेष श्रेणी


देश में छोटे कारोबारियों को भी जीएसटी नंबर लेना अनिवार्य है. ऐसे में उन्‍हें रिटर्न दाखिल करना पड़ता है. इनके लिए नई प्रणाली में एक विशेष श्रेणी बना दी गई है. ऐसे करदाता अपने पंजीकृत मोबाइल नंबर से सिर्फ एसएमएस भेज कर अपना रिटर्न दाखिल कर सकेंगे. इससे पहले छोटे कारोबारियों को राहत देते हुए सरकार ने सहज सुविधा शुरू की थी. दरअसल, पहले साल में 5 करोड़ रुपये तक टर्नओवर वाले कारोबारियों को 3बी फार्म (GSTR 3B) भरने की बाध्यता थी.

ये भी पढ़ें:- 30 जून तक निपटा लें पैसे से जुड़े ये 7 जरूरी काम, नहीं तो उठाना पड़ेगा नुकसान

पहले भी छोटे कारोबारियों के लिए शुरू की थी सहज सुविधा 
सहज सुविधा के तहत 5 करोड़ रुपये सालाना तक कारोबार करने वालों के लिए 2 फार्म बनाए गए. साल में 5 करोड़ रुपये तक कारोबार करने वाले कारोबारियों के लिए आरईटी-2 (RET-2) फार्म बनाया गया है. इसमें कारोबारी को तीन महीने में रिटर्न भरना होगा. इसी तरह साल में पांच करोड़ रुपये तक का कारोबार करने वाले वैसे कारोबारी जो सिर्फ थोक माल बेचते हैं या बी2बी कारोबार करते हैं, के लिए जीएसटी आरईटी-3 या सुगम फार्म बनाया गया. यह फार्म भी तिमाही आधार पर ही भरा जाता है, लेकिन कर का भुगतान मासिक करना होता है.

ये भी पढ़ें- पेट्रोलियम बोर्ड का बड़ा फैसला! अब कोई भी किसी भी देश में लगा सकता है ये गैस स्टेशन, लाखों की कमाई करने का मौका
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज