• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • रिपोर्ट में दावा- साल 2025 तक सोशल मीडिया का मार्केट 2200 करोड़ रुपये का होने की उम्मीद

रिपोर्ट में दावा- साल 2025 तक सोशल मीडिया का मार्केट 2200 करोड़ रुपये का होने की उम्मीद

प्रतीकात्मक तस्वीर

प्रतीकात्मक तस्वीर

रिपोर्ट के अनुसार सोशल मीडिया प्रभावकारी बाजार में कारोबार हर साल 25 फीसदी से बढ़ने की उम्मीद है और साल 2025 तक इस क्षेत्र में कारोबार 2200 करोड़ रुपये तक पहुंच सकता है.

  • Share this:

    नई दिल्ली. सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर प्रभावशाली व्यक्तियों के जरिये उत्पादों को बेचने के बढ़ते चलन के साथ देश के इस बाजार में साल के अंत तक 900 करोड़ रुपये का कारोबार होने की उम्मीद है. ग्रुपम (Groupm) की एक रिपोर्ट में यह बताया गया है.

    आईएनसीए इंडिया इन्फ्लुएंसर (INCA India Influencer) रिपोर्ट के अनुसार सोशल मीडिया प्रभावकारी बाजार में कारोबार हर साल 25 फीसदी से बढ़ने की उम्मीद है और साल 2025 तक इस क्षेत्र में कारोबार 2200 करोड़ रुपये तक पहुंच सकता है.

    सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर लोगों की पहुंच में वृद्धि
    रिपोर्ट में यह देखा गया कि इंटरनेट के बढ़ते दायरे और प्रभाव के साथ सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर लोगों की पहुंच में वृद्धि हुई है. इसे देखते हुए कंपनियों ने अपने उत्पादों को बेचने के लिए सोशल मीडिया पर प्रभावशाली व्यक्तियों के साथ गठजोड़ करना शुरू किया है.

    विज्ञापनदाताओं के एक सेल्फ रेगुलेटरी बॉडी ने भी सोशल मीडिया पर इन तरह के ‘प्रभावशाली’ व्यक्तियों के लिए दिशानिर्देश तय किए हैं. ग्रुपम की रिपोर्ट में कहा गया कि कोविड-19 महामारी के उत्पन्न परिस्थितियों और कंज्यूमर से सीधे जुड़ने के कारण प्रभावकारी यह उद्योग एक परिवर्तन के दौर से गुजर रहा है.

    ये भी पढ़ें- खुशखबरी! पीएम आवास योजना को लेकर हो रही कोई दिक्कत तो यहां करें शिकायत, सरकार ने जारी की डिटेल

    उपभोक्ता व्यवहार में भी बदलाव 
    ग्रुपम के दक्षिण एशिया के चीफ एग्जीक्यूटिव प्रशांत कुमार ने कहा, ”महामारी की शुरुआत से पहले तक भारत में अलग-अलग सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर 40 करोड़ लोग थे और पिछले 18 महीनों में यह संख्या तेजी से बढ़ी है. साथ ही कंज्यूमर व्यवहार में भी बदलाव आया है. कंपनियों का सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के जरिए विज्ञापन देने का सबसे बड़ा कारण प्रभावशाली व्यक्तियों का उनके दर्शकों के साथ गहरा संबंध और भरोसा है. कंपनियों इसका लाभ उठाने के लिए सोशल मीडिया पर प्रभावशाली व्यक्तियों के साथ जुड़ना चाहती है.”

    रिपोर्ट के अनुसार इंफ्लुएंसर बाजार में निजी देखबाल से संबंधित उत्पादनों के विज्ञापन या प्रायोजक का योगदान 25 फीसदी, खाद्य पेयजल उत्पादों का 20 फीसदी, फैशन और आभूषण से जुड़े सामानों का 15 फीसदी और मोबाइल एवं इलेक्ट्रिक उपकरणों का 10 फीसदी है. यह चार श्रेणियां इस बाजार में 70 फीसदी का हिस्सा रखती है.

    ये भी पढ़ें- Forex Reserves: रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचने के बाद कम हुआ देश का खजाना, गोल्ड रिजर्व में भी गिरावट

    रिपोर्ट के दिलचस्प रूप से यह भी पाया गया कि जानी मानी प्रसिद्ध हस्तियों का इस बाजार में केवल 27 फीसदी हिस्सा है जबकि प्रभावशाली व्यक्तियों की हिस्सेदारी 73 फीसदी तक की है. रिपोर्ट में यह भी देखा गया कि देश की लगभग दो तिहाई आबादी किसी न किसी सोशल मीडिया पर अपना प्रभाव छोड़ने वाले व्यक्ति को फॉलो करती है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज