MindTickle में निवेश कर सकती है सॉफ्टबैंक, वैल्युएशन दोगुना बढ़ने की उम्मीद

सॉफ्टबैंक ग्रुप कॉर्पोरेशन
सॉफ्टबैंक ग्रुप कॉर्पोरेशन

कोरोना वायरस महामारी के बीच जापान का सॉफ्टबैंक ग्रुप (Softbank Group) कॉरपोरेशन भारत की सॉफ्टवेयर लर्निंग प्लेटफॉर्म माइंडटीकल (MindTickle) में डील को लेकर चर्चा में है. रिपोर्ट्स के मुताबिक, सॉफ्टबैंक 100 मिलियन डॉलर का निवेश कर सकती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 12, 2020, 5:02 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. जापान के सॉफ्टबैंक ग्रुप कॉर्पोरेशन (Japan’s Softbank Group Corp) भारत के सॉफ्टवेयर लर्निंग प्लेटफॉर्म (Software-as-a-service firm) माइंडटीकल (MindTickle) के साथ लगभग 100 मिलियन की डील को लेकर चर्चा में है. भारत की ओर से MindTickle की यह पहली डील है. इस सौदे से MindTickle का निवेशिक मूल्य 500 से 600 मिलियन हो जाएगा. यह कंपनी के पिछले साल जुलाई में 250 मिलियन से दुगना होगा.

पुणे और सैन फ्रांसिस्को स्थित लर्निंग प्लेटफॉर्म MindTickle की शुरुआत 2011 में चार भारतीय कृष्णा देपुआ, मोहित गर्ग, दीपक दिवाकर और निशांत मुंगाली ने की थी. फिलहाल माइंडटीकल के पास 18 सदस्यों की टीम है. इसका मुख्यालय पुणे में है.

यह भी पढ़ें: LTC cash voucher scheme: प्राइवेट सेक्टर में करते हैं काम तो जानिए क्या है खास



तकनीक रूप से सबसे सुरक्षित प्लेटफॉर्म में से एक
सूत्रों के अनुसार, वित्तीय वर्ष 2021 के लिए कंपनी के पास लगभग 20-25 मिलियन डॉलर की राजस्व दर है. माइंडटीकल के अन्य निवेशकों में उद्यम पूंजी फर्म एक्सेल, सिलिकॉन वैली स्थित कनान पार्टनर्स, क्वालकॉम वेंचर्स और न्यू एंटरप्राइज एसोसिएट्स शामिल हैं. तकनीकी निवेश के रूप में माइंडटीकल सबसे सुरक्षित प्लेटफॉर्म में से एक है.

भारत में निवेशकों के तलाश में थी सॉफ्टबैंक
पहचान उजागर न करने की शर्त पर एक निवेशक ने बताया 'जापान के सॉफ्टबैंक को भारत में निवशकों की तलाश थी, वहीं, भारत में भी इस तरह की अभी तक कोई डील नहीं देखी गई है. सॉफ्टबैंक के संस्थापक मासायोशी के बेटे भारत में एक साल तक कोई निवेशक नहीं मिलने की वजह से देश में मौजूद सक्रिय डील को भी बंद करने की फिराक में थे. पिछले महीने इसने ऑनलाइन शिक्षण फर्म अनाकेडमी (Unacademy) में 150 मिलियन डॉलर का नेतृत्व किया था. लगभग छह महीने में यह मूल्य 1.45 बिलियन डॉलर का हो गया है.

यह भी पढ़ें: सरकारी कर्मचारियों को वित्त मंत्री ने दिया दिवाली गिफ्ट, राज्यों के लिए भी मिली बड़ी सौगात

सॉफ्टबैंक के पोर्टफोलियों इन भारतीय कंपनियों का नाम
बता दें कि भारत में सॉफ्टबैंक के मौजूदा पोर्टफोलियो में राइडिंग फर्म ओला, होटलियर ओयो, फाइनेंशियल सर्विसेज फर्म पेटीएम, इंश्योरेंस एग्रीगेटर पॉलिसीबाजार और आईवियर रिटेलर लेंसकार्ट शामिल हैं. वहीं, सास ( S-as-a-s) के लिए भी यह साल वयस्त रहने वाला है. क्योंकि कोरोनावायरस महामारी की बीच भी कंपनी के निवेशिक मूल्यों में बढ़ोतरी देखी गई है.

एपीआई स्टार्टअप पोस्टमैन का बाजार मूल्य पिछले वर्ष $ 350 मिलियन से बढ़कर इस वर्ष $ 2 बिलियन हो गया है, जबकि फ्रेशवर्क्स का मूल्य $ 3.5 बिलियन था और इस वर्ष 200 मिलियन डॉलर से अधिक हो गया है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज