सैनिकों का PAN, पर्सनल नंबर सहित अहम डेटा लीक, रक्षा मंत्रालय ने उठाया ये कदम

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस घटना के बाद सरकार ने सिक्योरिटी प्रोटाकॉल की समीक्षा करने का निर्देश दिया और लीक रोकने के बारे में उठाए गए कदमों की रिपोर्ट तलब की गई है.

News18Hindi
Updated: September 11, 2018, 1:51 PM IST
सैनिकों का PAN, पर्सनल नंबर सहित अहम डेटा लीक, रक्षा मंत्रालय ने उठाया ये कदम
प्रतीकात्मक तस्वीर
News18Hindi
Updated: September 11, 2018, 1:51 PM IST
देश के सैनिकों के पर्सनल नंबर और पैन कार्ड जैसा बेहद संवेदनशील डेटा लीक होने की खबरें आ रही है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस घटना के बाद सरकार ने सिक्योरिटी प्रोटाकॉल की समीक्षा करने का निर्देश दिया और लीक रोकने के बारे में उठाए गए कदमों की रिपोर्ट तलब की गई है. अंग्रेजी बिजनेस न्यूज पेपर इकोनॉमिक टाइम्स में छपी खबर में बताया गया है कि ऑडिट के बाद संवेदनशील सूचना के खुलासे पर सभी संबंधित विभागों को निर्देश जारी किए गए और कहा गया कि डेटा वेबसाइट के होम पेज से इस जानकारी को तुरंत हटाया जाए और दुरुपयोग रोकने के लिए एक्सेस पर कंट्रोल किया जाए. (ये भी पढ़ें-अगर आपके पास हैं एक से ज्यादा बैंक अकाउंट तो संभल जाएं, वरना साफ हो जाएंगे हजारों रुपए)

रक्षा मंत्रालय की पे-लिंक्ड वेबसाइट्स के साथ इससे पहले भी छेड़छाड़ हो चुकी है. हैकर्स ने 2015 में प्रिंसिपल कंट्रोलर डिफेंस एकाउंट्स (ऑफिसर्स) के ऑफिस की वेबसाइट को हैक कर लिया था. ऐसे में इसे एक बड़ी चूक माना जा रहा है. (ये भी पढ़ें-Post Office Vs SBI: जानें कहां FD कराने पर आपको मिलेगा ज्यादा रिटर्न)

क्या है मामला
मीडिया रिपोर्ट्स में कहा जा रहा है कि पिछले कुछ महीनों में आंतरिक सर्वे के अनुसार सैनिकों के नाम, उनके मिलिट्री आईडी नंबर और परमानेंट अकाउंट नंबर सहित कई और जानकारियां रक्षा मंत्रालय के पे एंड अकाउंट ऑफिस की वेबसाइट्स पर सार्वजनिक हो गई थी. ये ऑफिस देश में कई जगहों पर हैं.(ये भी पढ़ें-पत्नी को दिया अपना ATM कार्ड तो हो सकता है बड़ा नुकसान, जानें क्या हैं नियम)

जारी किया आदेश
कार्यालयों को यह निर्देश भी दिए गए कि संवेदनशील सूचना एक सिक्योर्ड लॉग-इन के बाद यूजर रोल बेस्ड एक्सेस के जरिए ही दी जाए. निर्देश जारी करते हुए कहा गया, यह अनुरोध है कि सभी वेबसाइट्स का रिव्यू किया जाए और यह देखा जाए कि बिना सुरक्षित लॉग-इन के कोई संवेदनशील सूचना साइट पर उपलब्ध तो नहीं है. इस संबंध में एक विस्तृत रिपोर्ट पेश की जाए.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर