होम /न्यूज /व्यवसाय /इस देश से भारत आ रहा है 4000 टन प्याज, वित्त मंत्री ने संसद को बताया कैसे कम होंगी प्याज की कीमतें!

इस देश से भारत आ रहा है 4000 टन प्याज, वित्त मंत्री ने संसद को बताया कैसे कम होंगी प्याज की कीमतें!

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण  (Finance Minister Nirmala Sitharaman) ने बुधवार को कहा कि सरकार ने देश में प्याज की कीमतों (Onion Price) को नियंत्रित करने के लिये कई कदम उठाए हैं. एमएमटीसी ने तुर्की से 4,000 टन प्याज आयात का एक और आर्डर दिया है. आयात की यह खेप जनवरी मध्य तक पहुंचने की उम्मीद है.

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Finance Minister Nirmala Sitharaman) ने बुधवार को कहा कि सरकार ने देश में प्याज की कीमतों (Onion Price) को नियंत्रित करने के लिये कई कदम उठाए हैं. एमएमटीसी ने तुर्की से 4,000 टन प्याज आयात का एक और आर्डर दिया है. आयात की यह खेप जनवरी मध्य तक पहुंचने की उम्मीद है.

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Finance Minister Nirmala Sitharaman) ने बुधवार को कहा कि सरकार ने देश में प्याज की कीमतो ...अधिक पढ़ें

    नई दिल्ली. सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनी, एमएमटीसी (MMTC) ने तुर्की (Turkey) से 4,000 टन प्याज आयात (Onion Price) का एक और आर्डर दिया है. आयात की यह खेप जनवरी मध्य तक पहुंचने की उम्मीद है. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण  (Finance Minister Nirmala Sitharaman) ने बुधवार को कहा कि सरकार ने देश में प्याज की कीमतों (Onion Price) को नियंत्रित करने के लिये कई कदम उठाए हैं, इसमें भंडारण से जुड़े मुद्दों का समाधान निकालने के उपाय शामिल हैं.

    लोकसभा में हुई चर्चा का जवाब देते हुए वित्त मंत्री ने कहा, ‘प्याज के भंडारण से कुछ ढांचागत मुद्दे जुड़े हैं और सरकार इसका निपटारा करने के लिये कदम उठा रही है.’ उन्होंने कहा कि खेती के रकबे में कमी आई है और उत्पादन में भी गिरावट दर्ज की गई है, लेकिन सरकार उत्पादन को प्रोत्साहित करने के लिए कदम उठा रही है.

    क्यों 100 रुपए खर्च कर 2 रुपए कमा रहा है रेलवे? पीयूष गोयल ने दिया ये जवाब

    सीतारमण ने कहा कि प्याज की कीमतों को नियंत्रित करने के लिए मूल्य स्थिरता कोष का उपयोग किया जा रहा है. इस संबंध में 57 हजार मीट्रिक टन का बफर स्टाक बनाया गया है. इसके अलावा मिस्र और तुर्की से भी प्याज आयात किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र और राजस्थान के अलवर जैसे क्षेत्रों से दूसरे प्रदेशों में प्याज की खेप भेजी जा रही है.

    आईडीबीआई के पुनर्पूंजीकरण को लेकर विपक्षी सदस्यों के सवाल पर सीतारमण  (Nirmala Sitharaman) ने कहा कि 2008 से 2014 तक कांग्रेस नीत संप्रग सरकार के दौरान फोन पर लोन देने के लिये कह दिया जाता था, जिसके कारण आज एनपीए की यह स्थिति बनी है. उन्होंने कहा कि इसी से आईडीबीआई में मुश्किल में फंसे रिण का आंकड़ा काफी बढ़ गया. वित्त मंत्री ने कहा कि मोदी सरकार आने के बाद 2015 में संपत्ति गुणवत्ता समीक्षा की गई और तब एनपीए का पता चला.

    उन्होंने कहा कि ये ऋण आपके (कांग्रेस) समय के हैं और ये बाद में एनपीए बन गए.  सीतारमण ने कहा कि आईडीबीआई में सरकार और एलआईसी 42781 करोड़ रूपये डालेंगे. उन्होंने मुद्रा लोन का जिक्र करते हुए कहा कि इस मद में कुल ऋण का केवल 2.52 प्रतिशत एनपीए है. वित्त मंत्री ने कहा कि मनरेगा में पिछले वर्षो में धन का आवंटन काफी बढ़ा है, इसे प्रत्यक्ष लाभ अंतरण (डीबीटी) के जरिए लीकेज प्रूफ बनाया गया है. अब बिना बिचौलियों के हस्तक्षेप के श्रमिकों को उनके खाते में पैसा मिलता है. इस वर्ष 6.2 करोड़ लोगों को मनरेगा के तहत रोजगार मिला है.

    सरकार ने दवाइयों की ऑनलाइन बिक्री पर लगाई रोक, जानें क्या है वजह?

    एमएमटीसी तुर्की से और 4,000 टन प्याज का आयात करेगी, 17 हजार टन का पहले दिया आर्डर
    एमएमटीसी ने तुर्की से 4,000 टन प्याज आयात का एक और आर्डर दिया है. आयात की यह खेप जनवरी मध्य तक पहुंचने की उम्मीद है. सरकार ने बुधवार को यह जानकारी दी. एक बयान में कहा गया है कि चार हजार टन का यह ताजा आर्डर 17,090 टन प्याज आयात के लिए पहले किए गए अनुबंध से अलग है जिसमें मिस्र से 6,090 टन और तुर्की से 11,000 टन प्याज का आयात करना शामिल है. एमएमटीसी, सरकार की ओर से प्याज का आयात कर रही है. सरकार आयात सहित विभिन्न उपायों से इस प्रमुख सब्जी की घरेलू आपूर्ति में सुधार लाने का प्रयास कर रही है. आयात से आपूर्ति बढ़ाकर प्याज की कीमतों पर अंकुश लगाने के प्रयास किये जा रहे हैं.

    75-100 रुपए प्रति किलो के स्तर पर बनी हैं कीमतें
    देश के प्रमुख शहरों में प्याज की कीमतें 75-100 रुपये प्रति किलोग्राम के उच्च स्तर पर बनी हुई हैं. बयान के अनुसार, उपभोक्ता मामलों के विभाग ने एमएमटीसी को प्याज के आयात के लिए तीन और निविदा जारी करने का भी निर्देश दिया है. तीन निविदाओं में से दो देश-विशिष्ट हैं, अर्थात् तुर्की और यूरोपीय संघ से प्याज का आयात किया जाना है जबकि एक वैश्विक निविदा है.

    इन सभी निविदाओं में से प्रत्येक निविदा के तहत 5,000 टन प्याज का आयात किया जाएगा. उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय ने कहा है कि जल्द आयात के लिए नई निविदा में मानदंडों में कुछ ढील देकर आयात को आसान बनाने का प्रयास किया गया है. इनमें आयात किए जाने वाले प्याज का आकार 40 मिमी -80 मिमी तक बढ़ाया गया है, कंसोर्टियम बोली लगाने की अनुमति दी गई है, निर्यातक कई लॉट में शिपमेंट की पेशकश कर सकते हैं. इसके अतिरिक्त, कीटनाशक धूम्रीकरण मामले में मानदंड में जो ढील 30 नवंबर तक दी गई थी, उसे बढ़ाकर 31 दिसंबर तक कर दिया गया है. इससे भागीदारी, प्रतिस्पर्धा बढ़ेगी और कीमत कम होने की उम्मीद है.

    " isDesktop="true" id="2663914" >

    सरकार ने प्याज की स्टॉक सीमा घटाई
    मंत्रालय ने कहा कि इसके अलावा, एक समन्वय समिति का भी गठन किया गया है, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि आयात और वितरण की पूरी प्रक्रिया सुव्यवस्थित हो सके ताकि समय पर प्याज की आवक हो और राज्यों द्वारा प्याज की बिक्री सुनिश्चित हो सके. बयान में कहा गया है कि जहाजरानी मंत्रालय ने आश्वासन दिया है कि वह आयातित प्याज वाले जहाजों के लैंडिंग/डॉकिंग के लिए प्राथमिकता देगा तथा प्याज के शीघ्र आगमन और आगे वितरण/प्रेषण सुनिश्चित करने के लिए जवाहरलाल नेहरू पोर्ट, मुंबई में एक नोडल अधिकारी नियुक्त करेगा.

    केंद्र सरकार ने जमाखोरी रोकने के प्रयास में तीन दिसंबर को खुदरा विक्रेताओं और थोक विक्रेताओं के लिए प्याज की स्टॉक सीमा घटाकर क्रमशः 5 टन और 25 टन कर दी. हालांकि, आयातित प्याज पर यह स्टॉक सीमा लागू नहीं होगी. मंत्रिमंडल ने घरेलू आपूर्ति में सुधार और कीमतों को नियंत्रित करने के लिए 1.2 लाख टन प्याज के आयात को मंजूरी दी है. सरकार ने कीमतों को नियंत्रण में रखने के लिए पहले ही प्याज के निर्यात पर प्रतिबंध लगाया हुआ है.

    यह भी पढ़ें106 दिन बाद जेल से बाहर आए चिदंबरम, सोनिया गांधी से मिलने पहुंचे दस जनपथ

    Tags: Business news in hindi, Nirmala Sitaraman, Onion Price

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें