प्लॉट खरीदने वालों के लिए बड़ी खबर, अब मिलेगा Aadhaar जैसा यूनीक नंबर

प्लॉट खरीदने वालों के लिए बड़ी खबर, अब मिलेगा Aadhaar जैसा यूनीक नंबर
अब आधार (Aadhaar) की तरह आपके प्लॉट या जमीन को भी एक नबंर मिलेगा. जानें क्या है सरकार का प्लान और इससे क्या होगा फायदा?

अब आधार (Aadhaar) की तरह आपके प्लॉट या जमीन को भी एक नबंर मिलेगा. जानें क्या है सरकार का प्लान और इससे क्या होगा फायदा?

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 17, 2019, 1:46 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. अब आधार (Aadhaar) की तरह आपके प्लॉट या जमीन को भी एक नबंर मिलेगा. इसके लिए ग्रामीण विकास मंत्रालय ने स्टैंडर्ड यूनीक लैंड पार्सल नंबर (Standard Unique Land Parcel Number) के सिस्टम पर काम शुरू कर दिया है. जमीन को एक यूनीक आइडेंटिटी नंबर (UID) दिया जाएगा. इससे से जमीन विवाद से निपटने में मदद मिलेगी. जानें इससे आपको और सरकार को क्या होगा फायदा?

यूनीक आइडेंटिटी नंबर में दर्ज होंगी ये चीजें
इकनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, यह नंबर सर्वे किए गए प्रत्येक जमीन को दिया जाएगा. यूनीक आइडेंटिटी नंबर में प्लॉट के साइज और मालिकाना हक के विवरणों सहित राज्य, जिला, तहसील, तालुका, ब्लॉक और सड़क की जानकारी होगी. एक सीनियर सरकारी अधिकारी ने इस बात की जानकारी दी.

ये भी पढ़ें:  Amul का नया प्लान, जल्द लॉन्च करेगा 10 से 20 रुपए में घी और दूध का पैक
बाद में आधार से लिंग होगा यूआईडी


यूनीक लैंड पार्सल नंबर को बाद में आधार और रेवेन्यू कोर्ट सिस्टम से लिंक किया जा सकता है. सरकारी अधिकारी के मुताबिक सभी जमीनों को यूनीक आइडेंटिटी नंबर देने से रियल एस्टेट ट्रांजैक्शन में आसानी होगी. प्रॉपर्टी के टैक्स से जुड़े मामलों में भी मदद मिलेगी. सरकारी प्रोजेक्ट्स के लिए जमीन का अधिग्रहण करना आसान होगा. यह लैंड रिकॉर्ड के डिजिटाइजेशन की दिशा में कदम होगा.

जमीन के रिकॉर्ड का डिजिटलाइजेशन का चल रहा काम
बता दें कि देशभर में जमीन के रिकॉर्ड का डिजिटलाइजेशन की प्रक्रिया चालू है. प्रत्येक राज्य में डिजिटलाइजेशन का काम चल रहा है. इससे एक क्लिक पर आपको आपकी जमीन का नक्शा मिल जागा. भू-नक्शे अपलोड होने से गांवों की जनता को खासा लाभ मिलेगा. खरीद-फरोख्त के अलावा विभिन्न विवादों में राजस्व विभाग के चक्कर नहीं लगाने होंगे. GIS टैग्ड होने के कारण किसी भी जमीन के विवरण हासिल करना आसान हो जाएगा.

ड्रोन की मदद से पहली बार बनेगा इंडिया का डिजिटल मैप
सर्वे ऑफ इंडिया लेटेस्ट तकनीक की मदद से भारत का डिजिटल नक्शा बनाने की तैयारी में है. ये काम ड्रोन की मदद से किया जाएगा. इसमें जितने आंकड़े आसमान से जुटाए जाएंगे उतने जमीन पर भी एकत्र किए जाएंगे.

ये भी पढ़ें: GST काउंसिल : गोवा में 20 सितंबर को होगी अहम बैठक, सस्ती हो सकती हैं रोजमर्रा की ये चीजे़ं
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज