Good News: सरकार दे रही है डिस्काउंट के साथ सस्ता सोना खरीदने का मौका, जानें इसके बारे में सबकुछ

Sovereign Gold Bond

Sovereign Gold Bond

Sovereign Gold Bond: सरकार एक बार फिर साॅवेरन गोल्ड बॉन्ड 2020-21 (Sovereign Gold Bond Scheme 2020-21 Series XII ) लेकर आई है. सरकार ने इसकी कीमत भी तय कर दी है. सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड योजना में बॉन्ड का इश्यू प्राइस 4,662 रुपए प्रति ग्राम तय किया गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 27, 2021, 11:47 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. अगर आप सोना खरीदने की सोच रहे हैं तो आपके लिए इससे अच्छा मौका नहीं हो सकता है. सोने की लगातार गिरती कीमतों के बीच सस्ते में सोना खरीदने का शानदार मौका है. भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) सोने की खरीदारी पर आपको डिस्काउंट देगी. दरअसल, सरकार एक बार फिर साॅवेरन गोल्ड बॉन्ड 2020-21 (Sovereign Gold Bond Scheme 2020-21 Series XII ) लेकर आई है. सरकार ने इसकी कीमत भी तय कर दी है. सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड योजना में बॉन्ड का इश्यू प्राइस 4,662 रुपए प्रति ग्राम तय किया गया है. दस ग्राम की कीमत 46620 रुपए है.

ऑनलाइन खरीदारी पर मिलेगा डिस्काउंट
बता दें कि इस सरकारी स्कीम के तहत आपको सोने पर डिस्काउंट भी मिलेगा. वित्त मंत्रालय (Ministry Of Finance) के बयान में कहा गया है कि सरकार ने भारतीय रिजर्व बैंक के साथ मिलकर ऑनलाइन खरीद करने वालों को प्रति ग्राम 50 रुपए की छूट देने का निर्णय किया है. ऐसे निवेशकों के लिए एक ग्राम सोने का बॉन्ड 4,612 रुपए की दर पर जारी किया जाएगा.

ये भी पढ़ें- SBI ने 44 करोड़ ग्राहकों को किया अलर्ट! भूलकर भी ना करें ये काम, वरना खाली हो सकता है आपका बैंक अकाउंट
सोने में निवेश का बेहतरीन समय..


गोल्ड में निवेश करने का यह सबसे बेहतर समय है. बता दें सोने के भाव में पिछले छह महीने में 18 प्रतिशत से ज्यादा गिरावट आ चुकी है. अगस्त के ऑल टाइम हाई से सोना करीब 10500 रुपए सस्ता हो चुका है. ऐसे में यह निवेश का शानदार मौका है. पिछले साल सोने ने 25 प्रतिशत का रिटर्न दिया है.

8 साल के लिए जारी किए जाते हैं बाॅन्ड
बाॅन्ड का मूल्य इंडियन बुलियन एंड ज्वेलर्स एसोसिएशन लि. (IBJA)द्वारा दी गई 999 शुद्धता वाले गोल्ड के औसत क्लोजिंग प्राइस के आधार पर तय किया गया है. ये बाॅन्ड 8 साल के लिए जारी किए जाते हैं और 5 साल के बाद आप चाहें तो इससे बाहर निकल सकते हैं. आवेदन कम से कम 1 ग्राम और उसके मल्टीपल में जारी होते हैं.

ये भी पढ़ें- BACKSTORY: एक रिफ्यूजी की कहानी जो बना भारत का सबसे मशहूर मसाला किंग, पढ़ें दिलचस्प स्टोरी

क्या है सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड?
सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में निवेशक को फिजिकल रूप में सोना नहीं मिलता. यह फिजिकल गोल्ड की तुलना में अधिक सुरक्षित है. जहां तक शुद्धता की बात है तो इलेक्ट्रॉनिक रूप में होने के कारण इसकी शुद्धता पर कोई संदेह नहीं किया जा सकता. इस पर तीन साल के बाद लांग टर्म कैपिटल गेन टैक्स लगेगा (मैच्योरिटी तक रखने पर कैपिटल गेन टैक्स नहीं लगेगा) वहीं इसका लोन के लिए इसका उपयोग कर सकते हैं. अगर बात रिडेंप्शन की करें तो पांच साल के बाद कभी भी इसको भुना सकते हैं.

ये भी पढ़ें- 3 मार्च को लॉन्च होगा IIFL Finance का बॉन्ड, 1000 करोड़ जुटाने की तैयारी, ग्राहकों को होगा ये बड़ा फायदा

गोल्ड बॉन्ड को लेकर अन्य जरूरी जानकारी
गोल्ड बॉन्ड को स्मॉल फाइनेंस बैंकों या पेमेंट बैंकों, स्टॉक होल्डिंग कॉरपोरेशन आफ इंडिया, पोस्ट ऑफिस, व NSE और BSE के जरिए निवेश किया जा सकता है. जानकारों का मानना है कि नॉन फिजिकल गोल्ड में निवेश करने के लिए सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड एक प्रभावी तरीका है. अगर गोल्ड बॉन्ड में निवेश करने वाला मैच्योरिटी तक रुकता है तो उन्हें इसके कई फायदे मिलते हैं.
सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड के हर आवेदन के साथ निवेशक PAN जरूरी है. सभी कमर्शियल बैंक (आरआरबी, लघु वित्त बैंक और भुगतान बैंक को छोड़कर), डाकघर, स्टॉक होल्डिंग कॉरपोरेशन ऑफ़ इंडिया लिमिटेड (एसएचसीआईएल), नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ़ इंडिया लिमिटेड और बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज या सीधे एजेंटों के माध्यम से आवेदन प्राप्त करने और ग्राहकों को सभी सेवाएं प्रदान करने के लिए अधिकृत हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज