सस्ते में सोना खरीदने का मौका देने वाली सरकारी स्कीम के लिए RBI ने Gold के दाम तय किए, जानिए सब कुछ

सस्ते में सोना खरीदने का मौका देने वाली सरकारी स्कीम के लिए RBI ने Gold के दाम तय किए, जानिए सब कुछ
RBI ने गोल्ड बॉन्ड की कीमत 5,117 रुपये प्रति ग्राम तय की है.

Sovereign Gold Bond Scheme 2020-21: सरकारी गोल्ड बॉन्ड योजना की छठी किस्त के बॉन्ड की खरीद के लिए RBI ने दाम तय कर दिए है. निवेशकों के लिए यह स्कीम 31 अगस्त से खुलेगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 29, 2020, 2:41 PM IST
  • Share this:
मुंबई. सरकारी गोल्ड बॉन्ड योजना 2020-21 की छठी श्रृंखला (Sovereign Gold Bond Scheme 2020-21) 31 अगस्त को खुलकर 4 सितंबर को बंद होगी. इससे पहले तीन अगस्त से सात अगस्त तक खुली पांचवीं श्रृंखला के गोल्ड बॉन्ड का इश्यू प्राइस 5,334 रुपये प्रति ग्राम था. वहीं, अब RBI ने गोल्ड बॉन्ड की कीमत 5,117 रुपये प्रति ग्राम तय की है. आपको बता दें कि सरकार, इस साल  के लिए आखिरी बार गोल्ड बॉन्ड लेकर आई है. वह भी तब जब घरेलू कीमतें नई ऊंचाई पर पहुंच रही हैं. सोना 56000 रुपये प्रति 10 ग्राम से ऊपर पहुंच कर रिकॉर्ड बना चुका है. हालांकि, बीते कुछ दिनों में सोना की कीमतें गिरी हैं. इसके बावजूद विशेषज्ञों का मानना है कि दीवाली तक यह 64000 से 82000 रुपये तक पहुंच सकता है.

कैसे तय होती है बॉन्ड के लिए सोने की कीमतें- आरबीआई ने कहा कि स्वर्ण बॉन्ड की कीमत उसके पेश होने वाले सप्ताह से पिछले हफ्ते के अंतिम तीन कारोबारी दिन पर तय होती है यानी 99.9 प्रतिशत शुद्धता वाले सोने की बंद औसत कीमत पर इन्हें तय किया जाता है. मौजूदा श्रृंखला के लिए यह गणना 26 अगस्त से 28 अगस्त 2020 के औसत बंद भाव पर 5,117 रुपये प्रति ग्राम की गयी है.

कैसे और कहां से खरीदें सस्ते में गोल्ड बॉन्ड-गोल्ड बॉन्ड की खरीद के लिए डिजिटल भुगतान करने पर प्रति ग्राम 50 रुपये की छूट मिलेगी. ऐसे निवेशकों के लिए बॉन्ड की कीमत 5,067 रुपये प्रति ग्राम होगी. सरकार की ओर से बॉन्ड को आरबीआई जारी करता है. गोल्ड बॉन्ड को ऑनलाइन खरीद सकते हैं. इसके अलावा इसकी बिक्री बैंकों, स्टॉक होल्डिंग कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (एसएचसीआईएल), चुनिंदा डाकघरों और एनएसई व बीएसई जैसे स्टॉक एक्सचेंज के जरिए भी होगी.



कितना खरीदा जा सकता है सोना-कोई शख्स एक वित्त वर्ष में मिनिमम 1 ग्राम और मैक्सिमम 4 किलोग्राम तक वैल्यू का बॉन्ड खरीद सकता है. हालांकि किसी ट्र्स्ट के लिए खरीद की अधिकतम सीमा 20 किग्रा है.
VIDEO-अगले हफ्ते कैसी रहेगी सोने की चाल



क्या आप दुनिया की सबसे बड़ी सोने की खदानों के बारे में जानते हो? जहां जमीन में दबा है टनों सोना

आपको मिलेंगे ये फायदें- इसकी सबसे खास बात होती है कि निवेशक को सोने के भाव बढ़ने का लाभ तो मिलता ही है, साथ ही उन्हें इन्वेस्टमेंट रकम पर 2.5 फीसद का गारंटीड फिक्स्ड ​इंटरेस्ट भी मिलता है. इन बॉन्ड्स की अवधि 8 साल की होती है और 5वें साल के बाद ही प्रीमैच्योर विड्रॉल किया जा सकता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज