Gold Price: 17 मई से खरीदें सस्ता सोना, केंद्र सरकार लेकर आई खास ऑफर, चेक करें कितनी मिलेगी छूट

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड (Sovereign gold bond)

वित्त वर्ष 2021-22 के लिए सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड (Sovereign gold bond) की पहली बिक्री 17 मई यानी सोमवार से शुरू हो रही है. यह 5 दिन तक चलेगी.

  • Share this:
    नई दिल्ली: अगर आप सस्ते में सोना (Gold Price Today) खरीदने का प्लान बना रहे हैं तो केंद्र सरकार आपके लिए खास ऑफर लेकर आ रही है, जिसमें आप सस्ता सोना खरीद कर निवेश कर सकते हैं. वित्त वर्ष 2021-22 के लिए सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड (Sovereign gold bond) की पहली बिक्री 17 मई यानी सोमवार से शुरू हो रही है. यह 5 दिन तक चलेगी यानी आपके पास 5 दिन बाजार से कम रेट्स में सोना खरीदने का मौका है. आइए आपको बताते हैं कि आप कैसे खरीद पाएंगे सस्ता सोना-

    वित्त मंत्रालय (Finance Ministry) ने जानकारी में बताया कि सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड मई से लेकर सितंबर के बीच छह किस्तों में जारी किए जाएंगे. वित्त वर्ष 2021-22 की पहली किस्त के तहत 17 से 21 मई के बीच खरीद की जा सकेगी और 25 मई को बॉन्ड जारी किए जाएंगे.

    यह भी पढ़ें: Akshaya Tritiya 2021पर गोल्ड में करें निवेश, सालभर में होंगे मालामाल! जानें क्या कहते हैं एक्सपर्ट?

    बॉन्ड में निवेशक एक ग्राम के मल्टीप्लाई में निवेश कर सकते हैं. इसमें निवेश की अवधि (Tenure) 8 साल है. पांचवें साल से योजना से ब्याज भुगतान की तिथि से बाहर निकलने का विकल्प मिलता है.

    कितना कर सकते हैं निवेश
    स्‍कीम के तहत व्यक्तिगत निवेशक और हिंदू अविभाजित परिवार एक वित्त वर्ष में कम से कम एक ग्राम और अधिकतम चार किलोग्राम गोल्‍ड के लिए निवेश कर सकते हैं. ट्रस्ट और ऐसी ही दूसरी इकाइयां हर साल 20 किग्रा सोने में निवेश कर सकते हैं. गोल्ड बॉन्ड की बिक्री बैंकों (Banks), स्टॉक होल्डिंग कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया, डाकघरों (Post Offices) और मान्यता प्राप्त शेयर बाजारों (Stock Markets) के जरिये की जाएगी.

    कहां से खरीद सकते हैं आप गोल्ड बॉन्ड
    सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड खरीदने के लिए आपके पास पैन कार्ड होना जरूरी है. निवेशक ये बॉन्ड ऑनलाइन भी खरीद सकते हैं. इसके अलावा बैंकों, स्टॉक होल्डिंग कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (एसएचसीआईएल), चुनिंदा डाकघरों और एनएसई व बीएसई जैसे स्टॉक एक्सचेंज से आप इसकी खरीदारी कर सकते हैं.

    जानिए क्या है सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड?
    गोल्ड बॉन्ड में निवेशक को फिजिकल रूप में सोना नहीं मिलता है. यह फिजिकल गोल्ड के मुकाबले काफी सुरक्षित रहता है. इस पर तीन साल के बाद लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन टैक्स लगता है. वहीं, इसका लोन के लिए इसका उपयोग कर सकते हैं. अगर बात रिडेंप्शन की करें तो पांच साल के बाद कभी भी इसको भुना सकते हैं.

    यह भी पढ़ें: पैसे कमाने के 10 तरीके, घर बैठे होगी 50 हजार से 1 लाख तक की कमाई, जानें कैसे

    कैसे तय होता है प्राइस
    बता दें आवेदन कम से कम 1 ग्राम और उसके मल्‍टीपल में जारी होते हैं. बॉन्ड का प्राइस इंडियन बुलियन एंड ज्वेलर्स एसोसिएशन लि. (IBJA) द्वारा दी गई 999 शुद्धता वाले गोल्ड के औसत क्लोजिंग प्राइस के आधार पर तय किया गया है.