लाइव टीवी

SRS Group के सिनेमा हॉल समेत 2500 करोड़ से अधिक की प्रॉपर्टी को ईडी ने किया ज़ब्त, जानिए पूरा मामला

News18Hindi
Updated: January 9, 2020, 6:23 PM IST
SRS Group के सिनेमा हॉल समेत 2500 करोड़ से अधिक की प्रॉपर्टी को ईडी ने किया ज़ब्त, जानिए पूरा मामला
हरियाणा (फरीदाबाद) और दिल्ली पुलिस ने SRS समूह के खिलाफ अलग-अलग आपराधिक मामला दायर किया है.

हरियाणा स्थित एसआरएस समूह की 2,500 करोड़ रुपये की संपत्तियां कुर्क की गई हैं. SRS ग्रुप के प्रमोटर्स पर आरोप है कि उन्होंने रियल एस्टेट इकाइयों मसलन दुकानों, प्लॉट, फ्लैट और अपार्टमेंट में निवेश पर ऊंचे रिटर्न का वादा कर निवेशकों के साथ धोखाधड़ी की है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 9, 2020, 6:23 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने धनशोधन और धोखाधड़ी के मामले में हरियाणा स्थित एसआरएस समूह की 2,500 करोड़ रुपये की संपत्तियां कुर्क की हैं. एजेंसी ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी देते हुए कहा, ‘‘एसआरएस समूह, उसके प्रवर्तकों, परिवार के सदस्यों और सहायक कंपनियों की चल और अचल संपत्तियां मसलन जमीन, रियल एस्टेट परियोजनाएं, वाणिज्यिक परियोजनाएं, आवासीय इकाइयां, सिनेमा हॉल और बैंक में मियादी जमा को कुर्क किया गया है. इन संपत्तियों का कुल मूल्य 2,510.82 करोड़ रुपये आंका गया है.

क्या है मामला- धनशोधन रोधक कानून (पीएमएलए) के तहत इन संपत्तियों की कुर्की का अस्थायी आदेश जारी किया गया है. समूह और उसके प्रमोटर्स पर आरोप है कि उन्होंने रियल एस्टेट इकाइयां मसलन दुकानों, प्लॉट, फ्लैट और अपार्टमेंट में निवेश पर ऊंचे रिटर्न का वादा कर निवेशकों के साथ धोखाधड़ी की.

>> हरियाणा (फरीदाबाद) और दिल्ली पुलिस ने इस मामले में समूह के खिलाफ अलग-अलग आपराधिक मामला दायर किया था.

>> एसआरएस समूह की आधिकारिक वेबसाइट के अनुसार समूह विभिन्न क्षेत्रों मसलन सोना एवं आभूषण, जिंस, सिनेमा, खुदरा, होटल, वित्तीय सेवाएं, रियल एस्टेट, शिक्षा और स्वास्थ्य सेवा में कार्यरत है.

>> ईडी ने अपनी जांच में पाया कि समूह के प्रवर्तक अनिल जिंदल और संस्थापक निदेशकों, जितेंद्र कुमार गर्ग और प्रवीन कुमार कपूर ने अन्य लोगों के साथ मिलकर आपराधिक साजिश रची. लोगों और संस्थानों को ऊंचे रिटर्न का वादा कर निवेश आकर्षित किया.

>> जिंदल को फरीदाबाद पुलिस ने 2018 में गिरफ्तार किया था. एजेंसी ने कहा कि बाद में इस निवेश को समूह की अन्य कंपनियों में विभिन्न मुखौटा कंपनियों के जरिये इधर उधर किया गया. इन छद्म कंपनियों में कई डमी निदेशक बनाए गए जो एसआरएस समूह के कर्मचारी थे.

यह भी पढ़ें :-अब स्टेशन पर पहुंचते ही अपराधी को तुरंत पकड़ लेगी पुलिस! रेलवे की नई सर्विस
मोदी सरकार के इस फैसले की बाबा रामदेव ने की तारीफ, किसानों को मिलेगी बड़ी राहत
LIC की जीवन प्रगति स्कीम, रोजाना 200 रुपये खर्च कर इतने साल में मिलेंगे 28 लाख


 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए चंडीगढ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 9, 2020, 5:47 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर