Home /News /business /

₹20000 में शुरू करें इस पौधे की खेती, आराम से होगी 3.5 लाख की कमाई, जानिए कैसे?

₹20000 में शुरू करें इस पौधे की खेती, आराम से होगी 3.5 लाख की कमाई, जानिए कैसे?

इस बिजनेस को स्टार्ट करने में केंद्र सरकार (Modi Government) भी आपकी मदद करेगी

इस बिजनेस को स्टार्ट करने में केंद्र सरकार (Modi Government) भी आपकी मदद करेगी

आज हम आपको बताएंगे कि आप कैसे इस पौधे की खेती (How to earn money with Bonsai Plant) कर सकते हैं और इसके लिए आपको कितने रुपए खर्च करने होंगे. साथ ही केंद्र सरकार (Modi Government) भी इस खेती के लिए आर्थिक सहायता देती है.

    नई दिल्ली. बोन्साई प्लांट (Bonsai Plant) एक ऐसा पौधा, जिसको आजकल लोगों का गुडलक माना जाता है लेकिन क्या आपको पता है कि आप इस पौधे के जरिए अच्छी कमाई कर सकते हैं…आज हम आपको बताएंगे कि आप कैसे इस पौधे की खेती (How to earn money with Bonsai Plant) कर सकते हैं और इसके लिए आपको कितने रुपए खर्च करने होंगे. आपको बता दें आजकल सजावट और गुडलक के अलावा ज्योतिष शास्त्र, वास्तुशास्त्र के लिए भी इस पौधे का इस्तेमाल किया जा सकता है. केंद्र सरकार (Modi Government) भी इस खेती के लिए आर्थिक सहायता देती है.

    बता दें आप इस बिजनेस को 20 हजार रुपये में भी शुरू कर सकते हैं फिलहाल शुरुआत में आप इसे अपनी जरूरत के हिसाब से छोटे या बड़े लेवल पर शुरु करें. इसके बाद प्रॉफिट और सेल बढ़ने पर आप बिजनेस का आकार बढ़ा सकते हैं.

    कितनी होती है इस प्लांट की कीमत
    आजकल इसको लकी प्लांट के रुप में काफी इस्तेमाल किया जाता है. इसका इस्तेमाल घर और ऑफिस में सजावट के लिए भी किया जाता है. इसकी वजह से आजकल इनकी डिमांड काफी ज्यादा है. आजकल बाजार में इन पौधों की कीमत 200 रुपये से लेकर करीब 2500 रुपये तक हो सकती है. इसके अलावा बोनसाई प्लांट के शौकीन लोग इसकी मुंह मांगी कीमत भी देने के लिए तैयार रहते है.

    ये भी पढ़ें: 9 रुपये वाला स्टॉक 8 महीने में हुआ 650 रुपये का, दिया 7000% का रिटर्न, क्या अपाके पास है? 

    दो तरीकों से कर सकते हैं बिजनेस
    पहला तरीके में आप बहुत ही कम पूंजी से इस बिजनेस को शुरू कर सकती है. लेकिन इसमें आपको थोड़ा समय लगेगा. क्योंकि बोनसाई प्लांट को तैयार होने में कम से कम दो से पांच साल का समय लगता है. इसके अलावा आप नर्सरी से तैयार प्लांट लाकर उन्हें 30 से 50 परसेंट अधिक कीमत पर भी बेच सकती है.

    किन सामान की होगी जरूरत
    इस बिजनेस को शुरू करने के लिए आपको साफ पानी, रेतीली मिट्टी या रेत, गमले व कांच के पॉट, जमीन या छत , 100 से 150 वर्ग फुट, साफ कंकड़ या कांच की गोलियां, पतला तार, पौध पर पानी छिड़कने के लिए स्प्रे बॉटल, शेड बनाने के लिए जाली. बता दें अगर आप ये बिजनेस छोटे पैमाने पर शुरू करेंगे तो करीब 5 हजार रुपये का निवेश होगा. वहीं, थोड़ा स्केल बढ़ाएंगे तो 20 हजार तक का खर्च आएगा.

    सरकार करेगी इतनी मदद
    तीन साल में औसतन 240 रुपये प्रति प्लांट की लागत आएगी, जिसमें से 120 रुपये प्रति प्लांट सरकारी सहायता मिलेगी. नार्थ ईस्ट को छोड़कर अन्य क्षेत्रों में इसकी खेती के लिए 50 फीसदी सरकार और 50 फीसदी किसान लगाएगा. 50 फीसदी सरकारी शेयर में 60 फीसदी केंद्र और 40 फीसदी राज्य की हिस्सेदारी होगी. जबकि नार्थ ईस्ट में 60 फीसदी सरकार और 40 फीसदी किसान लगाएगा. 60 फीसदी सरकारी पैसे में 90 फीसदी केंद्र और 10 फीसदी राज्य सरकार का शेयर होगा. जिले में इसका नोडल अधिकारी आपको पूरी जानकारी दे देगा.

    ये भी पढ़ें: IndiGo ने कई खूबसूरत शहरों के लिए शुरू की फ्लाइट, मात्र 4499 रुपये में घूमें अपनी पसंदीदा जगह 

    होगी 3.5 लाख की कमाई
    जरूरत और प्रजाति के हिसाब से एक हेक्टेयर में 1500 से 2500 पौधे लगा सकते हैं. अगर आप 3 गुणा 2.5 मीटर पर पौधा लगाते हैं तो एक हेक्टेयर में करीब 1500 प्लांट लगेंगे. साथ में आप दो पौधों के बीच में बची जगह में दूसरी फसल उगा सकते हैं. 4 साल बाद 3 से 3.5 लाख रुपये की कमाई होने लगेगी.

    हर साल रिप्लांटेशन करने की जरूरत नहीं. क्योंकि बांस की पौध करीब 40 साल तक चलती है. दूसरी फसलों के साथ खेत की मेड़ पर 4 गुणा 4 मीटर पर यदि आप बांस लगाते हैं तो एक हेक्टेयर में चौथे साल से करीब 30 हजार रुपए की कमाई होने लगेगी. इसकी खेती किसान का रिस्क फैक्टर कम करती है. क्योंकि किसान बांस के बीच दूसरी खेती भी कर सकता है.

    Tags: Business at small level, Business from home, Business ideas, Business news in hindi, Earn money

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर