• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • सरकार से 50% सब्सिडी लेकर ₹30 हजार में शुरू करें ये कारोबार, हर महीने हागी ₹3 लाख की कमाई

सरकार से 50% सब्सिडी लेकर ₹30 हजार में शुरू करें ये कारोबार, हर महीने हागी ₹3 लाख की कमाई

How to start a business? आज हम आपको एक खास बिजनेस आइडिया के बारे में बताने जा रहे हैं. इस बिजनेस को आप 30 हजार से भी कम रकम में शुरू कर सकते हैं और हर महीने 3 लाख से ज्यादा कमा सकते हैं.

How to start a business? आज हम आपको एक खास बिजनेस आइडिया के बारे में बताने जा रहे हैं. इस बिजनेस को आप 30 हजार से भी कम रकम में शुरू कर सकते हैं और हर महीने 3 लाख से ज्यादा कमा सकते हैं.

How to start a business? आज हम आपको एक खास बिजनेस आइडिया के बारे में बताने जा रहे हैं. इस बिजनेस को आप 30 हजार से भी कम रकम में शुरू कर सकते हैं और हर महीने 3 लाख से ज्यादा कमा सकते हैं. इसमें सरकार भी मदद करती है.

  • Share this:

    नई दिल्ली. आप कम पैसे लगाकर कोई कोराबार (Starting a business) शुरू करना चाहते हैं तो आज हम आपको एक खास बिजनेस आइडिया (How to start Business) के बारे में बताने जा रहे हैं. इस बिजनेस को आप 30 हजार से भी कम रकम में शुरू कर सकते हैं और अच्छी कमाई (earn money) कर सकते हैं. इसमें खास बात यह है कि इस कारोबार के लिए आपको सरकार द्वारा 50 फीसदी तक सब्सिडी भी मिलेगी. जैसा कि हम जानते हैं आजकल मोती की खेती (Pearl farming) पर लोगों का फोकस तेजी से बढ़ा है. इसकी खेती करके कई लोग लखपति बन चुके हैं. तो आइए जानते हैं इस कारोबार को कैसे शुरू किया जा सकता है…

    मोती की खेती के लिए किन चीजों की जरूरत होगी?
    मोती की खेती के लिए एक तालाब, सीप ( जिससे मोती तैयार होता है) और ट्रेनिंग, इन तीन चीजों की जरूरत होती है. तालाब चाहे तो आप खुद के खर्च पर खुदवा सकते हैं या सरकार 50% सब्सिडी देती है, उसका भी लाभ ले सकते हैं. सीप भारत के कई राज्यों में मिलते हैं. हालांकि दक्षिण भारत और बिहार के दरभंगा के सीप की क्वालिटी अच्छी होती है. इसकी ट्रेनिंग के लिए भी देश में कई संस्थान हैं. मध्यप्रदेश के होशंगाबाद और मुंबई से मोती की खेती की ट्रेनिंग ले हैं.

    ये भी पढ़ें- LIC- इस योजना में जमा करें 130 रुपये, बेटी की शादी पर मिलेंगे पूरे ₹27 लाख, जानिए क्या है स्कीम?

    जानें कैसे करें मोतियों की खेती?
    सबसे पहले सीपियों को एक जाल में बांधकर 10 से 15 दिनों के लिए तालाब में डाल दिया जाता है, ताकि वो अपने मुताबिक अपना एनवायरमेंट क्रिएट कर सकें, इसके बाद उन्हें बाहर निकालकर उनकी सर्जरी की जाती है. सर्जरी यानी सीप के अंदर एक पार्टिकल या सांचा डाला जाता है. इसी सांचे पर कोटिंग के बाद सीप लेयर बनाते हैं, जो आगे चलकर मोती बनता है.

    ये भी पढ़ें- HBD JRD Tata: कहानी भारत के पहले कॉर्मिशयल पायलट की जिनके बदौलत देश को मिली Air India

    25 हजार रुपये की लागत से शुरुआत
    एक सीप के तैयार होने में 25 से 35 रुपये का खर्च आता है. जबकि तैयार होने के बाद एक सीप से दो मोती निकलते हैं.और एक मोती कम से कम 120 रुपये में बिकता है. अगर क्वालिटी अच्छी हुई तो 200 रुपये से भी ज्यादा कीमत मिल सकती है. अगर आप एक एकड़ के तालाब में 25 हजार सीपियां डालें तो इस पर करीब 8 लाख रुपये का खर्च आता है. मान लें कि तैयार होने के क्रम में कुछ सीप बर्बाद भी हो गए तो भी 50% से ज्यादा सीप सुरक्षित निकलते ही हैं. इससे आसानी से 30 लाख रुपये सालाना कमाई हो सकती है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज