• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • नए फाइनेंशियल ईयर पर शुरू करें ये बिजनेस, जमकर होगी कमाई, सरकार भी देगी मदद

नए फाइनेंशियल ईयर पर शुरू करें ये बिजनेस, जमकर होगी कमाई, सरकार भी देगी मदद

नोटबुक बनाने के बिजनेस से मोटी कमाई की जा सकती है.

नोटबुक बनाने के बिजनेस से मोटी कमाई की जा सकती है.

जल्द ही एजुकेशन सीजन शुरू होने वाला है. ऐसे में नोटबुक बनाने का बिजनेस शुरू किया जा सकता है, जिसमें बेहतर कमाई भी है. खास बात यह है कि इस बिजनेस को शुरू करने के लिए केंद्र सरकार मदद भी करती है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. चालू वित्त वर्ष का महीना अब लगभग खत्म होने वाला है. इसके साथ ही 1 अप्रैल से नए फाइनेंशियल ईयर पर आपके पास नया बिजनेस शुरू कर मोटी कमाई का शानदार मौका. खास बात है कि इस बिजनेस में आपको बहुत पैसे भी नहीं खर्च करने हैं और मोदी सरकार भी इसके लिए आपकी मदद करेगी. आप तो नोटबुक बनाने का बिजनेस शुरू कर सकते हैं. आपके ​लिए अप्रैल बेहतर मौका इस​लिए भी है, क्योंकि जल्द ही एजुकेशनल सीजन भी शुरू होने वाला है.

    इस वजह से अप्रैल में नोटबुक की मांग काफी बढ़ जाती है. अगर आप अभी में यह बिजनेस शुरू करते हैं तो एक-दो माह में आप अपना बिजनेस अच्‍छी तरह से जमा सकते हैं. यह बिजनेस केंद्र सरकार की एमएसएमई स्कीम से जुड़ा है, जिसके तहत बिजनेस शुरू करने पर आपको 60 से 80 फीसदी तक सरकारी मदद मिल जाती है. आइए जानते हैं नोटबुक बनाने का बिजनेस शुरू करने के बारे में सबकुछ...

    यह भी पढ़ें: मैरियट ने कर्मचारियों को बिना पेमेंट छुट्टी पर भेजा, बॉस भी नहीं लेंगे सैलरी

    कितनी लागत में शुरू कर सकते हैं ये बिजनेस
    आप यह बिजनेस शुरू करना चाहते हैं तो आपके पास कम से कम 4 लाख रुपये होने चाहिए. इसके बाद आप बैंकों से लोन के लिए अप्‍लाई कर सकते हैं. सरकार द्वारा तैयार की प्रोजेक्‍ट प्रोफाइल रिपोर्ट के मुताबिक, आप 9 लाख रुपये वर्किंग कैपिटल लोन और 3.50 रुपये का टर्म लोन ले सकते हैं. इस तरह आप लगभग 16.50 हजार रुपये का प्रोजेक्‍ट शुरू कर सकते हैं.

    एजुकेशन सीजन में बढ़ जाती है इस बिजनेस में डिमांड
    इस बिजनेस की खास बात यह है कि नोटबुक, नोट पैड या रिकॉर्ड बुक की डिमांड हर जगह है. चाहे स्कूल-कॉलेज हों या ऑफिस या बिजनेस, हर जगह इसकी जरूरत होती है. यहां तक कि घरों में भी कई कामों में इनका इस्तेमाल होता है. नोटबुक या नोट पैड की डिमांड दिनों-दिन बढ़ रही है. अगर आपके प्रोडक्ट की क्वालिटी अच्छी है तो बिजनसे में सफल होने का चांस ज्यादा है. आप किसी भी एरिया में बिजनेस शुरू कर सकते हैं.

    यह भी पढ़ें: कोरोना वायरस की दवा बनाने के लिए ₹5 करोड़ देगी Paytm, वेंटीलेटर्स की भी तैयारी

    किन चीजों की होगी जरूरत
    आपके पास स्पेस या बिल्डिंग है या नहीं, दोनों कंडीशन में बिजनेस शुरू किया जा सकता है. अगर आपके पास स्पेस नहीं है तो आप 500 वर्गफुट तक का स्पेस रेंट पर ले सकते हैं. इसके लिए आपको एरिया के हिसाब से रेंट देना होगा. रेंट 5 से 15 हजार रुपये तक हो सकता है. खुद की स्पेस है तो ये पैसा भी आपके बचत में शामिल हो जाएगा. इस स्पेस पर आपको मशीनरी सेट-अप करना होगा.

    कुल कितना खर्च करना होगा?
    कुल खर्च: 16.88 लाख रुपये, वर्किंग कैपिटल: 12 लाख रुपये, वर्किंग कैपिटल में रॉ मैटेरियल, लेबर चार्ज, पैकिंग, टेलिफोन बिल, बिजली का बिल, रेंट आदि शामिल है. मशीनरी पर खर्च: 3.94 लाख रुपये, फिक्स्‍ड इन्वेस्टमेंट में पूरी मशीनरी और अन्य सेट-अप का खर्चा शामिल है. इलेक्ट्रिफिकेशन: 35 हजार रुपये, फर्नीचर: 45,400 रुपये.

    कैसे होगी मोटी कमाई
    सरकार ने एस्टीमेट तैयार किया है, जिसमें प्रोडक्शन कास्‍ट और सेल के हिसाब से टर्नओवर का रेश्‍यो तैयार किया गया है. एक फिक्स्‍ड मात्रा में प्रोडक्ट तैयार करने और उसकी एमआरपी तय करने के बाद, कास्ट ऑफ प्रोडक्शन पर 4 लाख रुपये महीना यानी 47 लाख रुपए सालाना, टर्नओवर- 5 लाख रुपये महीना यानी 59 लाख रुपये की सेल सालाना होगी. दूसरे खर्च करीब 4.85 लाख रुपये सालाना, नेट ऑपरेटिंग प्रॉफिट 7.38 लाख रुपये सालाना होगा. टैक्स का खर्च निकालने के बाद नेट प्रॉफिट 7 लाख रुपये सालाना होगा. यानी हर महीने आप 50 हजार रुपये से ज्यादा की कमाई कर सकते हैं.

    यह भी पढ़ें: Fixed Deposit: जानिए कौन सा टॉप बैंक आपको दे रहा ज्यादा मुनाफा

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन