मोदी की इस स्कीम से 20 हजार लोग बने अपनी कंपनी के मालिक, दो लाख से अधिक लोगों को दिया रोजगार!

महाराष्ट्र, कर्नाटक, दिल्ली, यूपी, तेलंगाना और हरियाणा में हैं सबसे ज्यादा स्टार्टअप, हर स्टार्टअप में औसतन 11 लोगों को मिल रहा है काम!
महाराष्ट्र, कर्नाटक, दिल्ली, यूपी, तेलंगाना और हरियाणा में हैं सबसे ज्यादा स्टार्टअप, हर स्टार्टअप में औसतन 11 लोगों को मिल रहा है काम!

महाराष्ट्र, कर्नाटक, दिल्ली, यूपी, तेलंगाना और हरियाणा में हैं सबसे ज्यादा स्टार्टअप, हर स्टार्टअप में औसतन 11 लोगों को मिल रहा है काम!

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 1, 2019, 11:23 AM IST
  • Share this:
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील का असर दिखने लगा है. युवा नौकरी करने की जगह खुद मालिक बनना पसंद कर रहे हैं. 2015 के बाद से अब तक करीब 20 हजार युवाओं ने अपनी कंपनी खोली है. नए तरह का कामकाज शुरू किया है. साथ ही दो लाख से अधिक लोगों को रोजगार भी दे दिया है. हम बात कर रहे हैं स्टार्टअप इंडिया अभियान की.

वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के अधिकारियों के मुताबिक इस समय देश में 19,874 मान्यता प्राप्त स्टार्टअप हैं. इनमें 2,12,809 लोगों को रोजगार मिला हुआ है. यानी हर स्टार्टअप में औसतन 11 लोगों को जॉब मिली. इसके जरिए सबसे ज्यादा 40 हजार लोगों को महाराष्ट्र में काम मिला.

स्टार्टअप को मिलती है कई तरह की छूट



प्रधानमंत्री ने स्टार्टअप इंडिया की शुरुआत 15 अगस्त 2015 को की थी. इस स्कीम के तहत न सिर्फ युवा उद्यमी तैयार हो रहे हैं बल्कि वे युवाओं को रोजगार भी दे रहे हैं. इसके लिए 10 हजार करोड़ का कोष स्थापित किया गया है.  इसके तहत 3 साल तक टैक्स में छूट है और पहले 3 साल के दौरान कोई जांच नहीं होती है. भारतीय स्टार्टअप में विदेशी निवेश बढ़ाने के लिए केंद्र सरकार ने दिसंबर 2018 में गोवा में एक सम्मेलन आयोजित किया था.
startup-india-scheme-create-jobs-and-provide-more-than-two-lakh-employment-modi-government-dlop
स्टार्टअप इंडिया की शुरुआत प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की है


भारतीय स्टार्टअप में निवेश का संकट

मोदी सरकार 'स्टार्टअप मूवमेंट' के तहत जमीनी स्तर पर युवा उद्यमियों को बढ़ावा देने पर जोर दे रही है. इसका मकसद नए उद्यमियों को आगे बढ़ने में सहायता करना है. साफ्टवेयर दिग्गज आईबीएम की ओर से 2017 में जारी एक रिपोर्ट में बताया गया था कि भारत में फाइनेंस की कमी की वजह से 90 फीसदी से ज्यादा स्टार्टअप पहले 5 साल में ही दम तोड़ देते हैं. जबकि अन्य देशों में ऐसा नहीं होता और उन्हें निवेशकों का सपोर्ट मिलता है. इस तरह के हालात के बावजूद भारतीय स्टार्टअप्स ने ठीक-ठाक संख्या में लोगों को जॉब भी दी हुई है.

यहां हैं ज्यादा स्टार्टअप और रोजगार

>>सबसे ज्यादा 3,761 स्टार्टअप महाराष्ट्र में हैं. इनमें 39,771 लोगों को जॉब मिली हुई है.

>>दूसरा नंबर है कर्नाटक का, जहां 2,919 स्टार्टअप हैं. जिनमें 35,622 लोग काम कर रहे हैं.

>>तीसरे नंबर पर दिल्ली है, जहां 2,616 स्टार्टअप हैं और इनमें 27,271 लोग कार्यरत हैं.

>>उत्तर प्रदेश 1,607 स्टार्टअप के साथ चौथे नंबर पर है, जिनमें 15,479 लोगों को जॉब मिली हुई है.

>>तेलंगाना में 1,103 स्टार्टअप कार्यरत हैं, जिनमें 13,791 युवा काम कर रहे हैं.

>>हरियाणा छठे नंबर पर आ रहा है, जहां 1,086 स्टार्टअप हैं और इनमें 14,134 लोग जॉब कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें:

खुशखबरी! 2.5 करोड़ मुस्लिम लड़कियों को मोदी सरकार देगी स्कॉलरशिप, ऐसे मिलेगा लाभ!

मोदी सरकार ने किया बड़ा बदलाव किसान क्रेडिट कार्ड बनवाने में नहीं लगेगा चार्ज

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज