लाइव टीवी

SBI की खास स्कीम: एक बार जमा करें पैसा, हर महीने होगी कमाई

News18Hindi
Updated: November 9, 2019, 10:40 AM IST
SBI की खास स्कीम: एक बार जमा करें पैसा, हर महीने होगी कमाई
सिर्फ 1000 रुपये लगाकर हर महीने कमाई का मौका आपके पास है.

भारतीय स्टेट बैंक (SBI) सेविंग्स स्कीम में एक एन्युटी स्कीम की पेशकश करता है. इस स्कीम के तहत एक बार तय रकम जमा करने के बाद हर माह एक तय रकम जमा की जा सकती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 9, 2019, 10:40 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश के सबसे बड़े बैंक यानी भारतीय स्टेट बैंक (SBI) आम लोगों को कई तरह की सेविंग्स स्कीम्स (Savings Schemes) मुहैया कराता है. SBI के इन्हीं सेविंग्स स्कीम्स में से एक है एन्युटी स्कीम (SBI Annuity Schemes). इस स्कीम के तहत आप एक बार निवेश कर नियमित समय के लिए मासिक इनकम प्राप्त कर सकते है. एन्युटी पेमेंट में ग्राहक की तरफ से जमा रकम पर ब्याज लगकर एक तय समय के बाद इनकम मिलनी शुरू होती है. एसबीआई के इस स्कीम में न्यूनतम 1,000 रुपये मासिक एन्युटी के लिए जमा किया जा सकता है.इस स्कीम में अधिकतम निवेश की कोई सीमा तय नहीं की गई है.

क्या है निवेश की अवधि
SBI के इस एन्युटी स्कीम में 36, 60, 84 या 120 महीने की अवधि के लिए निवेश किया जा सकता है. इस निवेश पर ब्याज दर वहीं होगी जो चुनी गई अवधि के टर्म डिपॉजिट के लिए होगी. उदाहरण के तौर पर देखें तो मान लीजिए कि आप 5 साल के लिए एन्युटी डिपॉजिट करना चाहते हैं तो जमाकर्ता को 5 साल की एफडी पर लागू होने वाली ब्याज दर के हिसाब से ही ब्याज मिलेगा.


Loading...

ये भी पढ़ें: 1 जनवरी से बैंक के बचत खाताधारकों को मुफ्त मिलेगी ये सुविधा, RBI का आदेश

लोन लेने का भी विकल्प
इस स्कीम का लाभ लेने वाले जमाकर्ता की मृत्यु हो जाती है तो समय से पहले निकासी की अनुमति भी मिलती है. इस स्कीम के तहत जमा राशि का 75 फीसदी लोन भी लिया जा सकता है. हालांकि, लोन का विकल्प चुनने के बाद भी भविष्य की एन्युटी की पेमेंट लोन अकाउंट में तब तक जमा होगी जब तक की पूरा लोन वापस नहीं चुक पाता है. मान ​लीजिए कि अगर आप 5 साल के लिए 10,000 रुपये की मासिक एन्युटी चाहते हैं तो आपको 7 फीसदी की ब्याज दर को ध्यान में रखते हुए 5,07,965.93 रुपये जमा करने होंगे.

क्या है योग्यता
इस स्कीम का लाभ कोई भी ले सकता है. इसमें व्यक्तिगत या ज्वाइंट अकाउंट, बालिग और नाबालिग भी खोल सकते हैं. इस स्कीम को दूसरे ब्रांच में अकाउंट ट्रांसफर, टीडीएस के नियम एफडी के नियमों के आधार पर ही होंगे.

क्या है ​RD, FD और एन्युटी रेट में अंतर?
एन्युटी डिपॉजिट स्कीम रिकरिंग डिपॉजिट स्कीम का ठीक उल्टा होता है. रिकरिंग डिपॉजिट में जमाकर्ता हर माह एक तय रकम जमा करता है और मैच्योरिटी पर एक निश्चित रकम मिलती है. लेकिन, एन्युटी मैच्योरिटी के मामले में इसके विपरित एक ही बार में रकम जमा करनी होती है और चुनी गई अवधि पूरी होने के बाद हर महीने एक तय रकम मिलती है. जबकि, एफडी की बात करें तो इसमें जमाकर्ता एक तय कार्यकाल के लिए रकम जमा करता है. मैच्योरिटी के समय इस रकम को ब्याज समेत वापस मिल जाता है.

ये भी पढ़ें: अर्थव्‍यवस्‍था को लेकर अमेरिकी अरबपति ने की PM मोदी की तारीफ, बताया दुनिया के सर्वश्रेष्‍ठ नेताओं में से एक

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए इनोवेशन से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 9, 2019, 5:00 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...