Covid-19: स्टील कंपनियों ने पिछले साल सितंबर से अब तक 1.43 लाख मीट्रिक टन मेडिकल ऑक्सीजन की सप्लाई की

ऑक्‍सीजन सिलेंडर    (Image/shutterstock)

ऑक्‍सीजन सिलेंडर (Image/shutterstock)

सितंबर, 2020 से 22 अप्रैल, 2021 तक स्टील इंडस्ट्री ने 1,43,876.28 मीट्रिक टन लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन (LMO) की सप्लाई की है.

  • Share this:
नई दिल्ली. स्टील कंपनियों ने देश के विभिन्न हिस्सों में कोरोना वायरस (Coronavirus) से संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए 1.43 लाख मीट्रिक टन लिक्विड मेडिकल ऑक्सीजन यानी एलएमओ (Liquid Medical Oxygen) की सप्लाई की है. स्टील मिनिस्ट्री द्वारा उपलब्ध कराए गए आंकड़ों के मुताबिक, सितंबर, 2020 से 22 अप्रैल, 2021 तक सार्वजनिक और निजी क्षेत्र सहित स्टील इंडस्ट्री ने 1,43,876.28 मीट्रिक टन एलएमओ (LMO) की सप्लाई की है. इनमें स्टील सेक्टर के केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र उपक्रमों (CPSEs) का हिस्सा 39,805.73 टन रहा है.

निजी क्षेत्र की जिन कंपनियों ने इस्पात की आपूर्ति की है उनमें टाटा स्टील, आर्सेलर मित्तल निप्पन स्टील इंडिया, जेएसडब्ल्यू स्टील, जिंदल स्टील एंड पावर लि. और वेदांता ईएसएल शामिल हैं। वहीं सार्वजनिक क्षेत्र की स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लि. (SAIL) और राष्ट्रीय इस्पात निगम लि. (RINL) ने भी ऑक्सीजन की सप्लाई की है.

स्टील प्लांट से कई राज्यों को हुई ऑक्सीजन की सप्लाई

स्टील प्लांट से ऑक्सीजन की सप्लाई महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, आंध्र प्रदेश, ओडिशा, पश्चिम बंगाल, बिहार, झारखंड, दिल्ली, मध्य प्रदेश और अन्य राज्यों को की गई है.
ये भी पढ़ें- Pradhan Mantri Garib Kalyan Anna Yojana: पीएमजीकेएवाई के तहत 80 करोड़ लाभार्थियों को मिलेगा फायदा

टाटा स्टील ने गुरुवार को कहा था कि वह विभिन्न राज्यों को प्रतिदिन 300 टन एलएमओ की सप्लाई कर रही है. इस बीच, एएमएनएस इंडिया ने अपनी दैनिक आपूर्ति को बढ़ाकर 210 टन कर दिया है. जेएसडब्ल्यू और जेएसपीएल ने कहा है कि वे प्रतिदिन क्रमश: 185 और 100 टन ऑक्सीजन की सप्लाई कर रही हैं. आरआईएनएल ने कहा है कि वह प्रतिदिन 100 टन एलएमओ की आपूर्ति कर रही है. सेल ने गुरुवार को ट्वीट कर कहा था कि वह प्रतिदिन औसतन 600 टन ऑक्सीजन की सप्लाई कर रही है.

धर्मेंद्र प्रधान ने स्टील कंपनियों के प्रति जताया आभार



केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा, ''मैं इस समय साथ आने के लिए सभी स्टील कंपनियों का आभार जताता हूं. ये कंपनियां देश के लिए चौबीसों घंटे सातों दिन काम कर रही हैं. हम कोविड महामारी का मुकाबला मिलकर करेंगे.''
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज