होम /न्यूज /व्यवसाय /डॉलर की मजबूती और मंदी की आशंका से सहमे एशियाई बाजार, लंबा चल सकता है गिरावट का दौर

डॉलर की मजबूती और मंदी की आशंका से सहमे एशियाई बाजार, लंबा चल सकता है गिरावट का दौर

आज शुरुआती कारोबार में ही भारत सहित लगभग सभी एशियाई बाजार गिर गए हैं.

आज शुरुआती कारोबार में ही भारत सहित लगभग सभी एशियाई बाजार गिर गए हैं.

भारतीय शेयर बाजारों में बुधवार को लगातार छठे कारोबारी सत्र में गिरावट दिखी और सेंसेक्‍स खुलते ही 500 अंक टूट गया. जापान ...अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated :

हाइलाइट्स

जापान का निक्‍की 2.1% और दक्षिण कोरियाई शेयर बाजार 2.4% गिर गया है.
चीन के हालात भी कुछ अच्‍छे नहीं है. चीनी ब्लू चिप्स 0.6% गिरा है.
बीएसई सेंसेक्‍स बुधवार को खुलते ही 500 अंक टूट गया.

नई दिल्‍ली. एशियाई शेयर बाजार बुधवार 28 सितंबर को भी लाल निशान में कारोबार कर रहे हैं. कई देशों के केंद्रीय बैंकों द्वारा ब्‍याज दरों में बढ़ोतरी से मांग में कमी से मंदी आने की आशंका और डॉलर मजबूत होने से निवेशक शेयर बाजार से दूर हो रहे हैं.  अमेरिका में बेकाबू महंगाई, ब्रिटेन सहित लगभग बड़े यूरोपिय देशों में खराब होते आर्थिक हालात भी एशियाई बाजारों के लिए विलेन बन गए हैं. आज शुरुआती कारोबार में ही भारत सहित लगभग सभी एशियाई बाजार गिर गए हैं.

बुधवार को भारतीय शेयर बाजारों में लगातार छठे कारोबारी सत्र में गिरावट दिखी और सेंसेक्‍स खुलते ही 500 अंक टूट गया.सुबह 9.28 बजे सेंसेक्‍स 519 अंकों के नुकसान के साथ 56,589 पर ट्रेडिंग कर रहा था, जबकि निफ्टी 159 अंक टूटकर 16,871 पर पहुंच गया. जापान का निक्‍की 2.1% और दक्षिण कोरियाई शेयर बाजार 2.4% गिरकर दो साल के निचले स्तर पर आ गए हैं. चीन के हालात भी कुछ अच्‍छे नहीं है. चीनी ब्लू चिप्स 0.6% गिरा है. वहीं, अमेरिकी एसएंडपी 500 वायदा 0.8% फिसल गया है. जबकि नैस्डैक वायदा 1.0% गिरा. S&P 500 लगातार 7 सत्रों गिर रहा है.

ये भी पढ़ें-  RBI MPC Meeting : आरबीआई की बैठक आज से, महंगाई फिर होगी बड़ा मुद्दा, रेपो रेट बढ़ा तो महंगा होगा कर्ज

MSCI सूचकांक दो साल के निचले सत्र पर
मनीकंट्रोल की एक रिपोर्ट के अनुसार, बढ़ती ब्‍याज दरों और और धीमी वृद्धि दर शेयर बाजारों के लिए बहुत घातक है. जापान को छोड़कर एशिया-प्रशांत शेयरों का MSCI सूचकांक 1.7% गिरकर अप्रैल 2020 के बाद से अपने सबसे निचले स्तर पर आ गया है. आज भी चीन का यूआन डॉलर के मुकाबले रिकॉर्ड लो पर चला गया है. वहीं, भारतीय रुपया भी डॉलर के मुकाबले 81.83 के रिकॉर्ड निचले स्‍तर पर चला गया है.

क्‍यों आ रही है गिरावट?
अमेरिकी बॉन्‍ड यील्‍ड के 4 फीसदी से ऊपर होने और अमेरिकी फेडरल रिजर्व के ब्‍याज दरों में बढ़ोतरी करने की संभावना एशियाई बाजारों को उठने नहीं दे रही है. कैपिटल इकनोमिक्‍स में ग्‍लोबल इकनोमिक्‍स के हेड जेनिफर मेककैन  का कहना है कि, “अब यह स्पष्ट हो गया है कि विकसित अर्थव्‍यवस्‍थाओं के केंद्रीय बैंक अपनी ब्‍याज दरों को बढ़ाएंगे और दरें तीन दशक के उच्‍चतम स्‍तर पर होंगी. अगले साल में हमें वैश्विक मंदी दिखेगी भी और यह महसूस भी होगी. इसलिए हम कह रहे हैं कि मंदी आ रही है.” मंदी की आशंका से निवेशक बुरी तरह डरे हुए हैं.

ये भी पढ़ें-  Multibagger Stocks : इस स्टॉक ने अपने निवेशकों को दिया 259 गुना का छप्परफाड़ रिटर्न, पैसे लगा मालामाल हुए निवेशक

यूरोप के खराब हालात
जेपी मॉर्गन के विश्लेषकों ने एक नोट में कहा कि ब्रिटेन द्वारा अपनी आर्थिक नीतियों में बदलाव और इटली में सत्‍ता दक्षिणपंथी पार्टी के हाथ में आने से यूरोप के हालातों में फिलहाल सुधार आने की संभावना नहीं है. यूरोप में महंगाई उच्‍च स्‍तर पर है और यूरोपियन सॉवेरिन यील्‍ड भी दो साल के उच्‍च स्‍तर पर चली गई है. स्‍टर्लिंग और यूके बॉन्‍ड में गिरावट का भी नकारात्‍मक असर हो रहा है.

रेटिंग एजेंसी मूडीज के ब्रिटेन सरकार की कर कटौती को देश की अर्थव्‍यवस्‍था के लिए खतरनाक बताने के बाद स्टर्लिंग और दबाव में आ गया है. मूडीज का कहना है कि ब्रिटेन का यह कदम देश की क्रेडिट स्थिति के लिए नकारात्मक है. डॉयचे बैंक में एफएक्स रणनीति के वैश्विक प्रमुख जॉर्ज सरवेलोस ने कहा कि निवेशक चाहते हैं कि ब्रिटेन के घाटे का वित्‍तपोषण हो. बाजार चाहता है कि ब्रिटेन की मुद्रा में स्थिरता आए. अगर ऐसा नहीं होगा तो मुद्रा और गिरेगी, महंगाई बढ़ेगी जो और परेशानियां पैदा करेंगी.

Tags: Business news in hindi, Recession, Share market, Stock market

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें