लाइव टीवी

शेयर बाजार में भारी गिरावट, इस वजह से सेंसेक्स 807 और निफ्टी 251 अंक से गिरकर बंद, अब क्या करें निवेशक

News18Hindi
Updated: February 24, 2020, 5:14 PM IST
शेयर बाजार में भारी गिरावट, इस वजह से सेंसेक्स 807 और निफ्टी 251 अंक से गिरकर बंद, अब क्या करें निवेशक
निवेशकों के डूबे 3.17 लाख करोड़ रुपये

BSE का 30 शेयरों वाला प्रमुख बेंचमार्क इंडेक्स सेंसेक्स 807 अंक गिरकर 40,363 पर बंद हुआ है. वहीं, NSE के 50 शेयरों वाले प्रमुख बेंचमार्क इंडेक्स निफ्टी 251 अंक गिरकर 11,829 पर बंद. इस गिरावट में निवेशकों के कुछ ही घंटों में 3.17 लाख करोड़ रुपये स्वाहा हो गए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 24, 2020, 5:14 PM IST
  • Share this:
मुंबई. हफ्ते के पहले कारोबारी दिन घरेलू शेयर बाजार में भारी गिरावट (Stock Market Crash) देखने को मिल रही है. चीन के बाद अब दक्षिण कोरिया में जानलेवा कोरोना वायरस (China Corona Virus) फैलने की खबरों की वजह से दुनियाभर के बाजारों में आई गिरावट का असर सेंसेक्स (Sensex Live) और निफ्टी (Nifty Live) पर दिखा है. BSE का 30 शेयरों वाला प्रमुख बेंचमार्क इंडेक्स सेंसेक्स 807 अंक गिरकर 40,363 पर बंद हुआ है. वहीं, NSE के 50 शेयरों वाले प्रमुख बेंचमार्क इंडेक्स निफ्टी 251 अंक गिरकर 11,829 पर बंद. इस गिरावट में निवेशकों के कुछ ही घंटों में 3.17 लाख करोड़ रुपये स्वाहा हो गए हैं. एक्सपर्ट्स का कहना है कि चीन के कोरोना वायरस की वजह से बिजनेस एक्टिविटी बेहद धीमी हो गई हैं. इसीलिए अर्थशास्त्रियों (Economist) ने ग्लोबल ग्रोथ का अनुमान घटा दिया है.

क्यों आई शेयर बाजार में गिरावट (Why Stock Market Down in India)- वीएम पोर्टफोलियों के रिसर्च हेड विवेक मित्तल ने न्यूज18 हिंदी को बताया कि शेयर बाजार में गिरावट की मुख्य वजह जानलेवा कोरोना वायरस (China Corona Virus) है. उन्होंने बताया कि चीन के बाद अब एशिया की बड़ी अर्थव्यवस्था दक्षिण कोरिया में कोरोना वायरस फैलने की खबरें आ रही हैं. ऐसे में बिजनेस एक्टिविटी कम होने की चिंता ने बाजार पर दबाव बनाया है.

शेयर बाजार में निवेश इन दिनों निवेशकों को असुरक्षित लग रहा है. निवेशक यहां से निवेश निकालकर सोना और डॉलर में निवेश करने में फआयदा देख रहे हैं. अंतर्राष्ट्रीय  मार्केट में फरवरी 2012 के सबसे उच्चतम स्तर से 2 फीसदी बढ़ गए हैं. कोरोना के चलते कई देशों को ग्लोबल इकनॉमिक ग्रोथ में तेज गिरावट का अंदेशा है. इसी वजह से निवेशक सुरक्षित निवेश मदों को चुन रहे हैं. घरेलू बाजार की बात करें तो सोनवा 0.80 फीसदी की तेजी के साथ ट्रेड कर रहा है.

इस हफ्ते जीडीपी के आंकड़े भी जारी किए जाएंगे. शेयर बाजार के निवेशकों को आशंका है कि मौजूदा वित्त वर्ष के लिए जीडीपी का अनुमान और कम हो सकता है. NCAER के मुताबिक, NSO के अनुमानित 5 फीसदी से कम होकर यह दर 4.9 फीसदी रह सकती है.



शेयर बाजार में भारी गिरावट
मेटल कंपनियों के शेयरों में 6 फीसदी तक की गिरावट देखने को मिली है. निवेशक कोरोना के प्रकोप से भी निराश हैं. हिंडाल्को, टाटा स्टील, सेल, जिंदल स्टील सभी में गिरावट देखने को मिल रही है. दिन के कारोबार में निफ्टी के सभी 50 शेयरों और सेंसेक्स के सभी 30 शेयरों में बिकवाली देखने को मिली. वहीं बैंक निफ्टी के सभी 12 शेयरों में गिरावट हावी रही. BSE और NSE के सभी सेक्टर इंडेक्स गिरावट के साथ बंद हुए है. दिग्गज शेयरों के साथ ही मिड और स्मॉल कैप इंडेक्स भी 1 फीसदी से ज्यादा टूटकर बंद हुए हैं.

दिन के कारोबार मेटल इंडेक्स में 4.5 साल की बड़ी गिरावट देखने को मिली. निफ्टी का मेटल इंडेक्स आज 5.36 फीसदी टूटकर बंद हुआ है जबकि ऑटो इंडेक्स 3.51 फीसदी की गिरावट के साथ 4 महीने के निचले स्तर पर बंद हुआ है. इधर बैंकिंग शेयरों में गिरावट के चलते बैंक निफ्टी 1.52 फीसदी टूटकर 30471 के स्तर पर बंद हुआ है.

निफ्टी का पीएसयू बैंक इंडेक्स 2.78 फीसदी और प्राइवेट बैंक इंडेक्स 1.51 फीसदी टूटकर बंद हुआ हैं. निफ्टी का रियल्टी इंडेक्स 2.16 फीसदी, फार्मा इंडेक्स 3.09 फीसदी, मीडिया इंडेक्स 2.07 फीसदी, आईटी इंडेक्स 1.18 फीसदी, एफएमसीजी इंडेक्स 1.56 फीसदी और फाइनेशिंयल सर्विसेस इंडेक्स 1.73 फीसदी टूटकर बंद हुआ हैं.

ट्रंप के भारत दौरे से क्या हैं उम्मीदें-  एक्सपर्ट्स का कहना हैं कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की भारत यात्रा में कोई बड़ी डील होने की उम्मीद नहीं हैं. इसीलिए शेयर बाजार पहले से ही इन चीजों का डिस्काउंट कर चुका है.

ट्रंप की यात्रा के दौरान भारत और अमेरिका के बीच सी हॉक हेलीकॉप्टर्स की 2.6 बिलियन डॉलर्स की डील हो सकती है. इसके अलावा भारत अमेरिका से डेटा स्पीड की दुनिया में नई क्रांति 5G को लेकर भी बातचीत करेगा. ट्रंप की यात्रा के दूसरे दिन यानी मंगलवार को दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय बैठक होनी है, जिसमें इस विषय पर चर्चा हो सकती है.

US Federal Communciations Commission के चेयरमैन अजीत पई ने रविवार को ट्वीट कर बताया कि वो ट्रंप की यात्रा के दौरान अपने भारतीय समकक्षों के साथ 5G पर चर्चा करेंगे. पई यात्रा पर आ रहे ट्रंप के डेलीगेशन में शामिल हैं. पई ने एक ट्वीट में कहा- 'हम समान हित के विषयों, जैसे- 5G और डिजिटल गैप पर चर्चा करेंगे और दुनिया के सबसे पुराने और सबसे बड़े लोकतंत्र के बीच की दोस्ती को मजबूत करने का लक्ष्य रखेंगे.'

5G, 4G के बाद वायरलेस टेक की दुनिया का नेक्स्ट जेनरेशन है. 5G इंटरनेट की नई स्पीड है, जिसे लेकर दुनिया भर में उत्साह है. 5G की मदद से एग्रीकल्चर, मैन्यूफैक्चरिंग सहित हेल्थकेयर और एजुकेशन जैसे सेक्टर्स में बड़ा बदलाव आ सकता है. भारत में पहले ही इसके स्पेक्ट्रम की नीलामी की तैयारियां हो चुकी हैं. पिछले महीने department of telecommunications (DoT) ने अप्रैल में होने वाली नीलामी के लिए स्पेक्ट्रम की कीमतें तय कर दी हैं.

Livemint की खबर के मुताबिक, सरकार 8,300 megahertz (MHz) में से 6,050MHz एयरवेव्स 5G के लिए अलॉट कर सकती है. 3,300-3,600MHz के 5G का बैंड अलोकेशन 492 करोड़ रुपये प्रति megahertz पर किया गया है. 31 दिसंबर को सरकार ने 5G शुरू करने के लिए ऑपरेटरों और वेंडरों से मुलाकात की. जनवरी से मार्च के बीच होने वाले ट्रायल के लिए उन्हें 15 जनवरी तक सबमिशन भेजना था. सरकार फिलहाल आए हुए आवदेनों का आकलन कर रही है. भारत में चीन की कंपनी Huawei भारतीय टेलीकॉम कंपनियों Bharti Airtel और Vodafone Idea के साथ 5G ट्रायल की तैयारियां कर रही है, लेकिन अमेरिका ने Huawei पर पिछले साल बैन लगा दिया था और आरोप लगाया था कि यह चीनी कंपनी दूसरे देशों में जासूसी कर रही है लेकिन कंपनी ने इससे इनकार किया था.

अमेरिका ने दूसरे देशों को भी Huawei के इस्तेमाल को लेकर चेतावनी दी थी. इसके बाद ऑस्ट्रेलिया और जापान ने भी कंपनी पर बैन लगा दिया है. कई दूसरे देश हैं, जो कंपनी पर बैन लगा सकते हैं लेकिन रूस, इंडोनशिया, साउथ कोरिया सहित कई ऐसे देश हैं, जो Huawei को मौका दे रहे हैं. भारत ने Huawei को बैन करने न करने पर फिलहाल कोई फैसला नहीं लिया है.

ये भी पढ़ें-अमेरिका के बाद भारत में है राष्ट्रपति Donald Trump का सबसे बड़ा कारोबार, जानिए कितने लाख करोड़ की है सम्पति?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 24, 2020, 3:45 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

भारत

  • एक्टिव केस

    5,095

     
  • कुल केस

    5,734

     
  • ठीक हुए

    472

     
  • मृत्यु

    166

     
स्रोत: स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार
अपडेटेड: April 09 (08:00 AM)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर

दुनिया

  • एक्टिव केस

    1,099,679

     
  • कुल केस

    1,518,773

    +813
  • ठीक हुए

    330,589

     
  • मृत्यु

    88,505

    +50
स्रोत: जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी, U.S. (www.jhu.edu)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर