Home /News /business /

स्‍टॉक ट्रेडर्स का घटेगा जोखिम! आज से 100% मार्जिन के नियम हो रहे हैं लागू, जानें क्‍यों नाराज हैं ट्रेडर्स

स्‍टॉक ट्रेडर्स का घटेगा जोखिम! आज से 100% मार्जिन के नियम हो रहे हैं लागू, जानें क्‍यों नाराज हैं ट्रेडर्स

SEBI के 100 फीसदी मार्जिन के नियम लागू होने से मार्जिन का फायदा खत्म हो जाएगा.

SEBI के 100 फीसदी मार्जिन के नियम लागू होने से मार्जिन का फायदा खत्म हो जाएगा.

पूंजी बाजार नियामक सेबी (SEBI) आज से 100 फीसदी मार्जिन के नियम (New Margin Rules) पूरी तरह लागू कर रहा है. अब कैश और फ्यूचर्स एंड ऑप्‍शंस (Cash and FnO) में पूरा मार्जिन देना होगा. मार्जिन घटने पर पेनाल्‍टी (Penalty) भरनी होगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated :

    नई दिल्‍ली. पूंजी बाजार नियामक सेबी (SEBI) आज से स्‍टॉक ट्रेडर्स (Stock Traders) के लिए नए नियम लागू कर रहा है. इसके तहत आज से 100 फीसदी मार्जिन के नियम (New Margin Rules) पूरी तरह लागू हो रहे हैं. अब कैश और फ्यूचर्स एंड ऑप्‍शंस (Cash and FnO) में पूरा मार्जिन देना होगा. इससे ट्रेडर्स की दुनिया पूरी तरह बदलने वाली है. दरअसल, अब ट्रेडर्स को 100 फीसदी अपफ्रंट मार्जिन देना होगा यानी कैश और एफएंडओ दोनों पर पूरा मार्जिन देना होगा. साथ ही इंट्राडे ट्रेडिंग (Intra-day Trading) में भी पूरा मार्जिन देना होगा. किसी भी समय मार्जिन घटने पर पेनाल्टी (Penalty) भरनी होगी.

    ब्रोकर ज्‍यादा से ज्‍यादा कितना मार्जिन देंगे?
    कैश में वैल्‍यू ऐट रिस्‍क मार्जिन (VaR Margin) और एक्‍स्‍ट्रीम लॉस मार्जिन (ELM) का जोड़ यानी 20 फीसदी मार्जिन होगा. ब्रोकर 5 गुना से ज्यादा मार्जिन नहीं दे सकेगा. फ्यूचर्स एंड ऑप्‍शंस में स्‍पैन एक्‍सपोजर मार्जिन (Span Exposure Margin) लगेगा. अब एफएनओ में इंट्राडे में भी नॉर्मल मार्जिन लगेगा. एक तरह से मार्जिन इंट्राडे स्‍कवायर ऑफ प्रोडक्ट (MIS Product) का कोई मतलब नहीं रह जाएगा.

    ये भी पढ़ें- अब Google, Amazon, Facebook और Xiaomi भी देंगे कारोबार के लिए लोन, चेक करें डिटेल्‍स

    जोखिम घटने पर भी नाराज हैं क्‍यों ट्रेडर्स?
    सेबी ट्रेडर्स का जोखिम घटाने के लिए 100 फीसदी मार्जिन का नियम लागू कर रहा है. दरअसल, कई ब्रोकर इंट्राडे में 50 गुना तक मार्जिन देते थे. इसके अलावा ब्रैकेट या बास्केट ऑर्डर के जरिये भारी मार्जिन देते थे. भारी मार्जिन से ट्रेडर का जोखिम बढ़ता है. यहां तक कि ब्रोकर्स के डिफॉल्ट होने का खतरा भी रहता है. हालांकि, इन नियमों के लागू होने से मार्जिन का फायदा खत्म हो जाएगा. ट्रेडर्स कम पैसे में बड़ी पोजिशन नहीं ले पाएंगे. नए नियमों से ट्रेडिंग के वॉल्यूम पर असर पड़ सकता है. वॉल्यूम घटने से लिक्विडिटी पर असर पड़ सकता है. ट्रेडिंग में स्लिपेज बढ़ने का खतरा भी है. इसलिए ट्रेडर्स नए नियमों को लेकर नाराज हैं.

    ये भी पढ़ें- Indian Economy के लिए अच्‍छे संकेत, लो बेस इफेक्‍ट के कारण जून 2021 तिमाही में जीडीपी ग्रोथ 20.1% रही

    ऑप्शंस ट्रेडर्स पर क्‍या पड़ेगा असर?
    पूंजी बाजार नियामक ने पिछले साल नए नियम लागू किए थे. नेकेड ऑप्शन सेलिंग में मार्जिन बढ़ा दिया था. हेज्ड पोजिशन पर मार्जिन में भारी कमी की गई है. हेज्ड पोजिशन पर जोखिम घटने का फायदा मिला है. सेलर आउट ऑफ द मनी ऑप्शन (OTM Options) खरीदकर मार्जिन घटा सकते हैं. नए नियमों के लागू होने से ऑप्‍शंस में ट्रेडिंग करने वालों पर कोई असर नहीं पड़ेगी.

    Tags: Business news in hindi, Investment and return, SEBI, Share market, Stock Markets

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर