NPS और APY की ओर बढ़ा रुझान, जनवरी में 22 फीसदी बढ़ी सब्सक्राइबर की संख्या

अटल पेंशन योजना के तहत सब्सक्राइबर की संख्या जनवरी 2021 में 31.17 फीसदी बढ़कर 2.65 करोड़ पहुंच गई.

अटल पेंशन योजना के तहत सब्सक्राइबर की संख्या जनवरी 2021 में 31.17 फीसदी बढ़कर 2.65 करोड़ पहुंच गई.

पीएफआरडीए (PFRDA) के मुताबिक, एनपीएस (NPS) के तहत केंद्र सरकार के कर्मचारियों की संख्या जनवरी 2021 में 3.74 फीसदी बढ़कर 21.61 लाख रही

  • Share this:
नई दिल्ली. सरकारी पेंशन योजना एनपीएस (National Pension System) और एपीवाई (Atal Pension Yojana) के सब्सक्राइबर की कुल संख्या इस साल जनवरी के अंत में करीब 22 फीसदी बढ़कर 4.05 करोड़ पहुंच गई. पेंशन फंड रेगुलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी यानी पीएफआरडीए (Pension Fund Regulatory and Development Authority) के आंकड़ों के मुताबिक, एक साल पहले इसी अवधि में दोनों योजनाओं से जुड़े सब्सक्राइबर की संख्या 3.33 करोड़ थी.

पीएफआरडीए (PFRDA) ने शुक्रवार को एक बयान में कहा कि सालाना आधार पर यह 21.63 फीसदी वृद्धि को बताता है. पीएफआरडीए आंकड़े के मुताबिक, अटल पेंशन योजना के तहत सब्सक्राइबर की संख्या जनवरी 2021 में 31.17 फीसदी बढ़कर 2.65 करोड़ पहुंच गई जो एक साल पहले इस दौरान 2.02 करोड़ थी.

ये भी पढ़ें- Gold Price Today: गोल्‍ड के दाम में आज आई जबरदस्‍त गिरावट, अब तक 10000 रु हुआ सस्ता, फटाफट देखें नए भाव

पेंशन फंड रेगुलेटरी एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी के मुताबिक, एनपीएस के तहत केंद्र सरकार के कर्मचारियों की संख्या जनवरी 2021 में 3.74 फीसदी बढ़कर 21.61 लाख रही जबकि राज्य सरकार के कर्मचारियों का आधार 7.44 फीसदी बढ़कर 50.43 लाख रहा. एनपीएस के तहत सभी नागरिक श्रेणी में सब्सक्राइबर  की संख्या 31.72 फीसदी बढ़कर 14.95 लाख जबकि कॉरपोरेट क्षेत्र में 17.71 फीसदी बढ़कर 10.90 लाख पहुंच गई.
पीएफआरडीए ने कहा कि एनपीएस लाइट के तहत एक अप्रैल, 2015 से पंजीकरण की मंजूरी नहीं है. इसके अंतर्गत सब्सक्राइबर की संख्या जनवरी 2021 के अंत में 43.07 लाख रही. एनपीएस लाइट उन लोगों को ध्यान में रखकर तैयार किया गया है, जो आर्थिक रूप से कमजोर हैं.

ये भी पढ़ें- Bitcoin ने बनाया नया रिकॉर्ड! पहली बार मार्केट कैप हुआ 1 ट्रिलियन डॉलर के पार, फरवरी में अब तक 70% का उछाल

पीएफआरडीए के मुताबिक, 31 जनवरी, 2021 तक कुल पेंशन प्रबंधन अधीन परिसंपत्ति 5,56,410 करोड़ रुपये रही जो सालाना आधर पर 35.94 प्रतिशत वृद्धि को बताता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज