• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • पंडित किराए पर देने का शुरू किया बिजनेस, सालाना कमा रहे हैं करोड़ों

पंडित किराए पर देने का शुरू किया बिजनेस, सालाना कमा रहे हैं करोड़ों

ऐप के जरिए ही पंडित बुक किए जा सकते हैं और ई-स्टोर में पूजा सामग्री ऑर्डर भी की जा सकती है.

ऐप के जरिए ही पंडित बुक किए जा सकते हैं और ई-स्टोर में पूजा सामग्री ऑर्डर भी की जा सकती है.

ऐप के जरिए ही पंडित बुक किए जा सकते हैं और ई-स्टोर में पूजा सामग्री ऑर्डर भी की जा सकती है.

  • Share this:
    अब लोग आनुष्ठानिक काम घर बैठे कर लेना चाहते हैं. टेक्नोलॉजी ने ऐसे नए-नए स्टार्टअप पैदा कर दिए हैं. माय ओम नमो ऐप भी ऐसा ही ऐप है जिसकी बदौलत अब पूजा अलग और खास बनी है. इस ऐप के जरिए ही पंडित बुक किए जा सकते हैं और ई-स्टोर में पूजा सामग्री ऑर्डर भी की जा सकती है. यहां तक कि फूल, केले के पत्ते और प्रसाद का जिम्मा भी माय ओम नमो ऐप लेता है. 2020 तक कंपनी का वैल्युएशन 10 करोड़ डॉलर करने का का लक्ष्य है.  कंपनी के पास फिलहाल 2500 रजिस्टर्ड पुरोहित हैं जो 12 भाषाओं में पूजा कर सकते हैं. पिछले 2 साल में भारत में कंपनी 5000 से ज्यादा पूजा और यूएई में 1000 से अधिक पूजा कर चुकी है. (ये भी पढ़ें: SBI Alert! अगर आया है ये मेसेज तो फटाफट करें ये काम, वरना बैंक रोक देगा पैसों का लेन-देन)

    ऐसे शुरू हुई कंपनी- मकरंद पाटिल ग्राहकों के लिए माय ओम नमो ऐप लेकर आए हैं. दुबई में पूजा के लिए पंडित मिल पाने की अड़चन के बाद मकरंद और उनकी पत्नी प्राजक्ता ने टेक्नोलॉजी की मदद से आध्यात्म से जुड़ी सारी दिक्कतों का हल ढूंढने की कोशिश की और तगड़ी रिसर्च के बाद 2016 में स्पिरिच्युअल इंडस्ट्री के वन स्टॉप माय ओम नमो की शुरुआत की गई. आज इस ऐप पर ग्राहकों के लिए 156 पूजा करने के विकल्प मौजूद हैं.

    इस कारोबार को शुरू करते वक्त पूजा करवाने में ग्राहकों को किसी परेशानी का सामना ना करना पड़े इस बात पर फोकस करते हुए बिजनेस डिजाइन किया गया. 30 अरब डॉलर के स्पिरिच्युअल मार्केट में धमाकेदार एंट्री लेने के लिए जरुरी था इस क्षेत्र की बारिकियां समझ लेना और इस काम के लिए जानकारों की मदद फाउंडर्स के काम आई.

    ये भी पढ़ें: सचिन बंसल ने ओला में 150 करोड़ का निवेश किया, Flipkart छोड़ने के बाद किया अपना पहला निवेश

    क्या करती है उनकी ऐप- माय ओम नमो के ई-स्टोर में ऑर्गेनिक पूजा सामग्री के अलावा डेली पंडित एक्टिविटी, ब्राम्हण भोज, भजन कीर्तन, माता की चौकी, मंदिर में दान- दक्षिणा देना, मंदिर में वीआईपी एंट्री जैसी सर्विसेज हैं. साथ ही एस्ट्रोलॉजी, वास्तु एक्सपर्ट, टैरो कार्ड रीडर की सर्विसेज का फायदा भी ग्राहक यहां से उठा सकते हैं. ग्राहकों के सुझाव और जरुरतों को ध्यान में रखते हुए कंपनी इस प्लेटफॉर्म पर नई-नई सर्विसेज शामिल करती रहती है.

    2020 तक वैल्युएशन 10 करोड़ डॉलर कने का लक्ष्य- माय ओम नमो में फाउंडर्स ने 50 लाख का स्टार्टअप कैपिटल लगाया और महज दो सालों में भारत के 10 शहरों में और यूएई, स्पेन घाना जैसे मार्केट में पहुंच बनाई है. हाल ही में कंपनी ने यूएई के एचएनआई से 10 लाख डॉलर की प्री-सीरीज फंडिंग जुटाई है. अब माय ओम नमो का दायरा मलेशिया, सिंगापुर, बहरीन, ओमान और यूके के बाजारों में बढ़ने जा रहा है. साथ ही बच्चों के लिए हिंदू धर्म की पौराणिक कथाओं पर कार्टून सीरिज बनाने की तैयारी फाउंडर्स कर रहे हैं. 2020 तक कंपनी का वैल्युएशन 10 करोड़ डॉलर करने का का लक्ष्य है. कंपनी की आय सालाना आय करीब 70 करोड़ रुपये है.

    ये भी पढ़ें: इस राज्‍य में मिलने लगा है आरक्षण का लाभ, आप भी बनवा लें ये आठ डॉक्‍यूमेंट

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज